Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Guru_Profile » shiv » हर – भगवान शिव के अवतार

हर – भगवान शिव के अवतार

har-bhagavaan-shiv-ke-avataar

har-bhagavaan-shiv-ke-avataar

hai dhany teree maaya jag mein shiv shankar damaroo vaale

har – bhagavaan shiv ke avataar

शैवागम के अनुसार भगवान रुद्र के आठवें स्वरूप का नाम हर है । भगवान हर को सर्वभूषण कहा गया है । इसका अभिप्राय यह है कि मंगल और अमंगल सब कुछ ईश्वर – शरीर में है । दूसरा अभिप्राय यह है कि संहारकारक रुद्र में संहार – सामग्री रहनी ही चाहिए । समय पर सृष्टि का सृजन और समय पर उसका संहार दोनों भगवान रुद्र के ही कार्य हैं । सर्प से बढ़कर संहारकारक तमोगुणी कोई हो नहीं सकता, क्योंकि अपने बच्चों को भी खा जाने की वृत्ति सर्प जाति में ही देखी जाती है । इसलिए भगवान हर अपने गले में सर्पों की माला धारण करते हैं । काल को अपने भूषणरूप में धारण करने के बाद भी भगवान हर कालातीत हैं । भगवान हर अपने शरण में आने वाले भक्तों को आधिभौतिक, आधिदैविक, आध्यात्मिक तीनों प्रकार के तापों से मुक्त कर देते हैं । इसलिए भगवान रुद्र का हर नाम और भी सार्थक है । उनका पिनाक अपने भक्तों को अभय करने के लिए सदैव तत्पर रहता है । जब भगवान शंकर के पुत्र स्कंद ने तारकासुर को मार डाला, तब उसके तीनों पुत्रों को महान संताप हुआ । उन्होंने मेरु पर्वत की एक कंदरा में जाकर हजारों वर्षों तक तपस्या करके ब्रह्माजी को प्रसन्न किया । ब्रह्मा जी ने तीनों के वर मांगने पर उनके लिए स्वर्ण, चांदी और लौह के अजेय नगर का निर्माण करने के लिए मय – दानव को आदेश दिया । इस प्रकार मय ने अपने तपोबल से तारकाक्ष के लिए स्वर्णमय, कमलात्र के लिए रजतमय और विद्युन्माली के लिए लौहमय – तीन प्रकार के उत्तम दुर्ग तैयार कर दिए । इन पुरों का भगवान हर के अतिरिक्त कोई भेदन नहीं कर सकता था । ब्रह्मा के वरदान अवं शिवभक्ति के प्रभाव से वे तीनों असुर अजेय होकर देवताओं के लिए संतापकारी हो गए । इंद्रादि सभी देवता उनके अत्याचार से पीड़ित होकर भटकने लगे । तारक – पुत्रों के प्रभाव से दग्घ हुए सभी देवता ब्रह्माजी को साथ लेकर दु:खी अवस्था में भगवान हर के पास गए । अंजलि बांधकर उन सभी देवों ने नाना प्रकार के दिव्य स्तोत्रों द्वारा त्रिशूलधारी भगवान हर की स्तुति करते हुए कहा – महादेव ! तारक के पुत्र तीनों भाइयों ने मिलकर इंद्रसहित सभी देवताओं को परास्त कर दिया है । उन्होंने संपूर्ण सिद्ध स्थानों को नष्ट – भ्रष्ट कर दिया है । वे यज्ञ – भागों को स्वयं ग्रहण करते हैं । सबके लिए कष्टकारी वे असुर जब तक सृष्टि का विनाश नहीं कर डालते, उसके पहले आप उनको नष्ट करने का कोई उपाय करें । भगवान हर ने कहा – देवताओं ! मैं तुम्हारे कष्टों से परिचित हूं । फिर भी मैं तारक – पुत्रों का वध नहीं कर सकता हूं । जब तक वे असुर मेरे भक्त हैं मैं कैसे मार सकता हूं । तारक – पुत्रों के वध के लिए तुम लोगों का भगवान विष्णु के पास जाना चाहिए । जब वे दैत्य विष्णु माया के प्रभाव से धर्म – विमुख हो जाएंगे तथा मेरी भक्ति का त्याग कर देंगे, तब मैं शर्व रुद्र के रूप में उन असुरों का संहार करके तुम लोगों को उनके अत्याचार से मुक्त करूंगा । आठवें हर रुद्र की आधिभौतिक मूर्ति काठमाण्डू (नेपाल) में पशुपतिनाथ के नाम से प्रसिद्ध है । इसे यजमान मूर्ति कहते हैं ।

