Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru_Profile » Ramayan » भगवान् का स्वभाव है कि जो उनको जैसे भजता है, वे भी उसको वैसे ही भजते हैं

भगवान् का स्वभाव है कि जो उनको जैसे भजता है, वे भी उसको वैसे ही भजते हैं

god-remembers-us-in-manner-we-remember-him

god-remembers-us-in-manner-we-remember-him

god remembers us in manner we remember him

god remembers us in manner we remember him

शबरी भगवान् की परम भक्त थी । पहले वह ‘शबर’ जाति की एक भोली-भाली लड़की थी । शबर-जाति के लोग कुरूप होते थे ।

परन्तु शबरी इतनी कुरूप थी कि शबर-जाति के लोग भी उसको स्वीकार नहीं करते थे ! माँ-बाप को बड़ी चिन्ता होने लगी कि लड़की का विवाह कहाँ करें ! ढूँढ़ते-ढूँढ़ते आखिर उनको शबर-जाति का लड़का मिल गया ।
l
माँ-बाप ने रात में शबरी का विवाह करके उसको रात में ही विदा कर दिया । लड़के को कह दिया कि भैया, तुम रात-रात में ही अपनी स्त्री को ले जाओ । लड़का उसको लेकर रवाना हो गया । आगे-आगे लड़का चल रहा था, पीछे-पीछे शबरी चल रही थी । चलते-चलते वे दण्डक वन में आ पहुँचे| वहाँ सूर्योदय हो गया । लड़के के मन में आया कि देखूँ तो सही, मेरी स्त्री कैसी है ? उसने पीछे मुड़कर शबरी को देखा तो उसकी कुरूपता देखकर वह डर के मारे वहाँ से भाग गया कि यह तो कोई डाकण है, मेरे को खा जायगी ! अब शबरी बेचारी दण्डकवन में अकेली रह गयी । वह पीहर से तो आ गयी और ससुराल का पता नहीं, अब वह कहाँ जाये ?

दण्डकवन में रहने वाले ऋषि शबरी को अछूत मानकर उसका तिरस्कार करने लगे । वहाँ ‘मतंग’ नाम के एक वृद्ध ऋषि रहते थे, उन्होंने शबरी को देखा तो उस पर दया आ गयी । उन्होंने कृपा करके उसको अपने आश्रम में शरण दे दी । दूसरे ऋषियों ने इसका बड़ा विरोध किया कि आपने अछूत जाति की स्त्री को अपने पास रख लिया । परन्तु मतंग ऋषि ने उसकी बात मानी नही । उन्होंने बड़े स्नेहपूर्वक शबरी से कहा कि बेटा ! तुम डरो मत, घबराओ मत, मेरे पास रह जाओ । जैसे कोई माँ-बाप के पास रहे, तो ऐसे ही शबरी खुशी से वहाँ रहने लग गयी ।

शबरी को सेवा करने में बड़ा आनन्द आता था । सब ऋषि-मुनि शबरी का तिरस्कार किया करते थे, इसलिये वह छिपकर, डरते-डरते उनकी सेवा किया करते थी । रात में जब सब सो जाते, तब जिस रास्ते से ऋषि लोग स्नान के लिये पम्पा सरोवर जाते थे, वह रास्ता बुहारकर साफ कर देती । जहाँ कंकड़ होते, वहाँ बालू बिछा देती । ऋषियों के लिये ईंधन लाकर रख देती । अगर कोई देख लेता तो वहाँ से भाग जाती । वह डरती थी कि अगर मेरी छाया ऋषियों पर पड़ जायगी तो वे अशुद्ध हो जायँगे । इस प्रकार ऋषि-मुनियों की सेवा में उसका समय बीतता गया ।

आखिर एक दिन वह समय आ पहुँचा, जो सबके लिये अनिवार्य है ! मतंग ऋषि का शरीर छूटने का समय आ गया । जैसे माँ-बाप के मरते समय बालक रोता है, ऐसे शबरी भी रोने लग गयी । रोने के सिवाय वह और करे क्या ? हाथ की बात थी नही । मतंग ऋषि ने कहा कि बेटा ! तुम चिन्ता मत करो । एक दिन तेरे पास भगवान् राम अवश्य आयेंगे । इतना कहकर मतंग ऋषि शरीर छोड़कर चले गये ।

