Sunday , 17 September 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru_Profile » Ramayan » गौतम ऋषि की पत्नी अहिल्या की कहानी

गौतम ऋषि की पत्नी अहिल्या की कहानी

gautam-rriṣi-kee-patnee-ahilyaa-kee-kahaanee

gautam-rriṣi-kee-patnee-ahilyaa-kee-kahaanee

Gautam rriṣi kee patnee ahilyaa kee kahaanee

Gautam rriṣi kee patnee ahilyaa kee kahaanee

रामायण में वर्णित कथा के अनुसार राम और लक्ष्मण ऋषि विश्वामित्र के साथ मिथिलापुरी के वन उपवन आदि देखने के लिये निकले तो उन्होंने एक उपवन में एक निर्जन स्थान देखा। राम बोले, “भगवन! यह स्थान देखने में तो आश्रम जैसा दिखाई देता है किन्तु क्या कारण है कि यहाँ कोई ऋषि या मुनि दिखाई नहीं देते?” विश्वामित्र जी ने बताया, यह स्थान कभी महर्षि गौतम का आश्रम था। वे अपनी पत्नी के साथ यहाँ रह कर तपस्या करते थे। माता अहिल्या इतनी सुंदर थी कि उनके रूप की चर्चा तीनों लोक में थी। जब यह बात देवराज इंद्र को पता चली तो वो उनके प्रति आकर्षित हो गए। एक दिन जब गौतम ऋषि आश्रम के बाहर गये हुये थे तो उनकी अनुपस्थिति में इन्द्र ने गौतम ऋषि के वेश में आकर अहिल्या से प्रणय याचना की लेकिन जब गौतम ऋर्षि अपनी कुटिया में लौटे तो, अपने ही स्वरूप को देखकर चौंक गए। गौतम ऋषि की दृष्टि इन्द्र पर पड़ी जो उन्हीं का वेश धारण किये हुये था। वे सब कुछ समझ गये और उन्होंने इन्द्र को शाप दे दिया। इसके बाद उन्होंने अपनी पत्नी को शाप दिया कि दुराचारिणी! तू हजारों वर्षों तक केवल हवा पीकर कष्ट उठाती हुई यहाँ राख में पाषाण बनी पड़ी रहे। जब राम इस वन में प्रवेश करेंगे तभी उनकी कृपा से तेरा उद्धार होगा। तभी तू अपना पूर्व शरीर धारण करके मेरे पास आ सकेगी। यह कह कर गौतम ऋषि इस आश्रम को छोड़कर हिमालय पर जाकर तपस्या करने लगे। इसलिये विश्वामित्र जी ने कहा “हे राम! अब तुम आश्रम के अन्दर जाकर अहिल्या का उद्धार करो।” विश्वामित्र जी की बात सुनकर वे दोनों भाई आश्रम के भीतर प्रविष्ट हुये। वहां तपस्या में निरत अहिल्या कहीं दिखाई नहीं दे रही थी, केवल उसका तेज सम्पूर्ण वातावरण में व्याप्त हो रहा था। जब अहिल्या की दृष्टि राम पर पड़ी तो उनके पवित्र दर्शन पाकर एक बार फिर सुन्दर नारी के रूप में दिखाई देने लगी और जैसे ही श्रीराम ने अहिल्या के पाषाण रूप को छुआ अहिल्या शाप मुक्त हो गई।

wish4me in English

raamaayan mein varnit katha ke anusaar raam aur lakshman rshi vishvaamitr ke saath mithilaapuree ke van upavan aadi dekhane ke liye nikale to unhonne ek upavan mein ek nirjan sthaan dekha. raam bole, “bhagavan! yah sthaan dekhane mein to aashram jaisa dikhaee deta hai kintu kya kaaran hai ki yahaan koee rshi ya muni dikhaee nahin dete?” vishvaamitr jee ne bataaya, yah sthaan kabhee maharshi gautam ka aashram tha. ve apanee patnee ke saath yahaan rah kar tapasya karate the. maata ahilya itanee sundar thee ki unake roop kee charcha teenon lok mein thee. jab yah baat devaraaj indr ko pata chalee to vo unake prati aakarshit ho gae. ek din jab gautam rshi aashram ke baahar gaye huye the to unakee anupasthiti mein indr ne gautam rshi ke vesh mein aakar ahilya se pranay yaachana kee lekin jab gautam rrshi apanee kutiya mein laute to, apane hee svaroop ko dekhakar chaunk gae. gautam rshi kee drshti indr par padee jo unheen ka vesh dhaaran kiye huye tha. ve sab kuchh samajh gaye aur unhonne indr ko shaap de diya. isake baad unhonne apanee patnee ko shaap diya ki duraachaarinee! too hajaaron varshon tak keval hava peekar kasht uthaatee huee yahaan raakh mein paashaan banee padee rahe. jab raam is van mein pravesh karenge tabhee unakee krpa se tera uddhaar hoga. tabhee too apana poorv shareer dhaaran karake mere paas aa sakegee. yah kah kar gautam rshi is aashram ko chhodakar himaalay par jaakar tapasya karane lage. isaliye vishvaamitr jee ne kaha “he raam! ab tum aashram ke andar jaakar ahilya ka uddhaar karo.” vishvaamitr jee kee baat sunakar ve donon bhaee aashram ke bheetar pravisht huye. vahaan tapasya mein nirat ahilya kaheen dikhaee nahin de rahee thee, keval usaka tej sampoorn vaataavaran mein vyaapt ho raha tha. jab ahilya kee drshti raam par padee to unake pavitr darshan paakar ek baar phir sundar naaree ke roop mein dikhaee dene lagee aur jaise hee shreeraam ne ahilya ke paashaan roop ko chhua ahilya shaap mukt ho gaee.

Comments

comments