Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » बलूचिस्तान के एक मंदिर को ……

बलूचिस्तान के एक मंदिर को ……

do-you-know-to-save-a-bluchistaani-temple-many-people-scared-their-life

do-you-know-to-save-a-bluchistaani-temple-many-people-scared-their-life

hinglaaj

 

आजकल बलूचिस्तान का मुद्दा पूरी तरह से गरमाया हुआ है तो इसी बीच आपको बताते हैं एक ऐसे मंदिर के बारे में जोहिन्दुओं के लिए बेहद खास है यहाँ मंदिर 51 शक्तिपीठों में से एक है। हिन्दू धर्म के पुराणों के अनुसार जहाँ-जहाँ सती के अंग के टुकड़े, धारण किए वस्त्र याआभूषण गिरे, वहाँ-वहाँ शक्तिपीठ अस्तित्व में आये। ये अत्यंत पावन तीर्थस्थान कहलाये। ये तीर्थ पूरे भारतीय उपमहाद्वीप पर फैले हुए हैं। ‘देवीपुराण’ में 51 शक्तिपीठों का वर्णन है।
दरअसल बलूचिस्तान की जमीन पर दुर्गम पहाड़ियों के बीच हिंगलाज माता का मंदिर बसा है। इस पुराणिक मंदिर को 51 शक्ति पीठ में सबसे प्रमुख है शक्तिपीठ माना गया है | पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक यहां सती का सिर गिरा था। इसके बावजूद भारत में हिन्दू भक्त हिंगलाज शक्ति पीठ के दर्शन के लिए तरसते हैं।
बलूचिस्तान के बारे में आपको पता ही है कि ये पाकिस्तान का वो इलाका जो अपने ही हुक्मरानों के जुल्म का शिकार है। यहाँ के कुदरती खजाने को पाकिस्तान ने जम कर लूटा हैं लेकिन बदले में यहां के रहने वाले मूल निवाशियों को इतना जुल्म दिया है कि उनकी सहनशक्ति की सब सीमाएं खतम हो गयी हैं पाकिस्तान के इस सौतेले और घटिया बर्ताव की वजह से बलोच लोग आजादी चाहते हैं। भारत का साथ चाहने वाले बलोच नेताओं की उम्मीदो को तब पंख लग गए जब आजादी की 70वीं सालगिरह के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने बलूचिस्तान ही नहीं, ऐसे हर इलाके का जिक्र किया, जिसे पाकिस्तान ने ताकत के दम पर दबा रखा है।
अब आपको मंदिर के बारे में बताते हैं इस पौराणिक मंदिर में हर साल 22 अप्रैल से हिंगलाज तीर्थ यात्रा होती है, अफ़सोस है कि इसमें गिने-चुने तीर्थयात्री भारत से भी पहुंचते हैं क्यूंकि बहुत कम लोगों को पाकिस्तान से वीजा मिल पाता है। ज्यादातर भीड़ पाकिस्तान के थरपारकर जिले से आती है जहां सबसे ज्यादा हिंदू आबादी है। तीर्थयात्रा के पहले चरण में श्रद्धालु 300 फुट ऊंचे ज्वालामुखी शिखर पर-चंद्र गूप ताल के दर्शन करते हैं। इस ताल का रिश्ता भगवान श्री राम से भी बताया जाता है।
इस मंदिर को कट्टरपंथियों से बचाने के लिए काफी संघर्ष हुए हैं जिसमे बहुत सारे ब्लोचिस्तानी मुस्लिमों को अपनी जान से भी हाथ धोना पड़ा था , बलूचिस्तान के लोग पाकिस्तान से ज्यादा भारतीय संस्कृति के करीब है और वे भारत को ही अपना मूल देश मानते हैं |

in English

Aajakal baloochistaan kaa muddaa pooree tarah se garamaayaa huaa hai to isee beech aapako bataate hain ek aise mndir ke baare men johinduon ke lie behad khaas hai yahaan mndir 51 shaktipeeṭhon men se ek hai. Hindoo dharm ke puraaṇaon ke anusaar jahaan-jahaan satee ke ang ke ṭukade, dhaaraṇa kie vastr yaa_aabhooṣaṇa gire, vahaan-vahaan shaktipeeṭh astitv men aaye. Ye atynt paavan teerthasthaan kahalaaye. Ye teerth poore bhaarateey upamahaadveep par faile hue hain. ‘deveepuraaṇa’ men 51 shaktipeeṭhon kaa varṇaan hai. Dara_asal baloochistaan kee jameen par durgam pahaadiyon ke beech hingalaaj maataa kaa mndir basaa hai. Is puraaṇaik mndir ko 51 shakti peeṭh men sabase pramukh hai shaktipeeṭh maanaa gayaa hai . Pauraaṇaik maanyataa_on ke mutaabik yahaan satee kaa sir giraa thaa. Isake baavajood bhaarat men hindoo bhakt hingalaaj shakti peeṭh ke darshan ke lie tarasate hain. Baloochistaan ke baare men aapako pataa hee hai ki ye paakistaan kaa vo ilaakaa jo apane hee hukmaraanon ke julm kaa shikaar hai. Yahaan ke kudaratee khajaane ko paakistaan ne jam kar looṭaa hain lekin badale men yahaan ke rahane vaale mool nivaashiyon ko itanaa julm diyaa hai ki unakee sahanashakti kee sab seemaa_en khatam ho gayee hain paakistaan ke is sautele aur ghaṭiyaa bartaav kee vajah se baloch log aajaadee chaahate hain. Bhaarat kaa saath chaahane vaale baloch netaa_on kee ummeedo ko tab pnkh lag ga_e jab aajaadee kee 70veen saalagirah ke mauke par pradhaanamntree modee ne baloochistaan hee naheen, aise har ilaake kaa jikr kiyaa, jise paakistaan ne taakat ke dam par dabaa rakhaa hai. Ab aapako mndir ke baare men bataate hain is pauraaṇaik mndir men har saal 22 aprail se hingalaaj teerth yaatraa hotee hai, aphasos hai ki isamen gine-chune teerthayaatree bhaarat se bhee pahunchate hain kyoonki bahut kam logon ko paakistaan se veejaa mil paataa hai. Jyaadaatar bheed paakistaan ke tharapaarakar jile se aatee hai jahaan sabase jyaadaa hindoo aabaadee hai. Teerthayaatraa ke pahale charaṇa men shraddhaalu 300 fuṭ oonche jvaalaamukhee shikhar par-chndr goop taal ke darshan karate hain. Is taal kaa rishtaa bhagavaan shree raam se bhee bataayaa jaataa hai. Is mndir ko kaṭṭarapnthiyon se bachaane ke lie kaafee sngharṣ hue hain jisame bahut saare blochistaanee muslimon ko apanee jaan se bhee haath dhonaa padaa thaa , baloochistaan ke log paakistaan se jyaadaa bhaarateey snskriti ke kareeb hai aur ve bhaarat ko hee apanaa mool desh maanate hain .

Comments

comments