अब शबरी भगवान् राम के आने की प्रतीक्षा करने लगी । प्रतीक्षा बहुत ऊँची साधना है, इसमें भगवान् का विशेष चिन्तन होता है । भगवान् भजन ध्यान करते हैं तो वह इतना सजीव साधन नहीं होता, निर्जीव-सा होता है । परन्तु प्रतीक्षा में सजीव साधन होती है । रात में किसी जानवर के चलने से पत्तों की खड़खड़ाहट भी होती तो शबरी बाहर आकर देखती कि कहीं राम तो नहीं आ गये ! वह प्रतिदिन कुटिया के बाहर पुष्प बिछाती और तरह-तरह के फल लाकर रखती । फलों में भी चखकर बढ़िया-बढ़िया फल राम जी के लिये रखती । रामजी नहीं आते तो दूसरे दिन फिर रामजी के लिये रखती । उसके मन में बड़ा उत्साह था कि राम जी आयेंगे तो उनको भोजन कराऊँगी ।

प्रतीक्षा करते-करते एक दिन शबरी की साधना पूर्ण हो गयी । मुनि के वचन सत्य हो गये । भगवान् राम शबरी की कुटिया में पधारे…

सबरी देखि राम गृह आए । मुनि के बचन समुझि जियँ भाए ।।

दूसरे बड़े-बड़े ऋषि-मुनि प्रार्थना करते हैं कि महाराज! हमारी कुटिया में पधारो । पर भगवान् कहते हैं कि नहीं, हम तो शबरी की कुटिया में जायँगे ।

जैसे शबरी के हृदय में भगवान् से मिलने की उत्कण्ठा लगी है, ऐसे ही भगवान् के मन में शबरी से मिलने की उत्कण्ठा लगी है । भगवान् का स्वभाव है कि जो उनको जैसे भजता है, वे भी उसको वैसे ही भजते हैं-

‘ये यथा प्रपद्यन्ते तांस्तथैव भजाम्यहम्’

शबरी के आनन्द की सीमा नहीं रही । उसने भगवान् के चरण धोये, फिर आसन बिछाकर उनको बैठाया । फल लाकर भगवान् के सामने रखे और प्रेमपूर्वक उनको खिलाने लगी । जैसे माँ बालक को भोजन कराये, ऐसे शबरी प्यार से राम जी को फल खिलाने लगी और राम जी बड़े प्यार से उनको खाने लगे..

कन्द मूल सरसु अति दिए राम कहुँ आनि ।
प्रेम सहित प्रभु खाए बारंबार बखानि ।।

wish4me to English

shabaree bhagavaan kee param bhakt thee . pahale vah shabar jaati kee ek bholee-bhaalee ladakee thee . shabar-jaati ke log kuroop hote the .

parantu shabaree itanee kuroop thee ki shabar-jaati ke log bhee usako sveekaar nahin karate the ! maan-baap ko badee chinta hone lagee ki ladakee ka vivaah kahaan karen ! dhoondhate-dhoondhate aakhir unako shabar-jaati ka ladaka mil gaya .
l
maan-baap ne raat mein shabaree ka vivaah karake usako raat mein hee vida kar diya . ladake ko kah diya ki bhaiya, tum raat-raat mein hee apanee stree ko le jao . ladaka usako lekar ravaana ho gaya . aage-aage ladaka chal raha tha, peechhe-peechhe shabaree chal rahee thee . chalate-chalate ve dandak van mein aa pahunche| vahaan sooryoday ho gaya . ladake ke man mein aaya ki dekhoon to sahee, meree stree kaisee hai ? usane peechhe mudakar shabaree ko dekha to usakee kuroopata dekhakar vah dar ke maare vahaan se bhaag gaya ki yah to koee daakan hai, mere ko kha jaayagee ! ab shabaree bechaaree dandakavan mein akelee rah gayee . vah peehar se to aa gayee aur sasuraal ka pata nahin, ab vah kahaan jaaye ?

