Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » दृष्टिकोण का फ़र्क (difference in attitude of mind)

दृष्टिकोण का फ़र्क (difference in attitude of mind)

difference-in-attitude-of-mind

difference-in-attitude-of-mind

difference in attitude of mind

difference in attitude of mind

बहुत समय पहले की बात है ,किसी गाँव में एक किसान रहता था . वह रोज़ भोर में उठकर दूर झरनों से स्वच्छ पानी लेने जाया करता था . इस काम के लिए वह अपने साथ दो बड़े घड़े ले जाता था , जिन्हें वो डंडे में बाँध कर अपने कंधे पर दोनों ओर लटका लेता था . उनमे से एक घड़ा कहीं से फूटा हुआ था ,और दूसरा एक दम सही था . इस वजह से रोज़ घर पहुँचते -पहुचते किसान के पास डेढ़ घड़ा पानी ही बच पाता था .ऐसा दो सालों से चल रहा था . सही घड़े को इस बात का घमंड था कि वो पूरा का पूरा पानी घर पहुंचता है और उसके अन्दर कोई कमी नहीं है, वहीँ दूसरी तरफ फूटा घड़ा इस बात से शर्मिंदा रहता था कि वो आधा पानी ही घर तक पंहुचा पाता है और किसान की मेहनत बेकार चली जाती है .

फूटा घड़ा ये सब सोच कर बहुत परेशान रहने लगा और एक दिन उससे रहा नहीं गया ,

उसने किसान से कहा , “ मैं खुद पर शर्मिंदा हूँ और आपसे क्षमा मांगना चाहता हूँ?”

“क्यों ? “ , किसान ने पूछा , “ तुम किस बात से शर्मिंदा हो ?”

“शायद आप नहीं जानते पर मैं एक जगह से फूटा हुआ हूँ , और पिछले दो सालों से मुझे जितना पानी घर पहुँचाना चाहिए था बस उसका आधा ही पहुंचा पाया हूँ , मेरे अन्दर ये बहुत बड़ी कमी है ,

और इस वजह से आपकी मेहनत बर्वाद होती रही है .”,

फूटे घड़े ने दुखी होते हुए कहा. किसान को घड़े की बात सुनकर थोडा दुःख हुआ और वह बोला , “ कोई बात नहीं , मैं चाहता हूँ कि आज लौटते वक़्त तुम रास्ते में पड़ने वाले सुन्दर फूलों को देखो .” घड़े ने वैसा ही किया , वह रास्ते भर सुन्दर फूलों को देखता आया , ऐसा करने से उसकी उदासी कुछ दूर हुई पर घर पहुँचते – पहुँचते फिर उसके अन्दर से आधा पानी गिर चुका था, वो मायूस हो गया और किसान से क्षमा मांगने लगा .

किसान बोला ,” शायद तुमने ध्यान नहीं दिया पूरे रास्ते में जितने भी फूल थे वो बस तुम्हारी तरफ ही थे , सही घड़े की तरफ एक भी फूल नहीं था . ऐसा इसलिए क्योंकि मैं हमेशा से तुम्हारे अन्दर की कमी को जानता था , और मैंने उसका लाभ उठाया . मैंने तुम्हारे तरफ वाले रास्ते पर रंग -बिरंगे फूलों के बीज बो दिए थे , तुम रोज़ थोडा-थोडा कर के उन्हें सींचते रहे और पूरे रास्ते को इतना खूबसूरत बना दिया .

आज तुम्हारी वजह से ही मैं इन फूलों को भगवान को अर्पित कर पाता हूँ और अपना घर सुन्दर बना पाता हूँ . तुम्ही सोचो अगर तुम जैसे हो वैसे नहीं होते तो भला क्या मैं ये सब कुछ कर पाता ?” दोस्तों हम सभी के अन्दर कोई ना कोई कमी होती है , पर यही कमियां हमें अनोखा बनाती हैं .

