Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru_Profile » Rama » संगती का असर (Effect of the company)

संगती का असर (Effect of the company)

effect-of-the-company

effect-of-the-company

Effect of the company

Effect of the company

एक बार एक राजा शिकार के उद्देश्य से अपने काफिले के साथ किसी जंगल से गुजर रहा था | दूर दूर तक शिकार नजर नहीं आ रहा था, वे धीरे धीरे घनघोर जंगल में प्रवेश करते गए | अभी कुछ ही दूर गए थे की उन्हें कुछ डाकुओं के छिपने की जगह दिखाई दी | जैसे ही वे उसके पास पहुचें कि पास के पेड़ पर बैठा तोता बोल पड़ा – ,
” पकड़ो पकड़ो एक राजा आ रहा है इसके पास बहुत सारा सामान है लूटो लूटो जल्दी आओ जल्दी आओ |”

तोते की आवाज सुनकर सभी डाकू राजा की और दौड़ पड़े | डाकुओ को अपनी और आते देख कर राजा और उसके सैनिक दौड़ कर भाग खड़े हुए | भागते-भागते कोसो दूर निकल गए | सामने एक बड़ा सा पेड़ दिखाई दिया | कुछ देर सुस्ताने के लिए उस पेड़ के पास चले गए , जैसे ही पेड़ के पास पहुचे कि उस पेड़ पर बैठा तोता बोल पड़ा – आओ राजन हमारे साधू महात्मा की कुटी में आपका स्वागत है | अन्दर आइये पानी पीजिये और विश्राम कर लीजिये | तोते की इस बात को सुनकर राजा हैरत में पड़ गया , और सोचने लगा की एक ही जाति के दो प्राणियों का व्यवहार इतना अलग-अलग कैसे हो सकता है | राजा को कुछ समझ नहीं आ रहा था | वह तोते की बात मानकर अन्दर साधू की कुटिया की ओर चला गया, साधू महात्मा को प्रणाम कर उनके समीप बैठ गया और अपनी सारी कहानी सुनाई | और फिर धीरे से पूछा, “ऋषिवर इन दोनों तोतों के व्यवहार में आखिर इतना अंतर क्यों है |”

साधू महात्मा धैर्य से सारी बातें सुनी और बोले ,” ये कुछ नहीं राजन बस संगति का असर है | डाकुओं के साथ रहकर तोता भी डाकुओं की तरह व्यवहार करने लगा है और उनकी ही भाषा बोलने लगा है | अर्थात जो जिस वातावरण में रहता है वह वैसा ही बन जाता है कहने का तात्पर्य यह है कि मूर्ख भी विद्वानों के साथ रहकर विद्वान बन जाता है और अगर विद्वान भी मूर्खों के संगत में रहता है तो उसके अन्दर भी मूर्खता आ जाती है | इसिलिय हमें संगती सोच समझ कर करनी चाहिए |

wish4me to English

ek baar ek raaja shikaar ke uddeshy se apane kaaphile ke saath kisee jangal se gujar raha tha | door door tak shikaar najar nahin aa raha tha, ve dheere dheere ghanaghor jangal mein pravesh karate gae | abhee kuchh hee door gae the kee unhen kuchh daakuon ke chhipane kee jagah dikhaee dee | jaise hee ve usake paas pahuchen ki paas ke ped par baitha tota bol pada – ,
” pakado pakado ek raaja aa raha hai isake paas bahut saara saamaan hai looto looto jaldee aao jaldee aao |”

tote kee aavaaj sunakar sabhee daakoo raaja kee aur daud pade | daakuo ko apanee aur aate dekh kar raaja aur usake sainik daud kar bhaag khade hue | bhaagate-bhaagate koso door nikal gae | saamane ek bada sa ped dikhaee diya | kuchh der sustaane ke lie us ped ke paas chale gae , jaise hee ped ke paas pahuche ki us ped par baitha tota bol pada – aao raajan hamaare saadhoo mahaatma kee kutee mein aapaka svaagat hai | andar aaiye paanee peejiye aur vishraam kar leejiye | tote kee is baat ko sunakar raaja hairat mein pad gaya , aur sochane laga kee ek hee jaati ke do praaniyon ka vyavahaar itana alag-alag kaise ho sakata hai | raaja ko kuchh samajh nahin aa raha tha | vah tote kee baat maanakar andar saadhoo kee kutiya kee or chala gaya, saadhoo mahaatma ko pranaam kar unake sameep baith gaya aur apanee saaree kahaanee sunaee | aur phir dheere se poochha, “rshivar in donon toton ke vyavahaar mein aakhir itana antar kyon hai |”

saadhoo mahaatma dhairy se saaree baaten sunee aur bole ,” ye kuchh nahin raajan bas sangati ka asar hai | daakuon ke saath rahakar tota bhee daakuon kee tarah vyavahaar karane laga hai aur unakee hee bhaasha bolane laga hai | arthaat jo jis vaataavaran mein rahata hai vah vaisa hee ban jaata hai kahane ka taatpary yah hai ki moorkh bhee vidvaanon ke saath rahakar vidvaan ban jaata hai aur agar vidvaan bhee moorkhon ke sangat mein rahata hai to usake andar bhee moorkhata aa jaatee hai | isiliy hamen sangatee soch samajh kar karanee chaahie

Comments

comments