dandakavan mein rahane vaale rshi shabaree ko achhoot maanakar usaka tiraskaar karane lage . vahaan matang naam ke ek vrddh rshi rahate the, unhonne shabaree ko dekha to us par daya aa gayee . unhonne krpa karake usako apane aashram mein sharan de dee . doosare rshiyon ne isaka bada virodh kiya ki aapane achhoot jaati kee stree ko apane paas rakh liya . parantu matang rshi ne usakee baat maanee nahee . unhonne bade snehapoorvak shabaree se kaha ki beta ! tum daro mat, ghabarao mat, mere paas rah jao . jaise koee maan-baap ke paas rahe, to aise hee shabaree khushee se vahaan rahane lag gayee .

shabaree ko seva karane mein bada aanand aata tha . sab rshi-muni shabaree ka tiraskaar kiya karate the, isaliye vah chhipakar, darate-darate unakee seva kiya karate thee . raat mein jab sab so jaate, tab jis raaste se rshi log snaan ke liye pampa sarovar jaate the, vah raasta buhaarakar saaph kar detee . jahaan kankad hote, vahaan baaloo bichha detee . rshiyon ke liye eendhan laakar rakh detee . agar koee dekh leta to vahaan se bhaag jaatee . vah daratee thee ki agar meree chhaaya rshiyon par pad jaayagee to ve ashuddh ho jaayange . is prakaar rshi-muniyon kee seva mein usaka samay beetata gaya .

aakhir ek din vah samay aa pahuncha, jo sabake liye anivaary hai ! matang rshi ka shareer chhootane ka samay aa gaya . jaise maan-baap ke marate samay baalak rota hai, aise shabaree bhee rone lag gayee . rone ke sivaay vah aur kare kya ? haath kee baat thee nahee . matang rshi ne kaha ki beta ! tum chinta mat karo . ek din tere paas bhagavaan raam avashy aayenge . itana kahakar matang rshi shareer chhodakar chale gaye .

ab shabaree bhagavaan raam ke aane kee prateeksha karane lagee . prateeksha bahut oonchee saadhana hai, isamen bhagavaan ka vishesh chintan hota hai . bhagavaan bhajan dhyaan karate hain to vah itana sajeev saadhan nahin hota, nirjeev-sa hota hai . parantu prateeksha mein sajeev saadhan hotee hai . raat mein kisee jaanavar ke chalane se patton kee khadakhadaahat bhee hotee to shabaree baahar aakar dekhatee ki kaheen raam to nahin aa gaye ! vah pratidin kutiya ke baahar pushp bichhaatee aur tarah-tarah ke phal laakar rakhatee . phalon mein bhee chakhakar badhiya-badhiya phal raam jee ke liye rakhatee . raamajee nahin aate to doosare din phir raamajee ke liye rakhatee . usake man mein bada utsaah tha ki raam jee aayenge to unako bhojan karaoongee .

prateeksha karate-karate ek din shabaree kee saadhana poorn ho gayee . muni ke vachan saty ho gaye . bhagavaan raam shabaree kee kutiya mein padhaare…

sabaree dekhi raam grh aae . muni ke bachan samujhi jiyan bhae ..

doosare bade-bade rshi-muni praarthana karate hain ki mahaaraaj! hamaaree kutiya mein padhaaro . par bhagavaan kahate hain ki nahin, ham to shabaree kee kutiya mein jaayange .

jaise shabaree ke hrday mein bhagavaan se milane kee utkantha lagee hai, aise hee bhagavaan ke man mein shabaree se milane kee utkantha lagee hai . bhagavaan ka svabhaav hai ki jo unako jaise bhajata hai, ve bhee usako vaise hee bhajate hain-

ye yatha prapadyante taanstathaiv bhajaamyaham

shabaree ke aanand kee seema nahin rahee . usane bhagavaan ke charan dhoye, phir aasan bichhaakar unako baithaaya . phal laakar bhagavaan ke saamane rakhe aur premapoorvak unako khilaane lagee . jaise maan baalak ko bhojan karaaye, aise shabaree pyaar se raam jee ko phal khilaane lagee aur raam jee bade pyaar se unako khaane lage..

kand mool sarasu ati die raam kahun aani .
prem sahit prabhu khae baarambaar bakhaani

Comments

comments