Monday , 29 May 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » भगवान की खोज ! (Discovery God!)

भगवान की खोज ! (Discovery God!)

discover-god

discover-god

Discover God!

Discover God!

तेरहवीं सदी में महाराष्ट्र में एक प्रसिद्द संत हुए संत नामदेव। कहा जाता है कि जब वे बहुत छोटे थे तभी से भगवान की भक्ति में डूबे रहते थे। बाल -काल में ही एक बार उनकी माता ने उन्हें भगवान विठोबा को प्रसाद चढाने के लिए दिया तो वे उसे लेकर मंदिर पहुंचे और उनके हठ के आगे भगवान को स्वयं प्रसाद ग्रहण करने आना पड़ा।  आज हम उसी महान संत से सम्बंधित एक प्रेरक प्रसंग आपसे साझा कर रहे हैं।

एक बार संत नामदेव अपने शिष्यों को ज्ञान -भक्ति का प्रवचन दे रहे थे। तभी श्रोताओं में बैठे किसी शिष्य ने एक प्रश्न किया , ” गुरुवर , हमें बताया जाता है कि ईश्वर हर जगह मौजूद है , पर यदि ऐसा है तो वो हमें कभी दिखाई क्यों नहीं देता , हम कैसे मान लें कि वो सचमुच है , और यदि वो है तो हम उसे कैसे प्राप्त कर सकते हैं ?”

नामदेव मुस्कुराये और एक शिष्य को एक लोटा पानी और थोड़ा सा नमक लाने का आदेश दिया।

शिष्य तुरंत दोनों चीजें लेकर आ गया।

वहां बैठे शिष्य सोच रहे थे कि भला इन चीजों का प्रश्न से क्या सम्बन्ध , तभी संत नामदेव ने पुनः उस शिष्य से कहा , ” पुत्र , तुम नमक को लोटे में डाल कर मिला दो। “

शिष्य ने ठीक वैसा ही किया।

संत बोले , ” बताइये , क्या इस पानी में किसी को नमक दिखाई दे रहा है ?”

सबने  ‘नहीं ‘ में सिर हिला दिए।

“ठीक है !, अब कोई ज़रा इसे चख कर देखे , क्या चखने पर नमक का स्वाद आ रहा है ?”, संत ने पुछा।

“जी ” , एक शिष्य पानी चखते हुए बोला।

“अच्छा , अब जरा इस पानी को कुछ देर उबालो।”, संत ने निर्देश दिया।

कुछ देर तक पानी उबलता रहा और जब सारा पानी भाप बन कर उड़ गया , तो संत ने पुनः शिष्यों को लोटे में देखने को कहा और पुछा , ” क्या अब आपको इसमें कुछ दिखाई दे रहा है ?”

“जी , हमें नमक के कण दिख रहे हैं।”, एक शिष्य बोला।

संत मुस्कुराये और समझाते हुए बोले ,” जिस प्रकार तुम पानी में नमक का स्वाद तो अनुभव कर पाये पर उसे देख नहीं पाये उसी प्रकार इस जग में तुम्हे ईश्वर हर जगह दिखाई नहीं देता पर तुम उसे अनुभव कर सकते हो। और जिस तरह अग्नि के ताप से पानी भाप बन कर उड़ गया और नमक दिखाई देने लगा उसी प्रकार तुम भक्ति ,ध्यान और सत्कर्म द्वारा अपने विकारों का अंत कर भगवान को प्राप्त कर सकते हो।”

wish4me to English

terahaveen sadee mein mahaaraashtr mein ek prasidd sant hue sant naamadev. kaha jaata hai ki jab ve bahut chhote the tabhee se bhagavaan kee bhakti mein doobe rahate the. baal -kaal mein hee ek baar unakee maata ne unhen bhagavaan vithoba ko prasaad chadhaane ke lie diya to ve use lekar mandir pahunche aur unake hath ke aage bhagavaan ko svayan prasaad grahan karane aana pada. aaj ham usee mahaan sant se sambandhit ek prerak prasang aapase saajha kar rahe hain.

ek baar sant naamadev apane shishyon ko gyaan -bhakti ka pravachan de rahe the. tabhee shrotaon mein baithe kisee shishy ne ek prashn kiya , ” guruvar , hamen bataaya jaata hai ki eeshvar har jagah maujood hai , par yadi aisa hai to vo hamen kabhee dikhaee kyon nahin deta , ham kaise maan len ki vo sachamuch hai , aur yadi vo hai to ham use kaise praapt kar sakate hain ?”

naamadev muskuraaye aur ek shishy ko ek lota paanee aur thoda sa namak laane ka aadesh diya.

shishy turant donon cheejen lekar aa gaya.

vahaan baithe shishy soch rahe the ki bhala in cheejon ka prashn se kya sambandh , tabhee sant naamadev ne punah us shishy se kaha , ” putr , tum namak ko lote mein daal kar mila do. “

shishy ne theek vaisa hee kiya.

sant bole , ” bataiye , kya is paanee mein kisee ko namak dikhaee de raha hai ?”

sabane ‘nahin ‘ mein sir hila die.

“theek hai !, ab koee zara ise chakh kar dekhe , kya chakhane par namak ka svaad aa raha hai ?”, sant ne puchha.

“jee ” , ek shishy paanee chakhate hue bola.

“achchha , ab jara is paanee ko kuchh der ubaalo.”, sant ne nirdesh diya.

kuchh der tak paanee ubalata raha aur jab saara paanee bhaap ban kar ud gaya , to sant ne punah shishyon ko lote mein dekhane ko kaha aur puchha , ” kya ab aapako isamen kuchh dikhaee de raha hai ?”

“jee , hamen namak ke kan dikh rahe hain.”, ek shishy bola.

sant muskuraaye aur samajhaate hue bole ,” jis prakaar tum paanee mein namak ka svaad to anubhav kar paaye par use dekh nahin paaye usee prakaar is jag mein tumhe eeshvar har jagah dikhaee nahin deta par tum use anubhav kar sakate ho. aur jis tarah agni ke taap se paanee bhaap ban kar ud gaya aur namak dikhaee dene laga usee prakaar tum bhakti ,dhyaan aur satkarm dvaara apane vikaaron ka ant kar bhagavaan ko praapt kar sakate ho.

Comments

comments