Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » एक कप कॉफ़ी

एक कप कॉफ़ी

ek-cup-coffee

ek-cup-coffee

 

Ek Cup Coffee Story

जापान के टोक्यो शहर के निकट एक कस्बा अपनी खुशहाली के लिए प्रसिद्द था . एक बार एक व्यक्ति उस कसबे की खुशहाली का कारण जानने के लिए सुबह -सुबह वहाँ पहुंचा . कस्बे में घुसते ही उसे एक कॉफ़ी -शॉप दिखायी दी। उसने मन ही मन सोचा कि मैं यहाँ बैठ कर चुप -चाप लोगों को देखता हूँ , और वह धीरे -धीरे आगे बढ़ते हुए शॉप के अंदर लगी एक कुर्सी पर जा कर बैठ गया .

कॉफ़ी-शॉप शहर के रेस्टोरेंटस की तरह ही थी , पर वहाँ उसे लोगों का  कुछ अजीब लगा .

एक आदमी शॉप में आया और उसने दो कॉफ़ी के पैसे देते हुए कहा , “ दो कप कॉफ़ी , एक मेरे लिए और एक उस दीवार पर। ”

व्यक्ति दीवार की तरफ देखने लगा लेकिन उसे वहाँ कोई नज़र नहीं आया , पर फिर भी उस आदमी को कॉफ़ी देने के बाद वेटर व्यवहारदीवार के पास गया और उस पर कागज़ का एक टुकड़ा चिपका दिया , जिसपर “एक कप कॉफ़ी ” लिखा था .

व्यक्ति समझ नहीं पाया कि आखिर माजरा क्या है . उसने सोचा कि कुछ देर और बैठता हूँ , और समझने की कोशिश करता हूँ .

थोड़ी देर बाद एक गरीब मजदूर वहाँ आया , उसके कपड़े फटे -पुराने थे पर फिर भी वह पुरे आत्म -विश्वास के साथ शॉप में घुसा और आराम से एक कुर्सी पर बैठ गया .

व्यक्ति सोच रहा था कि एक मजदूर के लिए कॉफ़ी पर इतने पैसे बर्वाद करना कोई समझदारी नहीं है …तभी वेटर मजदूर के पास आर्डर लेने पंहुचा .

“ सर , आपका आर्डर प्लीज !”, वेटर बोला .

“ दीवार से एक कप कॉफ़ी .” , मजदूर ने जवाब दिया .

वेटर ने मजदूर से बिना पैसे लिए एक कप कॉफ़ी दी और दीवार पर लगी ढेर सारे कागज के टुकड़ों में से “एक कप कॉफ़ी ” लिखा एक टुकड़ा निकाल कर डस्टबिन में फेंक दिया .

व्यक्ति को अब सारी बात समझ आ गयी थी . कसबे के लोगों का ज़रूरतमंदों के प्रति यह रवैया देखकर वह भाव-विभोर हो गया … उसे लगा , सचमुच लोगों ने मदद का कितना अच्छा तरीका निकाला है जहां एक गरीब मजदूर भी बिना अपना आत्मसम्मान कम किये एक अच्छी सी कॉफ़ी -शॉप में खाने -पीने का आनंद ले सकता है .

अब वह कसबे की खुशहाली का कारण जान चुका था और इन्ही विचारों के साथ वापस अपने शहर लौट गया.


 

jaapaan ke tokyo shahar ke nikat ek kasba apanee khushahaalee ke lie prasidd tha. ek baar ek vyakti us kasabe kee khushahaalee ka kaaran jaanane ke lie subah -subah vahaan pahuncha. kasbe mein ghusate hee use ek kofee -shop dikhaayee dee. usane man hee man socha ki main yahaan baith kar chup -chaap logon ko dekhata hoon, aur vah dheere -dheere aage badhate hue shop ke andar lagee ek kursee par ja kar baith gaya.

kofee-shop shahar ke restorentas kee tarah hee thee, par vahaan use logon ka kuchh ajeeb laga.

ek aadamee shop mein aaya aur usane do kofee ke paise dete hue kaha, “do kap kofee, ek mere lie aur ek us deevaar par. ”

vyakti deevaar kee taraph dekhane laga lekin use vahaan koee nazar nahin aaya, par phir bhee us aadamee ko kofee dene ke baad vetar vyavahaaradeevaar ke paas gaya aur us par kaagaz ka ek tukada chipaka diya, jisapar “ek kap kofee” likha tha.

vyakti samajh nahin paaya ki aakhir maajara kya hai. usane socha ki kuchh der aur baithata hoon, aur samajhane kee koshish karata hoon.

thodee der baad ek gareeb majadoor vahaan aaya, usake kapade phate -puraane the par phir bhee vah pure aatm -vishvaas ke saath shop mein ghusa aur aaraam se ek kursee par baith gaya.

vyakti soch raha tha ki ek majadoor ke lie kofee par itane paise barvaad karana koee samajhadaaree nahin hai … tabhee vetar majadoor ke paas aardar lene panhucha.

“sar, aapaka aardar pleej!”, vetar bola.

“deevaar se ek kap kofee.”, majadoor ne javaab diya.

vetar ne majadoor se bina paise lie ek kap kofee dee aur deevaar par lagee dher saare kaagaj ke tukadon mein se “ek kap kofee” likha ek tukada nikaal kar dastabin mein phenk diya.

vyakti ko ab saaree baat samajh aa gayee thee. kasabe ke logon ka zarooratamandon ke prati yah

Comments

comments