Monday , 6 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » गायत्री मंत्र की सबसे अधिक मान्यता क्यों ?

गायत्री मंत्र की सबसे अधिक मान्यता क्यों ?

gaayatree-mantr-kee-sabase-adhik-maanyata-kyon

gaayatree-mantr-kee-sabase-adhik-maanyata-kyon

gaayatree mantr kee sabase adhik maanyata kyon ?

gaayatree mantr kee sabase adhik maanyata kyon ?

प्राचीन ग्रंथों के अनुसार गायत्री मंत्र के प्रथम अक्षर में सफलता, दूसरे में पुरुषार्थ, तीसरे में पालन, चौथे में कल्याण, पांचवें में योग, छठे में प्रेम, सातवें में लक्ष्मी, आठवें में तेजस्विता, नवें में सुरक्षा, दसवें में बुद्धि, ग्यारहवें में दमन, बारहवें में निष्ठा, तेरहवें में धारणा, चौदहवें में प्राण, पंद्रहवें में संयम, सोलहवें में तप, सत्रहवें में दूरदर्शिता, अठारहवें में जागरण, उन्नीसवें में सृष्टि ज्ञान, बीसवें में सफलता, इक्कीसवें में साहस, बाइसवें में दमन, तेइसवें में विवेक और चौबीसवें में सेवाभाव नाम की शक्तियों का समावेश है । गायत्री मंत्र का कार्य दुर्बुद्धि का निवारण कर सद् बुद्धि देना है । इस मंत्र के जपने से चुंबक तत्व सक्रिय होकर प्रसुप्त क्षेत्रों को गतिशील कर देते हैं ।

नास्ति गंगा समं तीर्थ न देव: केशवात्पर: ।
गायत्र्यास्तु परं जाप्यं भूतं न भविष्यति ।।

अर्थात् गंगा के समान कोई तीर्थ नहीं, केशव के समान कोई देव नहीं है । गायत्री से श्रेष्ठ न कोई जप हुआ न होगा । गायत्री मंत्र प्रणव (ओंकार) का विस्तृत रूप है ।

इस मंत्रोच्चारण द्वारा ब्रह्म के तेज की प्राप्ति होती है, इसलिए जहां भी गायत्री का वास होता है वहां यश, कीर्ति, ज्ञान तथा दिव्य बुद्धि सहज ही उपलब्ध हो जाती है ।

गीता मे भगवान कृष्ण ने स्वयं कहा है – ‘गायत्री छंदसामाहम् ।’

अर्थात् मंत्रों में मैं गायत्री मंत्र हूं । गायत्री मंत्र के 24 अक्षरों में, 24 ऋषियों और 24 देवताओं की शक्तियां समाहित मानी गई हैं । अत: मंत्रोच्चार से उन देवों से संबंधित शरीरस्थ नाड़ियों में प्राणसक्ति का स्पंदन शुरू हो जाता है तथा संपूर्ण शरीर में ऑक्सीजन का संचार बढ़ जाता है । जिससे शरीर के समस्त विकार जल कर नष्ट हो जाते हैं ।

शास्त्रों में कहा गया है कि गायत्री मंत्र का श्रद्धा से विधानानुसार जप करने से शारीरिक, भौतिक तथा आध्यात्मिक बाधाओं से मुक्ति मिलती है । जीवन में नई स्फूर्ति और आशाओं का संचार होता है । सद् विचार व सद् धर्म का उदय होता है । विवेकशीलता, आत्मबल, नम्रता, संयम, प्रेम, शांति, संतोष आदि सद् गुणों की वृद्धि होती है और दुर्भाव दुख आदि नष्ट होते हैं । इसके अलावा आयु, संतान, विद्या, कीर्ति, धन और ब्रह्यातेज की वृद्धि होकर आत्मा शुद्ध हो जाती है । यह अकाल मृत्यु और सभी प्रकार क्लेशों को नष्ट करता है ।

wish4me to English

praacheen granthon ke anusaar gaayatree mantr ke pratham akshar mein saphalata, doosare mein purushaarth, teesare mein paalan, chauthe mein kalyaan, paanchaven mein yog, chhathe mein prem, saataven mein lakshmee, aathaven mein tejasvita, naven mein suraksha, dasaven mein buddhi, gyaarahaven mein daman, baarahaven mein nishtha, terahaven mein dhaarana, chaudahaven mein praan, pandrahaven mein sanyam, solahaven mein tap, satrahaven mein dooradarshita, athaarahaven mein jaagaran, unneesaven mein srshti gyaan, beesaven mein saphalata, ikkeesaven mein saahas, baisaven mein daman, teisaven mein vivek aur chaubeesaven mein sevaabhaav naam kee shaktiyon ka samaavesh hai . gaayatree mantr ka kaary durbuddhi ka nivaaran kar sad buddhi dena hai . is mantr ke japane se chumbak tatv sakriy hokar prasupt kshetron ko gatisheel kar dete hain .

naasti ganga saman teerth na dev: keshavaatpar: .
gaayatryaastu paran jaapyan bhootan na bhavishyati ..

arthaat ganga ke samaan koee teerth nahin, keshav ke samaan koee dev nahin hai . gaayatree se shreshth na koee jap hua na hoga . gaayatree mantr pranav (onkaar) ka vistrt roop hai .

is mantrochchaaran dvaara brahm ke tej kee praapti hotee hai, isalie jahaan bhee gaayatree ka vaas hota hai vahaan yash, keerti, gyaan tatha divy buddhi sahaj hee upalabdh ho jaatee hai .

geeta me bhagavaan krshn ne svayan kaha hai – ‘gaayatree chhandasaamaaham .’

arthaat mantron mein main gaayatree mantr hoon . gaayatree mantr ke 24 aksharon mein, 24 rshiyon aur 24 devataon kee shaktiyaan samaahit maanee gaee hain . at: mantrochchaar se un devon se sambandhit shareerasth naadiyon mein praanasakti ka spandan shuroo ho jaata hai tatha sampoorn shareer mein okseejan ka sanchaar badh jaata hai . jisase shareer ke samast vikaar jal kar nasht ho jaate hain .

shaastron mein kaha gaya hai ki gaayatree mantr ka shraddha se vidhaanaanusaar jap karane se shaareerik, bhautik tatha aadhyaatmik baadhaon se mukti milatee hai . jeevan mein naee sphoorti aur aashaon ka sanchaar hota hai . sad vichaar va sad dharm ka uday hota hai . vivekasheelata, aatmabal, namrata, sanyam, prem, shaanti, santosh aadi sad gunon kee vrddhi hotee hai aur durbhaav dukh aadi nasht hote hain . isake alaava aayu, santaan, vidya, keerti, dhan aur brahyaatej kee vrddhi hokar aatma shuddh ho jaatee hai . yah akaal mrtyu aur sabhee prakaar kleshon ko nasht karata hai

Comments

comments