Monday , 11 September 2017
Latest Happenings
Home » Baby Name » चालाकी का फल

चालाकी का फल

fruit-of-cleverness

fruit-of-cleverness

There was one old, very old man of whole ninety years. One poor poor man could not properly see his chickens from the top left his job and fled.

एक थी बुढ़िया, बेहद बूढ़ी पूरे नब्बे साल की। एक तो बेचारी को ठीक से दिखाई नहीं पड़ता था ऊपर से उसकी मुर्गियाँ चराने वाली लड़की नौकरी छोड़ कर भाग गयी।

बेचारी बुढ़िया! सुबह मुर्गियों को चराने के लिये खोलती तो वे पंख फड़फड़ाती हुई सारी की सारी बुढिया के घर की चारदीवारी फाँद कर अड़ोस पड़ोस के घरों में भाग जातीं और ‘कों कों कुड़कुड़’ करती हुई सारे मोहल्ले में हल्ला मचाती हुई घूमतीं। कभी वे पड़ोसियों की सब्जियाँ खा जातीं तो कभी पड़ोसी काट कर उन्हीं की सब्जी बना डालते। दोनों ही हालतों में नुकसान बेचारी बुढ़िया का होता। जिसकी सब्जी बरबाद होती वह बुढ़िया को भला बुरा कहता और जिसके घर में मुर्गी पकती उससे बुढ़िया की हमेशा की दुश्मनी हो जाती।

हार कर बुढ़िया ने सोचा कि बिना नौकर के मुर्गियाँ पालना उसकी जैसी कमज़ोर बुढ़िया के बस की बात नहीं। भला वो कहाँ तक डंडा लेकर एक एक मुर्गी हाँकती फिरे? ज़रा सा काम करने में ही तो उसका दम फूल जाता था। और बुढ़िया निकल पड़ी लाठी टेकती नौकर की तलाश में।

पहले तो उसने अपनी पुरानी मुर्गियाँ चराने वाली लड़की को ढूँढा। लेकिन उसका कहीं पता नहीं लगा। यहाँ तक कि उसके माँ बाप को भी नहीं मालूम था कि लड़की आखिर गयी तो गयी कहाँ? “नालायक और दुष्ट लड़की! कहीं ऐसे भी भागा जाता है? न अता न पता सबको परेशान कर के रख दिया।” बुढ़िया बड़बड़ायी और आगे बढ़ गयी।
थोड़ी दूर पर एक भालू ने बुढ़िया को बड़बड़ाते हुए सुना तो वह घूम कर सड़क पर आ गया और बुढ़िया को रोक कर बोला, ” गु र्र र , बुढ़िया नानी नमस्कार! आज सुबह सुबह कहाँ जा रही हो? सुना है तुम्हारी मुर्गियाँ चराने वाली लड़की नौकरी छोड़ कर भाग गयी है। न हो तो मुझे ही नौकर रख लो। खूब देखभाल करूँगा तुम्हारी मुर्गियों की।”

“अरे हट्टो, तुम भी क्या बात करते हो? बुढ़िया ने खिसिया कर उत्तर दिया, ” एक तो निरे काले मोटे बदसूरत हो मुर्गियाँ तो तुम्हारी सूरत देखते ही भाग खड़ी होंगी। फिर तुम्हारी बेसुरी आवाज़ उनके कानों में पड़ी तो वे मुड़कर दड़बे की ओर आएँगी भी नहीं। एक तो मुर्गियों के कारण मुहल्ले भर से मेरी दुश्मनी हो गयी है, दूसरा तुम्हारे जैसा जंगली जानवर और पाल लूँ तो मेरा जीना भी मुश्किल हो जाए। छोड़ो मेरा रास्ता मैं खुद ही ढूँढ लूँगी अपने काम की नौकरानी।”