wish4me to English

shaivaagam ke anusaar bhagavaan rudr ke aathaven svaroop ka naam har hai . bhagavaan har ko sarvabhooshan kaha gaya hai . isaka abhipraay yah hai ki mangal aur amangal sab kuchh eeshvar – shareer mein hai . doosara abhipraay yah hai ki sanhaarakaarak rudr mein sanhaar – saamagree rahanee hee chaahie . samay par srshti ka srjan aur samay par usaka sanhaar donon bhagavaan rudr ke hee kaary hain . sarp se badhakar sanhaarakaarak tamogunee koee ho nahin sakata, kyonki apane bachchon ko bhee kha jaane kee vrtti sarp jaati mein hee dekhee jaatee hai . isalie bhagavaan har apane gale mein sarpon kee maala dhaaran karate hain . kaal ko apane bhooshanaroop mein dhaaran karane ke baad bhee bhagavaan har kaalaateet hain . bhagavaan har apane sharan mein aane vaale bhakton ko aadhibhautik, aadhidaivik, aadhyaatmik teenon prakaar ke taapon se mukt kar dete hain . isalie bhagavaan rudr ka har naam aur bhee saarthak hai . unaka pinaak apane bhakton ko abhay karane ke lie sadaiv tatpar rahata hai . jab bhagavaan shankar ke putr skand ne taarakaasur ko maar daala, tab usake teenon putron ko mahaan santaap hua . unhonne meru parvat kee ek kandara mein jaakar hajaaron varshon tak tapasya karake brahmaajee ko prasann kiya . brahma jee ne teenon ke var maangane par unake lie svarn, chaandee aur lauh ke ajey nagar ka nirmaan karane ke lie may – daanav ko aadesh diya . is prakaar may ne apane tapobal se taarakaaksh ke lie svarnamay, kamalaatr ke lie rajatamay aur vidyunmaalee ke lie lauhamay – teen prakaar ke uttam durg taiyaar kar die . in puron ka bhagavaan har ke atirikt koee bhedan nahin kar sakata tha . brahma ke varadaan avan shivabhakti ke prabhaav se ve teenon asur ajey hokar devataon ke lie santaapakaaree ho gae . indraadi sabhee devata unake atyaachaar se peedit hokar bhatakane lage . taarak – putron ke prabhaav se daggh hue sabhee devata brahmaajee ko saath lekar du:khee avastha mein bhagavaan har ke paas gae . anjali baandhakar un sabhee devon ne naana prakaar ke divy stotron dvaara trishooladhaaree bhagavaan har kee stuti karate hue kaha – mahaadev ! taarak ke putr teenon bhaiyon ne milakar indrasahit sabhee devataon ko paraast kar diya hai . unhonne sampoorn siddh sthaanon ko nasht – bhrasht kar diya hai . ve yagy – bhaagon ko svayan grahan karate hain . sabake lie kashtakaaree ve asur jab tak srshti ka vinaash nahin kar daalate, usake pahale aap unako nasht karane ka koee upaay karen . bhagavaan har ne kaha – devataon ! main tumhaare kashton se parichit hoon . phir bhee main taarak – putron ka vadh nahin kar sakata hoon . jab tak ve asur mere bhakt hain main kaise maar sakata hoon . taarak – putron ke vadh ke lie tum logon ka bhagavaan vishnu ke paas jaana chaahie . jab ve daity vishnu maaya ke prabhaav se dharm – vimukh ho jaenge tatha meree bhakti ka tyaag kar denge, tab main sharv rudr ke roop mein un asuron ka sanhaar karake tum logon ko unake atyaachaar se mukt karoonga . aathaven har rudr kee aadhibhautik moorti kaathamaandoo (nepaal) mein pashupatinaath ke naam se prasiddh hai . ise yajamaan moorti kahate hain

Comments

comments