Sunday , 18 February 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru Parvachan » हनुमानजी देव हैं, देवताओं से ऊपर हैं

हनुमानजी देव हैं, देवताओं से ऊपर हैं

hanuman-deity-gods-are-above

hanuman-deity-gods-are-above

हनुमानजी देव हैं, देवताओं से ऊपर हैं. मैं ऐसा क्यों कहता हूं उसके पीछे कारण है. इंद्र भी देव हैं, बल्कि देवराज हैं. श्रीयुक्त हैं, यानी लक्ष्मीजी की कृपा छाया में हैं परंतु देवराज में मत्सर है. मत्सर यानी अभिमान, सृष्टि के अस्तित्व में अपने श्रेय को बढ़ा-चढ़ाकर देखने की लोलुपता, हर स्थान पर अपने गुणगान के लालायित रहने का भाव. इसीलिए परमात्मा अवतार श्रीकृष्ण उनका मानमर्दन करते हैं. गोवर्धन को छोटी ऊंगली पर उठाकर उन्हें बताते हैं कि तुम्हारे सामर्थ्य की अभिमान सीमा तो इस छोटी उंगली के समक्ष घुटने टेक सकती है.

मत्सरासुर से परिचित होंगे आप. न भी हों तो शीघ्र ही प्रभु शरणम् में उसकी कथा लेकर आऊंगा. इंद्र के भीतर का मत्सर असुर के रूप में प्रकट होता है. वही मत्सर उन्हें शिवनिन्दा को उकसाता है और एक दिन उस स्वर्ग सुख से वंचित कर देता है. जिसके ऐश्वर्य अभिमान से वह इंद्र ग्रसित होते हैं. इसलिए मैंने कहा कि हनुमानजी देवों से ऊपर हैं.

श्रीराम तो परमात्मा के अवतार है, उनकी सेवा में लीन रहते हैं, लखन भैया की भी सेवा इस भाव से कर लेते हैं कि श्रीराम ने जिसे प्रिय अनुज बनाया वह भी तो असाधारण है. सूर्यपुत्र बाली की भी सेवा करते हैं, भरत जी का भी गुणगान करते हैं, लव-कुश का भी मान रखते हैं. कहीं कोई अभिमान ही नहींं. जो समर्थवान होकर भी अभिमान से रहित है वह हनुमान है. ऐसे जीव जहां भी मिलें वे हनुमानजी के समान आदरणीय हैं.
“रामकाज करिबे को आतुर” ऐसे हनुमानजी के चरणों में शीश नवाता हूँ, कोटि-कोटि प्रणाम करता हूँ.
।।जय श्रीहनुमान।। ।।जय सीताराम।।

English Translate

Hanumaanajee dev hain, devataa_on se oopar hain. Main aisaa kyon kahataa hoon usake peechhe kaaraṇa hai. Indr bhee dev hain, balki devaraaj hain. Shreeyukt hain, yaanee lakṣmeejee kee kripaa chhaayaa men hain parntu devaraaj men matsar hai. Matsar yaanee abhimaan, sriṣṭi ke astitv men apane shrey ko baḍhxaa-chaḍhxaakar dekhane kee lolupataa, har sthaan par apane guṇaagaan ke laalaayit rahane kaa bhaav. Iseelie paramaatmaa avataar shreekriṣṇa unakaa maanamardan karate hain. Govardhan ko chhoṭee oongalee par uṭhaakar unhen bataate hain ki tumhaare saamarthy kee abhimaan seemaa to is chhoṭee ungalee ke samakṣ ghuṭane ṭek sakatee hai. Matsaraasur se parichit honge aap. N bhee hon to sheeghr hee prabhu sharaṇaam men usakee kathaa lekar aaoongaa. Indr ke bheetar kaa matsar asur ke roop men prakaṭ hotaa hai. Vahee matsar unhen shivanindaa ko ukasaataa hai aur ek din us svarg sukh se vnchit kar detaa hai. Jisake aishvary abhimaan se vah indr grasit hote hain. Isalie mainne kahaa ki hanumaanajee devon se oopar hain. Shreeraam to paramaatmaa ke avataar hai, unakee sevaa men leen rahate hain, lakhan bhaiyaa kee bhee sevaa is bhaav se kar lete hain ki shreeraam ne jise priy anuj banaayaa vah bhee to asaadhaaraṇa hai. Sooryaputr baalee kee bhee sevaa karate hain, bharat jee kaa bhee guṇaagaan karate hain, lav-kush kaa bhee maan rakhate hain. Kaheen koii abhimaan hee naheenn. Jo samarthavaan hokar bhee abhimaan se rahit hai vah hanumaan hai. Aise jeev jahaan bhee milen ve hanumaanajee ke samaan aadaraṇaeey hain.
“raamakaaj karibe ko aatur” aise hanumaanajee ke charaṇaon men sheesh navaataa hoon, koṭi-koṭi praṇaam karataa hoon.
.. Jay shreehanumaan.. .. Jay seetaaraam..

Comments

comments