बुढ़िया आगे बढ़ी तो थोड़ी ही दूर पर एक सियार मिला और बोला, “हुआँ हुआँ राम राम बुढ़िया नानी किसे खोज रही हो? बुढ़िया खिसिया कर बोली, अरे खोज रहीं हूँ एक भली सी नौकरानी जो मेरी मुर्गियों की देखभाल कर सके। देखो भला मेरी पुरानी नौकरानी इतनी दुष्ट छोरी निकली कि बिना बताए कहीं भाग गयी अब मैं मुर्गियों की देखभाल कैसे करूँ? कोई कायदे की लड़की बताओ जो सौ तक गिनती गिन सके ताकि मेरी सौ मुर्गियों को गिन कर दड़बे में बन्द कर सकें।”

यह सुन कर सियार बोला, “हुआँ हुआँ, बुढ़िया नानी ये कौन सी बड़ी बात है? चलो अभी मैं तुम्हें एक लड़की से मिलवाता हूँ। मेरे पड़ोस में ही रहती है। रोज़ जंगल के स्कूल में पढ़ने जाती है इस लिये सौ तक गिनती उसे जरूर आती होगी। अकल भी उसकी खूब अच्छी है। शेर की मौसी है वो, आओ तुम्हें मिलवा ही दूँ उससे।
बुढ़िया लड़की की तारीफ सुन कर बड़ी खुश होकर बोली, “जुग जुग जियो बेटा, जल्दी बुलाओ उसे कामकाज समझा दूँ। अब मेरा सारा झंझट दूर हो जाएगा। लड़की मुर्गियों की देखभाल करेगी और मैं आराम से बैठकर मक्खन बिलोया करूँगी।”

सियार भाग कर गया और अपने पड़ोस में रहने वाली चालाक पूसी बिल्ली को साथ लेकर लौटा। पूसी बिल्ली बुढ़िया को देखते ही बोली, “म्याऊँ, बुढ़िया नानी नमस्ते। मैं कैसी रहूँगी तुम्हारी नौकरानी के काम के लिये?” नौकरानी के लिये लड़की जगह बिल्ली को देखकर बुढ़िया चौंक गयी। बिगड़ कर बोली, “हे भगवान कहीं जानवर भी घरों में नौकर हुआ करते हैं? तुम्हें तो अपना काम भी सलीके से करना नहीं आता होगा। तुम मेरा काम क्या करोगी?”

लेकिन पूसी बिल्ली बड़ी चालाक थी। आवाज को मीठी बना कर मुस्कुरा कर बोली, “अरे बुढ़िया नानी तुम तो बेकार ही परेशान होती हो। कोई खाना पकाने का काम तो है नहीं जो मैं न कर सकँू। आखिर मुर्गियों की ही देखभाल करनी है न? वो तो मैं खूब अच्छी तरह कर लेती हूँ। मेरी माँ ने तो खुद ही मुर्गियाँ पाल रखी हैं। पूरी सौ हैं। गिनकर मैं ही चराती हूँ और मैं ही गिनकर बन्द करती हूँ। विश्वास न हो तो मेरे घर चलकर देख लो।”

एक तो पूसी बिल्ली बड़ी अच्छी तरह बात कर रही थी और दूसरे बुढ़िया काफी थक भी गयी थी इसलिये उसने ज्यादा बहस नहीं की और पूसी बिल्ली को नौकरी पर रख लिया।

पूसी बिल्ली ने पहले दिन मुर्गियों को दड़बे में से निकाला और खूब भाग दौड़ कर पड़ोस में जाने से रोका। बुढ़िया पूसी बिल्ली की इस भाग-दौड़ से संतुष्ट होकर घर के भीतर आराम करने चली गयी। कई दिनों से दौड़ते भागते बेचारी काफी थक गयी थी तो उसे नींद भी आ गयी।

इधर पूसी बिल्ली ने मौका देखकर पहले ही दिन छे मुर्गियों को मारा और चट कर गयी। बुढ़िया जब शाम को जागी तो उसे पूसी की इस हरकत का कुछ भी पता न लगा। एक तो उसे ठीक से दिखाई नहीं देता था और उसे सौ तक गिनती भी नहीं आती थी। फिर भला वह इतनी चालाक पूसी बिल्ली की शरारत कैसे जान पाती?

