Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » भगवान मानव रूप नहीं ले सकते (God can not take human form)

भगवान मानव रूप नहीं ले सकते (God can not take human form)

god-can-not-take-human-form

god-can-not-take-human-form

God can not take human form

God can not take human form

सिख धर्म का अवतारवाद में विश्वास नहीं है। सिख धर्म इस बात का पुरजोर विरोध करता है कि भगवान अवतार लेते हैं या भगवान के कई रूप होते हैं। सिख धर्म की मान्यता है कि भगवान ना तो जीवन लेते हैं और ना मृत्यु को प्राप्त होते हैं। वह एक ऐसी शक्ति हैं जो इस संसार में सदैव व्याप्त है।

एक ईश्वर की धारणा 

सिख गुरुओं ने भी इस बात पर जोर दिया है कि भगवान के अवतारवाद में किसी का यकीन ना हो क्योंकि भगवान एक ही है। अगर भगवान भी मनुष्यों की तरह जीवन-मरण के चक्र में फंसेगे तो मनुष्यों को कौन बाहर निकालेगा। यह सिद्धांत हिन्दूओं की धारणा से बेहद अलग है जिसके अनुसार धर्म के उत्थान के लिए स्वयं भगवान अवतार लेते हैं। सिख धर्म के अनुसार भगवान के विषय में निम्न धारणाएं प्रचलित हैं:
* एक ओंकार यानि भगवान एक है।
* भगवान की ना जाति ना वर्ग है।
* भगवान सभी को प्राप्त हो सकते हैं। उन्हें प्राप्त करने के लिए किसी सहारे, साधु, जादू आदि की जरूरत नहीं है।

wish4me to English

sikh dharm ka avataaravaad mein vishvaas nahin hai. sikh dharm is baat ka purajor virodh karata hai ki bhagavaan avataar lete hain ya bhagavaan ke kaee roop hote hain. sikh dharm kee maanyata hai ki bhagavaan na to jeevan lete hain aur na mrtyu ko praapt hote hain. vah ek aisee shakti hain jo is sansaar mein sadaiv vyaapt hai.

ek eeshvar kee dhaarana

sikh guruon ne bhee is baat par jor diya hai ki bhagavaan ke avataaravaad mein kisee ka yakeen na ho kyonki bhagavaan ek hee hai. agar bhagavaan bhee manushyon kee tarah jeevan-maran ke chakr mein phansege to manushyon ko kaun baahar nikaalega. yah siddhaant hindooon kee dhaarana se behad alag hai jisake anusaar dharm ke utthaan ke lie svayan bhagavaan avataar lete hain. sikh dharm ke anusaar bhagavaan ke vishay mein nimn dhaaranaen prachalit hain:
* ek onkaar yaani bhagavaan ek hai.
* bhagavaan kee na jaati na varg hai.
* bhagavaan sabhee ko praapt ho sakate hain. unhen praapt karane ke lie kisee sahaare, saadhu, jaadoo aadi kee jaroorat nahin hai.

Comments

comments