Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » गंगा दशहरा

गंगा दशहरा

ganga-dashera-story

ganga-dashera-story

61

पौराणिक मान्यता के अनुसार, राजा सगर के मृत पुत्रों का उद्धार करने के लिए गंगा धरती पर अवतरित हुईं थीं। ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की दशमी। ये विशेष तिथि है, इसे हर साल गंगा दशहरा के नाम से मनाया जाता है।

पौराणिक मान्यता के मुताबिक गंगा हिमालय और मैना की पुत्री हैं और भगवान विष्णु के अंगूठे से निकलती हैं। मान्यता है कि गंगा दशहरा के दिन ही गायत्री मंत्र का आविर्भाव हुआ था। महत्वपूर्ण ये कि इस वर्ष गंगा दशहरा पर वही योग है, जो सतयुग में गंगा अवतरण के अवसर पर था। ऐसे में इस बार गंगा दशहरा बहुत ही विशेष है। वराह पुराण के अनुसार, गंगा हस्त नक्षत्र में ज्येष्ठ शुक्ल दशमी तिथि को स्वर्ग से पृथ्वी पर उतरी थीं। 12 साल बाद इस बार फिर यही योग बन है।

विशेष महत्व-

गंगा में स्नान करने से दस पापों का हरण होकर अंत में मुक्ति मिलती है। गंगा स्रोत का पाठ करना चाहिए। गंगा दशहरा के दिन 10 का अंक शुभ माना जाता है। 10 दीपक जलाएं और 10 वस्तुओं का दान करें। गंगा जल को घर में छिड़कने से हर तरह के वास्तुदोषों से छुटकारा मिल सकता है।

गंगा दशहरा का पूजन मंत्र-

“ऊँ नम: शिवायै नारायण्यै दशहरायै गंगायै नम:’’ ।

wish4me in English

pauraanik maanyata ke anusaar, raaja sagar ke mrt putron ka uddhaar karane ke lie ganga dharatee par avatarit hueen theen. jyeshth maas ke shukl paksh kee dashamee. ye vishesh tithi hai, ise har saal ganga dashahara ke naam se manaaya jaata hai.

pauraanik maanyata ke mutaabik ganga himaalay aur maina kee putree hain aur bhagavaan vishnu ke angoothe se nikalatee hain. maanyata hai ki ganga dashahara ke din hee gaayatree mantr ka aavirbhaav hua tha. mahatvapoorn ye ki is varsh ganga dashahara par vahee yog hai, jo satayug mein ganga avataran ke avasar par tha. aise mein is baar ganga dashahara bahut hee vishesh hai. varaah puraan ke anusaar, ganga hast nakshatr mein jyeshth shukl dashamee tithi ko svarg se prthvee par utaree theen. 12 saal baad is baar phir yahee yog ban hai.

vishesh mahatv-

ganga mein snaan karane se das paapon ka haran hokar ant mein mukti milatee hai. ganga srot ka paath karana chaahie. ganga dashahara ke din 10 ka ank shubh maana jaata hai. 10 deepak jalaen aur 10 vastuon ka daan karen. ganga jal ko ghar mein chhidakane se har tarah ke vaastudoshon se chhutakaara mil sakata hai.

ganga dashahara ka poojan mantr-

“oon nam: shivaayai naaraayanyai dashaharaayai gangaayai nam:’’

Comments

comments