अपनी मीठी मीठी बातोंसे बुढ़िया को खुश रखती और आराम से मुर्गियाँ चट करती जाती। पड़ोसियों से अब बुढ़िया की लड़ाई नहीं होती थी क्योंकि मुर्गियाँ अब उनके आहाते में घुस कर शोरगुल नहीं करती थीं। बुढ़िया को पूसी बिल्ली पर इतना विश्वास हो गया कि उसने मुर्गियों के दड़बे की तरफ जाना छोड़ दिया।

धीरे धीरे एक दिन ऐसा आया जब दड़बे में बीस पच्चीस मुर्गियाँ ही बचीं। उसी समय बुढ़िया भी टहलती हुई उधर ही आ निकली। इतनी क़म मुर्गियाँ देखकर उसने पूसी बिल्ली से पूछा, “क्यों री पूसी, बाकी मुर्गियों को तूने चरने के लिये कहाँ भेज दिया?” पूसी बिल्ली ने झट से बात बनाई, ” अरे और कहाँ भेजँूगी बुढ़िया नानी। सब पहाड़ के ऊपर चली गयी हैं। मैंने बहुत बुलाया लेकिन वे इतनी शरारती हैं कि वापस आती ही नहीं।”

“ओफ् ओफ् ! ये शरारती मुर्गियाँ।” बुढ़िया का बड़बड़ाना फिर शुरू हो गया, “अभी जाकर देखती हूँ कि ये इतनी ढीठ कैसे हो गयी हैं? पहाड़ के ऊपर खुले में घूम रही हैं। कहीं कोई शेर या भेड़िया आ ले गया तो बस!”

ऊपर पहुँच कर बुढ़िया को मुर्गियाँ तो नहीं मिलीं। मिलीं सिर्फ उनकी हडि्डयाँ और पंखों का ढ़ेर! बुढ़िया को समझते देर न लगी कि यह सारी करतूत पूसी बिल्ली की है। वो तेजी से नीचे घर की ओर लौटी।

इधर पूसी बिल्ली ने सोचा कि बुढ़िया तो पहाड़ पर गयी अब वहाँ सिर पकड़ कर रोएगी जल्दी आएगी नहीं। तब तक क्यों न मैं बची-बचाई मुर्गियाँ भी चट कर लूँ? यह सोच कर उसने बाकी मुर्गियों को भी मार डाला। अभी वह बैठी उन्हें खा ही रही थी कि बुढ़िया वापस लौट आई।

पूसी बिल्ली को मुर्गियाँ खाते देखकर वह गुस्से से आग बबूला हो गयी और उसने पास पड़ी कोयलों की टोकरी उठा कर पूसी के सिर पर दे मारी। पूसी बिल्ली को चोट तो लगी ही, उसका चमकीला सफेद रंग भी काला हो गया। अपनी बदसूरती को देखकर वह रोने लगी।

आज भी लोग इस घटना को नही भूले हैं और रोती हुई काली बिल्ली को डंडा लेकर भगाते हैं। चालाकी का उपयोग बुरे कामों में करने वालों को पूसी बिल्ली जैसा फल भोगना पड़ता है।

Hindi to English

There was one old, very old man of whole ninety years. One poor poor man could not properly see his chickens from the top left his job and fled.

Poor old woman! In the morning, when the chickens were opened to graze, they fluttered the wings and ran all the way to the house of the whole house of the elderly and fled in the neighboring houses and roaming around in the entire neighborhood, doing ‘crooked’. If they ate the neighboring vegetables, they would cut their neighbors and make their own vegetables. Losses in both conditions is the poor old woman. Whose vegetable was ruined, it was bad for the old lady, and in whose house a chicken would have become an enemy of the old woman.

