Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » पेड़ नहीं छोड़ता (how to get rid of drunk addiction)

पेड़ नहीं छोड़ता (how to get rid of drunk addiction)

get-rid-of-drunk-addiction

get-rid-of-drunk-addiction

Ped-nahi-Chhodta

Ped-nahi-Chhodta

एक बार की बात है . एक व्यक्ति को रोज़-रोज़ जुआ खेलने की बुरी आदत पड़ गयी थी . उसकी इस आदत से सभी बड़े परेशान रहते. लोग उसे समझाने कि भी बहुत कोशिश करते कि वो ये गन्दी आदत छोड़ दे , लेकिन वो हर किसी को एक ही जवाब देता, ” मैंने ये आदत नहीं पकड़ी, इस आदत ने मुझे पकड़ रखा है !!!”

 और सचमुच वो इस आदत को छोड़ना चाहता था , पर हज़ार कोशिशों के बावजूद वो ऐसा नहीं कर पा रहा था.

परिवार वालों ने सोचा कि शायद शादी करवा देने से वो ये आदत छोड़ दे , सो उसकी शादी करा दी गयी. पर कुछ दिनों तक सब ठीक चला और फिर से वह जुआ खेलने जाना लगा. उसकी पत्नी भी अब काफी चिंतित रहने लगी , और उसने निश्चय किया कि वह किसी न किसी तरह अपने पति की इस आदत को छुड़वा कर ही दम लेगी.

एक दिन पत्नी को किसी सिद्ध साधु-महात्मा के बारे में पता चला, और वो अपने पति को लेकर उनके आश्रम पहुंची. साधु ने कहा, ” बताओ पुत्री तुम्हारी क्या समस्या है ?”

पत्नी ने दुखपूर्वक सारी बातें साधु-महाराज को बता दी .

 साधु-महाराज उनकी बातें सुनकर समस्या कि जड़ समझ चुके थे, और समाधान देने के लिए उन्होंने पति-पत्नी को अगले दिन आने के लिए कहा .

अगले दिन वे आश्रम पहुंचे तो उन्होंने देखा कि साधु-महाराज एक पेड़ को पकड़ के खड़े है .

उन्होंने साधु से पूछा कि आप ये क्या कर रहे हैं ; और पेड़ को इस तरह क्यों पकडे हुए हैं ?

साधु ने कहा , ” आप लोग जाइये और कल आइयेगा .”

फिर तीसरे दिन भी पति-पत्नी पहुंचे तो देखा कि फिर से साधु पेड़ पकड़ के खड़े हैं .

उन्होंने जिज्ञासा वश पूछा , ” महाराज आप ये क्या कर रहे हैं ?”

साधु बोले, ” पेड़ मुझे छोड़ नहीं रहा है .आप लोग कल आना .”

पति-पत्नी को साधु जी का व्यवहार कुछ विचित्र लगा , पर वे बिना कुछ कहे वापस लौट गए.

अगले दिन जब वे फिर आये तो देखा कि साधु महाराज अभी भी उसी पेड़ को पकडे खड़े है.

पति परेशान होते हुए बोला ,” बाबा आप ये क्या कर रहे हैं ?, आप इस पेड़ को छोड़ क्यों नहीं देते?”

साधु बोले ,”मैं क्या करूँ बालक ये पेड़ मुझे छोड़ ही नहीं रहा है ?”

पति हँसते हुए बोला , “महाराज आप पेड़ को पकडे हुए हैं , पेड़ आप को नहीं !….आप जब चाहें उसे छोड़ सकते हैं.”

साधू-महाराज गंभीर होते हुए बोले, ” इतने दिनों से मै तुम्हे क्या समझाने कि कोशिश कर रहा हूँ .यही न कि तुम जुआ खेलने की आदत को पकडे हुए हो ये आदत तुम्हे नहीं पकडे हुए है!”

