Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग

घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग

grishneshwar-mahadev-jyotirling

grishneshwar-mahadev-jyotirling

Grishneshwar Mahadev Jyotirling story

महाराष्ट्र में औरंगाबाद के नजदीक दौलताबाद से 11 किलोमीटर दूर घृष्‍णेश्‍वर महादेव (Grishneshwar Mahadev Jyotirling Temple ) का मंदिर स्थित है। यह बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। कुछ लोग इसे घुश्मेश्वर के नाम से भी पुकारते हैं। बौद्ध भिक्षुओं द्वारा निर्मित एलोरा की प्रसिद्ध गुफाएं इस मंदिर के समीप ही स्थित हैं। इस मंदिर का निर्माण देवी अहिल्याबाई होल्कर ने करवाया था। द्वादश ज्योतिर्लिंगों में इसे अंतिम ज्योतिर्लिंग कहते हैं। इसे घुश्मेश्वर, घुसृणेश्वर या घृष्णेश्वर भी कहा जाता है। घुश्मेश्वर महादेव के दर्शन करने से सभी प्रकार के पाप नष्ट हो जाते हैं तथा उसी प्रकार सुख-समृद्धि होती है, जिस प्रकार शुक्ल पक्ष में चन्द्रमा की।

घृष्‍णेश्‍वर महादेव ज्योतिर्लिंग की कथा (Story of Grishneshwar Mahadev Jyotirling Temple)

दक्षिण देश के देवगिरि पर्वत के निकट सुधर्मा नामक ब्राह्मण अपनी पत्नी सुदेहा के साथ रहता था। वे दोनों शिव भक्त थे। किंतु सन्तान न होने से चिंतित रहते थे। सुधर्मा ने पत्नी के आग्रह पर उसकी बहन घुश्मा के साथ विवाह किया जो परम शिव भक्त थी। शिव कृपा से उसे एक पुत्र धन की प्राप्ति हुई। इससे सुदेहा को ईष्या होने लगी और उसने अवसर पाकर सौत के बेटे की हत्या कर दी।

लेकिन घुश्मा ने भगवान शिव की आराधना करना नहीं छोड़ा। अगले दिन शिवजी की कृपा से ही बालक जी उठा। उसी समय भगवान शिव प्रकट हुए और घुश्मा से वर मांगने को कहने लगे। घुश्मा ने हाथ जोड़कर भगवान शिव से कहा- “प्रभु! यदि आप मुझ पर प्रसन्न हैं तो मेरी उस अभागिन बहन को क्षमा कर दें। निश्चित ही उसने अत्यंत जघन्य पाप किया है किंतु आपकी दया से मुझे मेरा पुत्र वापस मिल गया। अब आप उसे क्षमा करें और प्रभु! मेरी एक प्रार्थना और है, लोक-कल्याण के लिए आप इस स्थान पर सर्वदा के लिए निवास करें।

घृष्‍णेश्‍वर महादेव ज्योतिर्लिंग का महत्व (Importance of Grishneshwar Mahadev Jyotirling Temple)

भगवान शिव ने उसकी ये दोनों बातें स्वीकार कर लीं। ज्योतिर्लिंग के रूप में प्रकट होकर वह वहीं निवास करने लगे। उस तालाब का नाम भी तबसे शिवालय हो गया। सती शिवभक्त घुश्मा के आराध्य होने के कारण वे यहां घुश्मेश्वर महादेव के नाम से विख्यात हुए। कहते हैं घुश्मेश्वर-ज्योतिर्लिंग का दर्शन लोक-परलोक दोनों के लिए अमोघ फलदायी है।


 

mahaaraashtr mein aurangaabaad ke najadeek daulataabaad se 11 kilomeetar door ghrshneshvar mahaadev (ghrshneshvar mahaadev jyotirling mandir) ka mandir sthit hai. yah baarah jyotirlingon mein se ek hai. kuchh log ise ghushmeshvar ke naam se bhee pukaarate hain. bauddh bhikshuon dvaara nirmit elora kee prasiddh guphaen is mandir ke sameep hee sthit hain. is mandir ka nirmaan devee ahilyaabaee holkar ne karavaaya tha. dvaadash jyotirlingon mein ise antim jyotirling kahate hain. ise ghushmeshvar, ghusrneshvar ya ghrshneshvar bhee kaha jaata hai. ghushmeshvar mahaadev ke darshan karane se sabhee prakaar ke paap nasht ho jaate hain tatha usee prakaar sukh-samrddhi hotee hai, jis prakaar shukl paksh mein chandrama kee.

ghrshneshvar mahaadev jyotirling kee katha (ghrshneshvar mahaadev mandir jyotirling kee kahaanee)

dakshin desh ke devagiri parvat ke nikat sudharma naamak braahman apanee patnee sudeha ke saath rahata tha. ve donon shiv bhakt the. kintu santaan na hone se chintit rahate the. sudharma ne patnee ke aagrah par usakee bahan ghushma ke saath vivaah kiya jo param shiv bhakt thee. shiv krpa se use ek putr dhan kee praapti huee. isase sudeha ko eeshya hone lagee aur usane avasar paakar saut ke bete kee hatya kar dee.

lekin ghushma ne bhagavaan shiv kee aaraadhana karana nahin chhoda. agale din shivajee kee krpa se hee baalak jee utha. usee samay bhagavaan shiv prakat hue aur ghushma se var maangane ko kahane lage. ghushma ne haath jodakar bhagavaan shiv se kaha- “prabhu! yadi aap mujh par prasann hain to meree us abhaagin bahan ko kshama kar den. nishchit hee usane atyant jaghany paap kiya hai kintu aapakee daya se mujhe mera putr vaapas mil gaya. ab aap use kshama karen aur prabhu! meree ek praarthana aur hai, lok-kalyaan ke lie aap is sthaan par sarvada ke lie nivaas karen.

ghrshneshvar mahaadev jyotirling ka mahatv (ghrshneshvar mahaadev jyotirling mandir ka mahatv)

bhagavaan shiv ne usakee ye donon baaten sveekaar kar leen. jyotirling ke roop mein prakat hokar vah vaheen nivaas karane lage. us taalaab ka naam bhee tabase shivaalay ho gaya. satee shivabhakt ghushma ke aaraadhy hone ke kaaran ve yahaan ghushmeshvar mahaadev ke naam se vikhyaat h

 

Comments

comments