Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Bhajan/Aarti / Mantra/ Chalisa Lyrics » धार्मिक उन्माद फैलाना

धार्मिक उन्माद फैलाना

dharmik-unmad-falana

dharmik-unmad-falana

Dharmik Unmad Falana Story

तर्ज-तेरी मेरी कट्टी हो जाएगी(रामावतार शर्मा जी का)

धार्मिक उन्माद फैलाना, झगड़ों को और बढ़ाना, है कोई अच्छी बात नहीं
भड़काऊ गीतों को गाना, पागल जैसे चिल्लाना, है कोई अच्छी बात नहीं

हिन्दू मुस्लिम जब भाई हैं, फिर बोलो कैसी लड़ाई है-(२)
दिल में नफरत भड़काना, खुद को ऊँचा बतालाना, है कोई अच्छी बात नहीं

जो होगा अल्लाह जाने है, भगवान ही सब पहचाने है-(२)
फिर क्या माथा फुड़वाना, अपनी ताकत को बताना, है कोई अच्छी बात नहीं

गाना हो तो ऐसे भजन गाओ, जिनसे झगड़ों को सुलझाओ
फिर आग में घी का मिलाना, नफ़रत शब्दों से जताना, दर्शाये मर्द की जात नहीं

मन्दिर मन्दिर चिल्लाते हो, उनको यूँ तुम क्यूँ चिढ़ाते हो
भूमी तो रामलला की है,फिर क्यूँ इतना घबराते हो
मन्दिर तो बन के रहेगा, जब राम धनुष चल देगा, फिर मुश्किल कोई बात नहीं

जो रामलला का है सो है,फिर बोलो कैसा झगड़ा है
जिन बातों को इतिहास कहे,उसमें फिर कैसा लफड़ा है
पड़ सकता है पछताना,आपस में भेद जताना,’मोहित’ की मानो बात सही

 


 

tarj-teree meree kattee ho jaegee (raamaavataar sharma jee ka)

dhaarmik unmaad phailaana, jhagadon ko aur badhaana, hai koee achchhee baat nahin
bhadakaoo geeton ko gaana, paagal jaise chillaana, hai koee achchhee baat nahin

hindoo muslim jab bhaee hain, phir bolo kaisee ladaee hai- (2)
dil mein napharat bhadakaana, khud ko ooncha bataalaana, hai koee achchhee baat nahin

jo hoga allaah jaane hai, bhagavaan hee sab pahachaane hai- (2)
phir kya maatha phudavaana, apanee taakat ko bataana, hai koee achchhee baat nahin

gaana ho to aise bhajan gao, jinase jhagadon ko sulajhao
phir aag mein ghee ka milaana, nafarat shabdon se jataana, darshaaye mard kee jaat nahin

mandir mandir chillaate ho, unako yoon tum kyoon chidhaate ho
bhoomee to raamalala kee hai, phir kyoon itana ghabaraate ho
mandir to ban ke rahega, jab raam dhanush chal dega, phir mushkil koee baat nahin

jo raamalala ka hai so hai, phir bolo kaisa jhagada hai
jin baaton ko itihaas kahe, usamen phir kaisa laphada hai
p

Comments

comments