Tuesday , 16 January 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » गणेश जी को दूर्वा(दूब) क्यों चढ़ाई जाती है ?

गणेश जी को दूर्वा(दूब) क्यों चढ़ाई जाती है ?

ga%E1%B9%87aesh-jee-ko-doorvaadoob-kyon-cha%E1%B8%8Dhaa_ii-jaatee-hai

ga%E1%B9%87aesh-jee-ko-doorvaadoob-kyon-cha%E1%B8%8Dhaa_ii-jaatee-hai

ganesh jee par shani kee drshti

ganesh jee par shani kee drshti

पौराणिक मान्यता के अनुसार प्राचीन काल में अनलासुर नाम का एक दैत्य था। इस दैत्य के कोप से स्वर्ग और धरती पर त्राही-त्राही मची हुई थी। अनलासुर ऋषि-मुनियों और आम लोगों को जिंदा निगल जाता था। दैत्य से त्रस्त होकर देवराज इंद्र सहित सभी देवी-देवता और प्रमुख ऋषि-मुनि महादेव से प्रार्थना करने पहुंचे। सभी ने शिवजी से प्रार्थना की कि वे अनलासुर के आतंक का नाश करें। शिवजी ने सभी देवी-देवताओं और ऋषि-मुनियों की प्रार्थना सुनकर कहा कि अनलासुर का अंत केवल श्रीगणेश ही कर सकते हैं। जब श्रीगणेश ने अनलासुर को निगला तो उनके पेट में बहुत जलन होने लगी। कई प्रकार के उपाय करने के बाद भी गणेशजी के पेट की जलन शांत नहीं हो रही थी। तब कश्यप ऋषि ने दूर्वा की 21 गांठ बनाकर श्रीगणेश को खाने को दी। जब गणेशजी ने दूर्वा ग्रहण की तो उनके पेट की जलन शांत हो गई। तभी से श्रीगणेश को दूर्वा चढ़ाने की परंपरा प्रारंभ हुई।

wish4me in English

pauraanik maanyata ke anusaar praacheen kaal mein analaasur naam ka ek daity tha. is daity ke kop se svarg aur dharatee par traahee-traahee machee huee thee. analaasur rshi-muniyon aur aam logon ko jinda nigal jaata tha. daity se trast hokar devaraaj indr sahit sabhee devee-devata aur pramukh rshi-muni mahaadev se praarthana karane pahunche. sabhee ne shivajee se praarthana kee ki ve analaasur ke aatank ka naash karen. shivajee ne sabhee devee-devataon aur rshi-muniyon kee praarthana sunakar kaha ki analaasur ka ant keval shreeganesh hee kar sakate hain. jab shreeganesh ne analaasur ko nigala to unake pet mein bahut jalan hone lagee. kaee prakaar ke upaay karane ke baad bhee ganeshajee ke pet kee jalan shaant nahin ho rahee thee. tab kashyap rshi ne doorva kee 21 gaanth banaakar shreeganesh ko khaane ko dee. jab ganeshajee ne doorva grahan kee to unake pet kee jalan shaant ho gaee. tabhee se shreeganesh ko doorva chadhaane kee parampara praarambh huee.

Comments

comments