Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » एक बाल्टी दूध

एक बाल्टी दूध

ek-baaltee-doodh

ek-baaltee-doodh

A bucket of milk

A bucket of milk

एक बार एक राजा के राज्य में महामारी फैल गयी। चारो ओर लोग मरने लगे। राजा ने इसे रोकने के लिये बहुत सारे उपाय करवाये मगर कुछ असर न हुआ और लोग मरते रहे। दुखी राजा ईश्वर से प्रार्थना करने लगा। तभी अचानक आकाशवाणी हुई। आसमान से आवाज़ आयी कि हे राजा तुम्हारी राजधानी के बीचो बीच जो पुराना सूखा कुंआ है अगर अमावस्या की रात को राज्य के प्रत्येक घर से एक – एक बाल्टी दूध उस कुएं में डाला जाये तो अगली ही सुबह ये महामारी समाप्त हो जायेगी और लोगों का मरना बन्द हो जायेगा। राजा ने तुरन्त ही पूरे राज्य में यह घोषणा करवा दी कि महामारी से बचने के लिए अमावस्या की रात को हर घर से कुएं में एक-एक बाल्टी दूध डाला जाना अनिवार्य है ।

अमावस्या की रात जब लोगों को कुएं में दूध डालना था उसी रात राज्य में रहने वाली एक चालाक एवं कंजूस बुढ़िया ने सोंचा कि सारे लोग तो कुंए में दूध डालेंगे अगर मै अकेली एक बाल्टी पानी डाल दूं तो किसी को क्या पता चलेगा। इसी विचार से उस कंजूस बुढ़िया ने रात में चुपचाप एक बाल्टी पानी कुंए में डाल दिया। अगले दिन जब सुबह हुई तो लोग वैसे ही मर रहे थे। कुछ भी नहीं बदला था क्योंकि महामारी समाप्त नहीं हुयी थी। राजा ने जब कुंए के पास जाकर इसका कारण जानना चाहा तो उसने देखा कि सारा कुंआ पानी से भरा हुआ है। दूध की एक बूंद भी वहां नहीं थी। राजा समझ गया कि इसी कारण से महामारी दूर नहीं हुई और लोग अभी भी मर रहे हैं।

दरअसल ऐसा इसलिये हुआ क्योंकि जो विचार उस बुढ़िया के मन में आया था वही विचार पूरे राज्य के लोगों के मन में आ गया और किसी ने भी कुंए में दूध नहीं डाला।

मित्रों , जैसा इस कहानी में हुआ वैसा ही हमारे जीवन में भी होता है। जब भी कोई ऐसा काम आता है जिसे बहुत सारे लोगों को मिल कर करना होता है तो अक्सर हम अपनी जिम्मेदारियों से यह सोच कर पीछे हट जाते हैं कि कोई न कोई तो कर ही देगा और हमारी इसी सोच की वजह से स्थितियां वैसी की वैसी बनी रहती हैं। अगर हम दूसरों की परवाह किये बिना अपने हिस्से की जिम्मेदारी निभाने लग जायें तो पूरे देश मेंबर ऐसा बदलाव ला सकते हैं जिसकी आज हमें ज़रूरत है।

wish4me to English

ek baar ek raaja ke raajy mein mahaamaaree phail gayee. chaaro or log marane lage. raaja ne ise rokane ke liye bahut saare upaay karavaaye magar kuchh asar na hua aur log marate rahe. dukhee raaja eeshvar se praarthana karane laga. tabhee achaanak aakaashavaanee huee. aasamaan se aavaaz aayee ki he raaja tumhaaree raajadhaanee ke beecho beech jo puraana sookha kuna hai agar amaavasya kee raat ko raajy ke pratyek ghar se ek – ek baaltee doodh us kuen mein daala jaaye to agalee hee subah ye mahaamaaree samaapt ho jaayegee aur logon ka marana band ho jaayega. raaja ne turant hee poore raajy mein yah ghoshana karava dee ki mahaamaaree se bachane ke lie amaavasya kee raat ko har ghar se kuen mein ek-ek baaltee doodh daala jaana anivaary hai .

amaavasya kee raat jab logon ko kuen mein doodh daalana tha usee raat raajy mein rahane vaalee ek chaalaak evan kanjoos budhiya ne soncha ki saare log to kune mein doodh daalenge agar mai akelee ek baaltee paanee daal doon to kisee ko kya pata chalega. isee vichaar se us kanjoos budhiya ne raat mein chupachaap ek baaltee paanee kune mein daal diya. agale din jab subah huee to log vaise hee mar rahe the. kuchh bhee nahin badala tha kyonki mahaamaaree samaapt nahin huyee thee. raaja ne jab kune ke paas jaakar isaka kaaran jaanana chaaha to usane dekha ki saara kuna paanee se bhara hua hai. doodh kee ek boond bhee vahaan nahin thee. raaja samajh gaya ki isee kaaran se mahaamaaree door nahin huee aur log abhee bhee mar rahe hain.

darasal aisa isaliye hua kyonki jo vichaar us budhiya ke man mein aaya tha vahee vichaar poore raajy ke logon ke man mein aa gaya aur kisee ne bhee kune mein doodh nahin daala.

mitron , jaisa is kahaanee mein hua vaisa hee hamaare jeevan mein bhee hota hai. jab bhee koee aisa kaam aata hai jise bahut saare logon ko mil kar karana hota hai to aksar ham apanee jimmedaariyon se yah soch kar peechhe hat jaate hain ki koee na koee to kar hee dega aur hamaaree isee soch kee vajah se sthitiyaan vaisee kee vaisee banee rahatee hain. agar ham doosaron kee paravaah kiye bina apane hisse kee jimmedaaree nibhaane lag jaayen to poore desh membar aisa badalaav la sakate hain jisakee aaj hamen zaroorat hai.

Comments

comments