Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Goddess » दुर्गा अष्टमी

दुर्गा अष्टमी

durga-ashtami

durga-ashtami

Durga Ashtami

Durga Ashtami

मां शक्ति की दस महा विद्या का पूजन वर्ष के विभिन्न मासों में किया जाता है और यह दस महा विद्याओं का पूजन गुप्त साधना के रुप में भी जाना जाता है. धूमावती देवी के स्तोत्र पाठ व सामूहिक जप का अनुष्ठान होता है. काले वस्त्र में काले तिल बांधकर मां को भेंट करने से साधक की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं.

महाविद्या आराधना जो अधिकांश तान्त्रिक साधकों के लिए मुख्य पूजा साधना होती है और साधारण भक्तों को भी अचूक सिद्धि प्रदान करने वाली होती है. महाविद्या उपासना में भक्त एकांत वास में साधना करते हुए अपने को सबल बनाने का प्रयास करता है देवी कि उपासन अका एक अभेद रुप जब साधक हृदय में समाहित होता है.

धर्म ग्रंथों के अनुसार मां धूमावती अपनी क्षुधा शांत करने के लिए भगवान शंकर को निगल जाती हैं. इस कारण मां के शरीर से धुंआ निकलने लगा और उनका स्वरूप विकृत और श्रृंगार विहीन हो जाता है जिस कारण उनका नाम धूमावती पड़ता है.

माँ धूमावती मंत्र  (Goddess Dhumavati Mantra)

  • ॐ धूं धूं धूमावती स्वाहा
  • ॐ धूं धूं धूमावती ठ: ठ:

देवी धूमावती के विषय में पुराणों में कहा गया है कि जब देवी भगवान शिव से कुछ भोजन की मांग करती हैं. इस पर महादेव पार्वती जी से कुछ समय इंतजार करने को कहते हैं. समय बीतने लगता है परंतु भोजन की व्यवस्था नहीं हो पाती और देवी भूख से व्याकुल होकर भगवान शिव को ही निगल जाती हैं. महादेव को निगलने पर देवी पार्वती के शरीर से धुआँ निकलने लगाता है. धूम्र से व्याप्त शरीर के कारण तुम्हारा एक नाम धूमावती होगा. भगवान कहते हैं तुमने जब मुझे खाया तब विधवा हो गई अत: अब तुम्हारी इसी रुप पूजा होगी. तब से माता धूमावती इसी रुप में पूजी जाती हैं.

दुर्गा अष्टमी महत्व  (Significance of Durga Ashtami)

देवी का स्वरुप मलिन और भयंकर प्रतीत होता है.यह श्वेत वस्त्र धारण किए हुए, खुले केश रुप में होती हैं. मां धूमावती के दर्शन से अभीष्ट फल की प्राप्ति होती है. धूमावती दीक्षा प्राप्त होने से साधक मजबूत तथा सुदृढ़ बनता है. नेत्रों में प्रबल तेज व्याप्त होता है, शत्रु भयभीत रहते हैं. किसी भी प्रकार की तंत्र बाधा या प्रेत बाधा क्षीण हो जाती है. मन में अदभुद साहस का संचार हो जाता है तथा भय का नाश होता है.  तंत्र की कई क्रियाओं का रहस्य इस दीक्षा के माध्यम से साधक के समक्ष खुल जाता है. नष्ट व संहार करने की सभी क्षमताएं देवी में निहीत हैं.

सृष्टि कलह के देवी होने के कारण इनको कलहप्रिय भी कहा जाता है. चौमासा देवी का प्रमुख समय होता है जब देवी का पूजा पाठ किया जाता है. माँ धूमावती जी का रूप अत्यंत भयंकर हैं इन्होंने ऐसा रूप शत्रुओं के संहार के लिए ही धारण किया है. यह विधवा हैं, केश उन्मुक्त और रुक्ष हैं. इनके रथ के ध्वज पर काक का चिन्ह है. इन्होंने हाथ में शूर्पधारण कर रखा है, यह भय-कारक एवं कलह-प्रिय हैं. ऋषि दुर्वासा, भृगु, परशुराम आदि की मूल शक्ति धूमावती हैं. माँ की पूजा बहुत कठिन है जो इनकी भक्ति को पा लेता है उसके सभी कष्टों का नाश हो जाता है.