उस किसान की तरह हमें भी हर किसी को वो जैसा है वैसे ही स्वीकारना चाहिए और उसकी अच्छाई की तरफ ध्यान देना चाहिए, और जब हम ऐसा करेंगे तब “फूटा घड़ा” भी “अच्छे घड़े” से मूल्यवान हो जायेगा.

wish4me to English

Bahut samay pahale kee baat hai ,kisee gaanv men ek kisaan rahataa thaa . Vah roza bhor men uṭhakar door jharanon se svachchh paanee lene jaayaa karataa thaa . Is kaam ke lie vah apane saath do bade ghade le jaataa thaa , jinhen vo ḍanḍae men baandh kar apane kndhe par donon or laṭakaa letaa thaa . Uname se ek ghadaa kaheen se fooṭaa huaa thaa ,aur doosaraa ek dam sahee thaa . Is vajah se roza ghar pahunchate -pahuchate kisaan ke paas ḍaeḍhx ghadaa paanee hee bach paataa thaa . Aisaa do saalon se chal rahaa thaa . Sahee ghade ko is baat kaa ghamnḍa thaa ki vo pooraa kaa pooraa paanee ghar pahunchataa hai aur usake andar koii kamee naheen hai, vaheen doosaree taraf fooṭaa ghadaa is baat se sharmindaa rahataa thaa ki vo aadhaa paanee hee ghar tak pnhuchaa paataa hai aur kisaan kee mehanat bekaar chalee jaatee hai . Fooṭaa ghadaa ye sab soch kar bahut pareshaan rahane lagaa aur ek din usase rahaa naheen gayaa ,

usane kisaan se kahaa , “ main khud par sharmindaa hoon aur aapase kṣamaa maanganaa chaahataa hoon?”

“kyon ? “ , kisaan ne poochhaa , “ tum kis baat se sharmindaa ho ?”

“shaayad aap naheen jaanate par main ek jagah se fooṭaa huaa hoon , aur pichhale do saalon se mujhe jitanaa paanee ghar pahunchaanaa chaahie thaa bas usakaa aadhaa hee pahunchaa paayaa hoon , mere andar ye bahut badee kamee hai ,

aur is vajah se aapakee mehanat barvaad hotee rahee hai .”,

fooṭe ghade ne dukhee hote hue kahaa. Kisaan ko ghade kee baat sunakar thoḍaa duahkh huaa aur vah bolaa , “ koii baat naheen , main chaahataa hoon ki aaj lauṭate vaqat tum raaste men padne vaale sundar foolon ko dekho .” ghade ne vaisaa hee kiyaa , vah raaste bhar sundar foolon ko dekhataa aayaa , aisaa karane se usakee udaasee kuchh door huii par ghar pahunchate – pahunchate fir usake andar se aadhaa paanee gir chukaa thaa, vo maayoos ho gayaa aur kisaan se kṣamaa maangane lagaa . Kisaan bolaa ,” shaayad tumane dhyaan naheen diyaa poore raaste men jitane bhee fool the vo bas tumhaaree taraf hee the , sahee ghade kee taraf ek bhee fool naheen thaa . Aisaa isalie kyonki main hameshaa se tumhaare andar kee kamee ko jaanataa thaa , aur mainne usakaa laabh uṭhaayaa . Mainne tumhaare taraf vaale raaste par rng -birnge foolon ke beej bo die the , tum roza thoḍaa-thoḍaa kar ke unhen seenchate rahe aur poore raaste ko itanaa khoobasoorat banaa diyaa . Aaj tumhaaree vajah se hee main in foolon ko bhagavaan ko arpit kar paataa hoon aur apanaa ghar sundar banaa paataa hoon . Tumhee socho agar tum jaise ho vaise naheen hote to bhalaa kyaa main ye sab kuchh kar paataa ?” doston ham sabhee ke andar koii naa koii kamee hotee hai , par yahee kamiyaan hamen anokhaa banaatee hain . Us kisaan kee tarah hamen bhee har kisee ko vo jaisaa hai vaise hee sveekaaranaa chaahie aur usakee achchhaaii kee taraf dhyaan denaa chaahie, aur jab ham aisaa karenge tab “fooṭaa ghadaa” bhee “achchhe ghade” se moolyavaan ho jaayegaa.

Comments

comments