Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Buddha » गौतम बुद्ध

गौतम बुद्ध

gautam-buddh

gautam-buddh

gautam buddh

gautam buddh

बौद्ध धर्म के संस्थापक भगवान बुद्ध थे। एक राज परिवार में जन्मे राजकुमार सिदार्थ से लेकर भगवान बुद्ध बनने तक सफर बेहद रोचक रहा। गौतम बुद्ध बौद्ध लुम्बावनी के राजा शुद्धोधन और रानी महामाया के पुत्र थे। इनके बचपन का नाम सिद्धार्थ था। आत्म ज्ञान की प्राप्ति के बाद इन्हें महात्मा गौतम बुद्ध के नाम से जाना जाने लगा।

माना जाता है कि सिद्धार्थ के जन्म से पूर्व ही एक पंडित ने भविष्यवाणी की थी कि “राजा शुद्धोधन का पुत्र या तो महान सम्राट बनेगा या फिर एक महान संन्यासी।

सिद्धार्थ (गौतम बुद्ध) की शिक्षा और उनका परिवार (Family of Gautam Buddha)

सिद्धार्थ के जन्म के पश्चात उनके पिता ने उन्हें एक अच्छा सम्राट बनाने के लिए उचित शिक्षा की व्यवस्था की, परंतु सिद्धार्थ का मन पढ़ाई-लिखाई में नहीं था। इसके बाद राजा शुद्धोधन ने सिद्धार्थ की शादी करवा दी। सिद्धार्थ की पत्नी का नाम यशोधरा और उनके पुत्र का नाम राहुल था।

सिद्धार्थ (गौतम बुद्ध) का गृहत्याग (Life of Gautam Buddha)

एक दिन राजकुमार सिद्धार्थ का मन दुखी था। अपने मन को शांत करने के लिए वह घूमने निकले। घूमते हुए उनके साथ कुछ ऐसी घटनाएं हुई जिसके कारण उन्होंने घर त्याग कर वैराग्य धारण कर लिया।
भ्रमण के दौरान सिद्धार्थ ने एक बार एक वृद्ध व्यक्ति को देखा जिसके मुंह में दांत नहीं थे, शरीर झुका हुआ था और लड़खड़ाता हुआ चल रहा था। थोड़ी दूर और चलने पर उन्हें एक बीमार व्यक्ति दिखाई पड़ा, जिसका चहरा पिला था वह दूसरों के सहारे चल रहा था तथा बहुत कमजोर था।
सिद्धार्थ इन दोनों के बारे में सोचते हुए थोड़ा और आगे बढ़ें, इस बार उन्हें एक अर्थी दिखाई दी जिसको चार लोग अपने कंधे पर रखे हुए थे और उसके पीछे कई लोग रोते बिलखते हुए जा रहे थे। इन दृश्यों ने सिद्धार्थ को बहुत प्रभावित किया। इसके बाद जब वह अगले दिन सैर पर निकले तो उन्हें एक संन्यासी दिखाई दिया।
इस बार संन्यासी को देख सिद्धार्थ के मन में कई प्रश्न उठे, संन्यासी बहुत प्रसन्न तथा दुनिया की सभी चिंताओं से परे था उसे कोई दुख नहीं था तथा मुख पर एक विचित्र शांति थी। इसके बाद उन्होंने ने भी अपना गृहत्याग कर संन्यास ले लिया।
बौद्ध धर्म के संस्थापक है गौतम बुद्ध (Foundation of Buddhism)

गृहत्याग के बाद वह सत्य की खोज और ज्ञान प्राप्ति के लिए भटकते रहे। इसके बाद वह एक वृक्ष के नीचे ज्ञान प्राप्ति हेतु समाधि लगा कर बैठ गए। सात दिन के पश्चात आठवें दिन उनको ज्ञान प्राप्त हुआ तथा उन्होंने बौद्ध धर्म का प्रचार-प्रसार किया।
गौतम बुद्ध की प्रमुख शिक्षाएं (Teachings of Gautam Buddha in Hindi)

भगवान गौतम बुद्ध का पूरा जीवन ही एक शिक्षा की तरह देखा जाता है। लेकिन गौतम बुद्ध ने जो मुख्य शिक्षाएं दी वह निम्न हैं:

* एक मुनि के लिए सत्य ही सब कुछ होता है। सत्यनिष्ठ मुनि ही शांत रहते हैं।

* सत्य से बढ़कर जीवन में कुछ नहीं है।

* मनुष्य को सदैव अहिंसा के पथ पर चलना चाहिए।

* पशु बलि और मांसाहार से हमें दूर रहना चाहिए।

wish4me to English

bauddh dharm ke sansthaapak bhagavaan buddh the. ek raaj parivaar mein janme raajakumaar sidaarth se lekar bhagavaan buddh banane tak saphar behad rochak raha. gautam buddh bauddh lumbaavanee ke raaja shuddhodhan aur raanee mahaamaaya ke putr the. inake bachapan ka naam siddhaarth tha. aatm gyaan kee praapti ke baad inhen mahaatma gautam buddh ke naam se jaana jaane laga.

maana jaata hai ki siddhaarth ke janm se poorv hee ek pandit ne bhavishyavaanee kee thee ki “raaja shuddhodhan ka putr ya to mahaan samraat banega ya phir ek mahaan sannyaasee.

siddhaarth (gautam buddh) kee shiksha aur unaka parivaar (family of gautam buddh)

siddhaarth ke janm ke pashchaat unake pita ne unhen ek achchha samraat banaane ke lie uchit shiksha kee vyavastha kee, parantu siddhaarth ka man padhaee-likhaee mein nahin tha. isake baad raaja shuddhodhan ne siddhaarth kee shaadee karava dee. siddhaarth kee patnee ka naam yashodhara aur unake putr ka naam raahul tha.

siddhaarth (gautam buddh) ka grhatyaag (lifai of gautam buddh)

ek din raajakumaar siddhaarth ka man dukhee tha. apane man ko shaant karane ke lie vah ghoomane nikale. ghoomate hue unake saath kuchh aisee ghatanaen huee jisake kaaran unhonne ghar tyaag kar vairaagy dhaaran kar liya.
bhraman ke dauraan siddhaarth ne ek baar ek vrddh vyakti ko dekha jisake munh mein daant nahin the, shareer jhuka hua tha aur ladakhadaata hua chal raha tha. thodee door aur chalane par unhen ek beemaar vyakti dikhaee pada, jisaka chahara pila tha vah doosaron ke sahaare chal raha tha tatha bahut kamajor tha.
siddhaarth in donon ke baare mein sochate hue thoda aur aage badhen, is baar unhen ek arthee dikhaee dee jisako chaar log apane kandhe par rakhe hue the aur usake peechhe kaee log rote bilakhate hue ja rahe the. in drshyon ne siddhaarth ko bahut prabhaavit kiya. isake baad jab vah agale din sair par nikale to unhen ek sannyaasee dikhaee diya.
is baar sannyaasee ko dekh siddhaarth ke man mein kaee prashn uthe, sannyaasee bahut prasann tatha duniya kee sabhee chintaon se pare tha use koee dukh nahin tha tatha mukh par ek vichitr shaanti thee. isake baad unhonne ne bhee apana grhatyaag kar sannyaas le liya.
bauddh dharm ke sansthaapak hai gautam buddh (foundation of buddhism)

grhatyaag ke baad vah saty kee khoj aur gyaan praapti ke lie bhatakate rahe. isake baad vah ek vrksh ke neeche gyaan praapti hetu samaadhi laga kar baith gae. saat din ke pashchaat aathaven din unako gyaan praapt hua tatha unhonne bauddh dharm ka prachaar-prasaar kiya.
gautam buddh kee pramukh shikshaen (taiachhings of gautam buddh in hindi)

bhagavaan gautam buddh ka poora jeevan hee ek shiksha kee tarah dekha jaata hai. lekin gautam buddh ne jo mukhy shikshaen dee vah nimn hain:

* ek muni ke lie saty hee sab kuchh hota hai. satyanishth muni hee shaant rahate hain.

* saty se badhakar jeevan mein kuchh nahin hai.

* manushy ko sadaiv ahinsa ke path par chalana chaahie.

* pashu bali aur maansaahaar se hamen door rahana chaahie

Comments

comments