[Wish4Me] To English

Maan shakti kee das mahaa vidyaa kaa poojan varṣ ke vibhinn maason men kiyaa jaataa hai aur yah das mahaa vidyaa_on kaa poojan gupt saadhanaa ke rup men bhee jaanaa jaataa hai. Dhoomaavatee devee ke stotr paaṭh v saamoohik jap kaa anuṣṭhaan hotaa hai. Kaale vastr men kaale til baandhakar maan ko bhenṭ karane se saadhak kee sabhee manokaamanaa_en poorṇa hotee hain. Mahaavidyaa aaraadhanaa jo adhikaansh taantrik saadhakon ke lie mukhy poojaa saadhanaa hotee hai aur saadhaaraṇa bhakton ko bhee achook siddhi pradaan karane vaalee hotee hai. Mahaavidyaa upaasanaa men bhakt ekaant vaas men saadhanaa karate hue apane ko sabal banaane kaa prayaas karataa hai devee ki upaasan akaa ek abhed rup jab saadhak hriday men samaahit hotaa hai. Dharm grnthon ke anusaar maan dhoomaavatee apanee kṣudhaa shaant karane ke lie bhagavaan shnkar ko nigal jaatee hain. Is kaaraṇa maan ke shareer se dhunaa nikalane lagaa aur unakaa svaroop vikrit aur shrringaar viheen ho jaataa hai jis kaaraṇa unakaa naam dhoomaavatee padtaa hai. Maan dhoomaavatee mntr (goddess dhumavati mantra)

om dhoon dhoon dhoomaavatee svaahaa
devee dhoomaavatee ke viṣay men puraaṇaon men kahaa gayaa hai ki jab devee bhagavaan shiv se kuchh bhojan kee maang karatee hain. Is par mahaadev paarvatee jee se kuchh samay intajaar karane ko kahate hain. Samay beetane lagataa hai parntu bhojan kee vyavasthaa naheen ho paatee aur devee bhookh se vyaakul hokar bhagavaan shiv ko hee nigal jaatee hain. Mahaadev ko nigalane par devee paarvatee ke shareer se dhuaan nikalane lagaataa hai. Dhoomr se vyaapt shareer ke kaaraṇa tumhaaraa ek naam dhoomaavatee hogaa. Bhagavaan kahate hain tumane jab mujhe khaayaa tab vidhavaa ho ga_ii atah ab tumhaaree isee rup poojaa hogee. Tab se maataa dhoomaavatee isee rup men poojee jaatee hain.

Durgaa aṣṭamee mahatv (significance of durga ashtami)

devee kaa svarup malin aur bhaynkar prateet hotaa hai. Yah shvet vastr dhaaraṇa kie hue, khule kesh rup men hotee hain. Maan dhoomaavatee ke darshan se abheeṣṭ fal kee praapti hotee hai. Dhoomaavatee deekṣaa praapt hone se saadhak majaboot tathaa sudriḍhx banataa hai. Netron men prabal tej vyaapt hotaa hai, shatru bhayabheet rahate hain. Kisee bhee prakaar kee tntr baadhaa yaa pret baadhaa kṣeeṇa ho jaatee hai. Man men adabhud saahas kaa snchaar ho jaataa hai tathaa bhay kaa naash hotaa hai. Tntr kee ka_ii kriyaa_on kaa rahasy is deekṣaa ke maadhyam se saadhak ke samakṣ khul jaataa hai. Naṣṭ v snhaar karane kee sabhee kṣamataa_en devee men niheet hain. Sriṣṭi kalah ke devee hone ke kaaraṇa inako kalahapriy bhee kahaa jaataa hai. Chaumaasaa devee kaa pramukh samay hotaa hai jab devee kaa poojaa paaṭh kiyaa jaataa hai. Maan dhoomaavatee jee kaa roop atynt bhaynkar hain inhonne aisaa roop shatruon ke snhaar ke lie hee dhaaraṇa kiyaa hai. Yah vidhavaa hain, kesh unmukt aur rukṣ hain. Inake rath ke dhvaj par kaak kaa chinh hai. Inhonne haath men shoorpadhaaraṇa kar rakhaa hai, yah bhay-kaarak evn kalah-priy hain. Rriṣi durvaasaa, bhrigu, parashuraam aadi kee mool shakti dhoomaavatee hain. Maan kee poojaa bahut kaṭhin hai jo inakee bhakti ko paa letaa hai usake sabhee kaṣṭon kaa naash ho jaataa hai.

Comments

comments