After losing, the old woman thought that it is not the bus of a poor old lady like him who is able to bear the hens without a servant. Where did he go for a poultice with a stick? He had a lot of energy in his work. And the old lady turned out to look for a leopard servant.

Firstly, he found a girl feeding his old hen. But did not find him anywhere. Even her parents did not even know that the girl was finally gone and where did she go? “Ineligible and wicked girl! Something like this goes away? No, neither do I know everyone is upset.” Old woman was Brbrayi and moving.
On a distance, a bear heard the old lady murmuring, she roamed and came to the street and stopped the old woman and said, “Good morning, old lady grandson! Where are you going early this morning? I have heard your chicken feeding girl If you do not, then keep me a servant, and I will take care of your chickens. ”

“Hey Hatto, what do you talk too? The old woman replied,” If you look like a little black or rough, the hens will be standing on your look. Then your unstoppable voice will fall in their ears, then they will not turn and will not come towards the press. I have become hostile because of the chickens and if I take wild animals and sails like you, then it will be difficult for me to live. Leave my way, I will find my own maid of work. ”

If the old lady went ahead, she got a little girl from a distance and said, “Hua Hua Ram Ram Bahadia, who is looking for a grandmother, you have been searching for an old woman, she is searching for a good maid who can take care of my chickens. The old maid came out so wickedly that without being told somewhere, how can I look after the chickens? Tell a girl of a law that can count up to a hundred, so that my hundred cubs Can stop in coops count. ”

Siyar said, “Hua Hua, old lady, what is this great thing? Let me introduce you to a girl right now in my neighborhood, everyday I go to school in the forest, so counting to hundred Sure, it is very good to him. Lion’s aunt is she, come, let me introduce her.
After listening to the compliment of the old girl, she said, “Jug Jug, dear son, call me quickly.” Now my whole troubles will go away. The girl will take care of the chickens and I will sit quietly and bury the butter. ”

The jackal ran away and returned the cunning cat cat living in his neighborhood. Pusi cat looked at the old lady and said, “Myoan, old lady, Hello, how will I stay for your maid’s work?” The girl looked for the maid to see the cat and the old man was shocked. Deteriorating and saying, “Oh God, there are animals even servants in the houses? You do not even have to do your work too well. What will you do with my work?”

But puss cat was very clever. Smiling the voice smiled and said, “O old granny, you are unnecessarily worried. There is no work to cook, which I can not do. After all, do you have to take care of the chickens? They are very well My mother has kept the hens in her own hands, she is a hundred, and I sing it, and I will stop singing and if I do not believe then go and visit my house. ”

Either the Pussy Cat was speaking very well and the other old lady was very tired, so she did not make much debate and put the Pussy cat on the job.

Pusie cat picked the chickens on the first day and stopped running and ran into the neighborhood and ran away. The old pussey cat got satisfied with this part-race and went to rest within the house. After running for several days, poorly tired, he got sleepy.

Here the pus cat catches six chicks and chicks on the first day after seeing the opportunity. When the old woman moved in the evening, she did not know anything about this move of Pusa. One did not see him properly and did not even count to hundred. Then how could he know such a cunning cat cat?

Keeping the old woman happy with her sweet words and chanting the hens with ease. Neighbors did not have the battle of old age because the hens no longer used to roam in their halls. The old lady became so convinced that she stopped going to the chickens’ door.

Slowly one day it came when twenty-five hens left in Dabbe. At the same time the old lady also walked and walked. Seeing so much chickens, he asked the pet cat, “Why did you send the rest of the chickens to feed them?” Pusi cat quickly spoke, “Oh and where will I send the old lady, all have gone over the mountain. I called a lot but they are so naughty

Comments

comments