पति को अपनी गलती का अहसास हो चुका था  , वह समझ गया कि किसी भी आदत के लिए वह खुद जिम्मेदार है ,और वह अपनी इच्छा शक्ति के बल पर जब चाहे उसे छोड़ सकता है.

Wish4me to English

Ek baar kee baat hai . Ek vyakti ko roza-roza juaa khelane kee buree aadat pad gayee thee . Usakee is aadat se sabhee bade pareshaan rahate. Log use samajhaane ki bhee bahut koshish karate ki vo ye gandee aadat chhod de , lekin vo har kisee ko ek hee javaab detaa, ” mainne ye aadat naheen pakadee, is aadat ne mujhe pakad rakhaa hai !!!”

aur sachamuch vo is aadat ko chhodnaa chaahataa thaa , par hazaar koshishon ke baavajood vo aisaa naheen kar paa rahaa thaa. Parivaar vaalon ne sochaa ki shaayad shaadee karavaa dene se vo ye aadat chhod de , so usakee shaadee karaa dee gayee. Par kuchh dinon tak sab ṭheek chalaa aur fir se vah juaa khelane jaanaa lagaa. Usakee patnee bhee ab kaafee chintit rahane lagee , aur usane nishchay kiyaa ki vah kisee n kisee tarah apane pati kee is aadat ko chhudvaa kar hee dam legee. Ek din patnee ko kisee siddh saadhu-mahaatmaa ke baare men pataa chalaa, aur vo apane pati ko lekar unake aashram pahunchee. Saadhu ne kahaa, ” bataa_o putree tumhaaree kyaa samasyaa hai ?”

patnee ne dukhapoorvak saaree baaten saadhu-mahaaraaj ko bataa dee . Saadhu-mahaaraaj unakee baaten sunakar samasyaa ki jad samajh chuke the, aur samaadhaan dene ke lie unhonne pati-patnee ko agale din aane ke lie kahaa . Agale din ve aashram pahunche to unhonne dekhaa ki saadhu-mahaaraaj ek ped ko pakad ke khade hai . Unhonne saadhu se poochhaa ki aap ye kyaa kar rahe hain ; aur ped ko is tarah kyon pakaḍae hue hain ? Saadhu ne kahaa , ” aap log jaaiye aur kal aaiyegaa .”

fir teesare din bhee pati-patnee pahunche to dekhaa ki fir se saadhu ped pakad ke khade hain . Unhonne jigyaasaa vash poochhaa , ” mahaaraaj aap ye kyaa kar rahe hain ?”

saadhu bole, ” ped mujhe chhod naheen rahaa hai . Aap log kal aanaa .”

pati-patnee ko saadhu jee kaa vyavahaar kuchh vichitr lagaa , par ve binaa kuchh kahe vaapas lauṭ ga_e. Agale din jab ve fir aaye to dekhaa ki saadhu mahaaraaj abhee bhee usee ped ko pakaḍae khade hai. Pati pareshaan hote hue bolaa ,” baabaa aap ye kyaa kar rahe hain ?, aap is ped ko chhod kyon naheen dete?”

saadhu bole ,”main kyaa karoon baalak ye ped mujhe chhod hee naheen rahaa hai ?”

pati hnsate hue bolaa , “mahaaraaj aap ped ko pakaḍae hue hain , ped aap ko naheen !…. Aap jab chaahen use chhod sakate hain.”

saadhoo-mahaaraaj gnbheer hote hue bole, ” itane dinon se mai tumhe kyaa samajhaane ki koshish kar rahaa hoon . Yahee n ki tum juaa khelane kee aadat ko pakaḍae hue ho ye aadat tumhe naheen pakaḍae hue hai!”

pati ko apanee galatee kaa ahasaas ho chukaa thaa , vah samajh gayaa ki kisee bhee aadat ke lie vah khud jimmedaar hai ,aur vah apanee ichchhaa shakti ke bal par jab chaahe use chhod sakataa hai.

Comments

comments