Monday , 6 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » हाजी अली दरगाह

हाजी अली दरगाह

haji-ali-dargah

haji-ali-dargah

Haji Ali Dargah Story

हाजी अली दरगाह महाराष्ट्र राज्य के मुंबई शहर में स्थित है। यह मुस्लिम और हिन्दू दोनों धर्मों के साथ-साथ अन्य धर्म के लोगों के लिए भी धार्मिक रूप से बहुत महत्त्वपूर्ण माना जाता है। इस दरगाह में सूफी संत सैयद पीर हाजी अली शाह बुखारी की कब्र स्थित है। इसे मुंबई की सीमा भी माना जाता है। इस दरगाह की स्थापना से जुड़ी एक चर्चित कथा निम्न है।

हाजी अली दरगाह से जुड़ी एक कथा (Story of Haji Ali Dargah in Hindi)

एक कथा के अनुसार उज़्बेकिस्तान के बुखारा प्रांत में हाजी अली नाम का व्यक्ति रहता था। वह बहुत ही धनी और व्यापारी परिवार में जन्मे थे। एक बार की बात है, हाजी अली भ्रमण करने के लिए निकले। वह भ्रमण करते हुए भारत पहुंचे तथा मुंबई जा कर बस गए।

कुछ दिन बीत जाने के बाद वहां हाजी अली का भाई आया और उसने उन्हें घर लौटने को कहा परंतु हाजी अली नहीं लौटे। उन्होंने भाई के हाथों अपनी माता के लिए एक पत्र भेजा। पत्र में लिखा था “मैं अब ना लौटूंगा यहीं रहकर इस्लाम धर्म का प्रचार-प्रसार करूंगा।”

इसके बाद पीर हाजी अली बुखारी (Peer Haji Ali Bukhari) ने मुंबई में रहकर लोगों को इस्लाम की शिक्षा दी। कुछ समय के बाद जब उनका स्वास्थ्य खराब रहने लगा तो उन्होंने अपने अनुयायियों को बुलाया और कहा कि मृत्यु के बाद मेरे शव को किसी कब्रिस्तान में दफनाने की जगह उसे समुद्र में बहा देना और जिस जगह लोगों को उनका ताबूत मिले उसे वहीं दफना दिया जाए।

हाजी अली (Haji Ali) के अनुयायियों ने उनकी इस बात को माना और उनकी मृत्यु के बाद उनके शव को ताबूत में बंद कर समुद्र में बहा दिया। यह एक चमत्कार है कि वह ताबूत नह्कार वापस मुंबई की तरफ आ गया और समुद्र में उठी चट्टानों के एक छोटे से टीले पर रुक गया। इसके बाद हाजी अली के अनुयायियों ने उस स्थान पर हाजी अली का दरगाह बना दिया। कई लोग यह भी मानते हैं कि संत हाजी अली की समुद्र में डूब जाने से मृत्यु हो गई थी और उसी जगह उनके अनुयायियों ने इस खूबसूरत दरगाह (Haji Ali Dargah) का निर्माण कर दिया।

हाजी अली दरगाह की विशेषता (Importance of Hali Ali Dargah in Hindi)

लोगों का मानना है कि जो भी व्यक्ति हाजी अली की दरगाह पर जाकर सच्चे मन से प्रार्थना करता है तो उसकी सभी इच्छाएं पूरी हो जाती हैं। यहां अपनी मुरादें पूरी होने पर श्रद्धालु आस्था से दोबारा दर्शन के लिए अवश्य आते हैं।


haajee alee daragaah mahaaraashtr raajy ke mumbee shahar mein sthit hai. yah muslim aur hindoo donon dharmon ke saath-saath any dharm ke logon ke lie bhee dhaarmik roop se bahut mahattvapoorn maana jaata hai. is daragaah mein soophee sant saiyad peer haajee alee shaah bukhaaree kee kabr sthit hai. ise mumbee kee seema bhee maana jaata hai. is daragaah kee sthaapana se judee ek charchit katha nimn hai.

haajee alee daragaah se judee ek katha (hindee mein haajee alee daragaah kee kahaanee)

ek katha ke anusaar uzbekistaan ke bukhaara praant mein haajee alee naam ka vyakti rahata tha. vah bahut hee dhanee aur vyaapaaree parivaar mein janme the. ek baar kee hai baat, haajee alee bhraman karane ke lie nikale. vah bhraman karate hue bhaarat pahunche tatha mumbee ja kar bas gae.

kuchh din beet jaane ke baad vahaan haajee alee ka bhaee aaya aur usane unhen ghar lautane ko kaha parantu haajee alee nahin laute. unhonne bhaee ke haathon apanee maata ke lie ek patr bheja. patr mein likha tha, “main ab na lautoonga yaheen rahakar islaam dharm ka prachaar-prasaar karoonga.”

isake baad peer haajee alee bukhaaree (sahakarmee haajee alee bukhaaree) ne mumbee mein rahakar logon ko islaam kee shiksha dee. kuchh samay ke baad jab unaka svaasthy kharaab rahane laga to unhonne apane anuyaayiyon ko bulaaya aur kaha ki mrtyu ke baad mere shav ko kisee kabristaan mein daphanaane kee jagah use samudr mein baha dena aur jis jagah logon ko unaka taaboot mile use vaheen daphana diya jae.

haajee alee (haajee alee) ke anuyaayiyon ne unakee is baat ko maana aur unakee mrtyu ke baad unake shav ko taaboot mein band kar samudr mein baha diya. yah ek chamatkaar hai ki vah taaboot nahkaar vaapas mumbee kee taraph aa gaya aur samudr mein uthee chattaanon ke ek chhote se teele par ruk gaya. isake baad haajee alee ke anuyaayiyon ne us sthaan par haajee alee ka daragaah bana diya. kaee log yah bhee maanate hain ki sant haajee alee kee samudr mein doob jaane se mrtyu ho gaee thee aur usee jagah unake anuyaayiyon ne is khoobasoorat daragaah (haajee alee daragaah) ka nirmaan kar diya.

haajee alee daragaah kee visheshata (hindee mein haalee alee daragaah ke mahatv)

logon ka maanana ​​hai ki jo bhee vyakti haajee alee kee daragaah par jaakar sachche man se praarthana

Comments

comments