Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » हार-जीत का फैसला

हार-जीत का फैसला

har-jeet-ka-faisla

har-jeet-ka-faisla

58

बहुत समय पहले की बात है। आदि शंकराचार्य और मंडन मिश्र के बीच सोलह दिन तक लगातार शास्त्रार्थ चला। शास्त्रार्थ की निर्णायक थीं मंडन मिश्र की धर्म पत्नी देवी भारती। हार-जीत का निर्णय होना बाकी था, इसी बीच देवी भारती को किसी आवश्यक कार्य से कुछ समय के लिये बाहर जाना पड़ गया।
लेकिन जाने से पहले देवी भारती नें दोनों ही विद्वानों के गले में एक-एक फूल माला डालते हुए कहा, यें दोनो मालाएं मेरी अनुपस्थिति में आपके हार और जीत का फैसला करेंगी। यह कहकर देवी भारती वहाँ से चली गई। शास्त्रार्थ की प्रकिया आगे चलती रही।
कुछ देर बाद देवी भारती अपना कार्य पूरा करके लौट आई। उन्होंने अपनी निर्णायक नजरों से शंकराचार्य और मंडन मिश्र को बारी- बारी से देखा और अपना निर्णय सुना दिया। उनके फैसले के अनुसार आदि शंकराचार्य विजयी घोषित किये गये और उनके पति मंडन मिश्र की पराजय हुई थी।
सभी लोग ये देखकर हैरान हो गये कि बिना किसी आधार के इस विदुषी ने अपने पति को ही पराजित करार दे दिया। एक विद्वान नें देवी भारती से नम्रतापूर्वक जिज्ञासा की- हे ! देवी आप तो शास्त्रार्थ के मध्य ही चली गई थीं फिर वापस लौटते ही आपनें ऐसा फैसला कैसे दे दिया ?
देवी भारती ने मुस्कुराकर जवाब दिया- जब भी कोई विद्वान शास्त्रार्थ में पराजित होने लगता है, और उसे जब हार की झलक दिखने लगती है तो इस वजह से वह क्रोधित हो उठता है और मेरे पति के गले की माला उनके क्रोध की ताप से सूख चुकी है जबकि शंकराचार्य जी की माला के फूल अभी भी पहले की भांति ताजे हैं। इससे ज्ञात होता है कि शंकराचार्य की विजय हुई है।
विदुषी देवी भारती का फैसला सुनकर सभी दंग रह गये, सबने उनकी काफी प्रशंसा की।
सीख- क्रोध मनुष्य की वह अवस्था है जो जीत के नजदीक पहुँचकर हार का नया रास्ता खोल देता है। क्रोध न सिर्फ हार का दरवाजा खोलता है बल्कि रिश्तों में दरार का कारण भी बनता है। इसलिये कभी भी क्रोध को खुद पर हावी ना होने दें क्योंकि कोध्र से भ्रम पैदा होता है, भ्रम से बुद्धि व्यग्र होती है, जब बुद्धि व्यग्र होती है तब तर्क नष्ट हो जाता है, जब तर्क नष्ट होता है, तब व्यक्ति का पतन हो जाता है।

wish4me in English

bahut samay pahale kee baat hai. aadi shankaraachaary aur mandan mishr ke beech solah din tak lagaataar shaastraarth chala. shaastraarth kee nirnaayak theen mandan mishr kee dharm patnee devee bhaaratee. haar-jeet ka nirnay hona baakee tha, isee beech devee bhaaratee ko kisee aavashyak kaary se kuchh samay ke liye baahar jaana pad gaya.
lekin jaane se pahale devee bhaaratee nen donon hee vidvaanon ke gale mein ek-ek phool maala daalate hue kaha, yen dono maalaen meree anupasthiti mein aapake haar aur jeet ka phaisala karengee. yah kahakar devee bhaaratee vahaan se chalee gaee. shaastraarth kee prakiya aage chalatee rahee.
kuchh der baad devee bhaaratee apana kaary poora karake laut aaee. unhonne apanee nirnaayak najaron se shankaraachaary aur mandan mishr ko baaree- baaree se dekha aur apana nirnay suna diya. unake phaisale ke anusaar aadi shankaraachaary vijayee ghoshit kiye gaye aur unake pati mandan mishr kee paraajay huee thee.
sabhee log ye dekhakar hairaan ho gaye ki bina kisee aadhaar ke is vidushee ne apane pati ko hee paraajit karaar de diya. ek vidvaan nen devee bhaaratee se namrataapoorvak jigyaasa kee- he ! devee aap to shaastraarth ke madhy hee chalee gaee theen phir vaapas lautate hee aapanen aisa phaisala kaise de diya ?
devee bhaaratee ne muskuraakar javaab diya- jab bhee koee vidvaan shaastraarth mein paraajit hone lagata hai, aur use jab haar kee jhalak dikhane lagatee hai to is vajah se vah krodhit ho uthata hai aur mere pati ke gale kee maala unake krodh kee taap se sookh chukee hai jabaki shankaraachaary jee kee maala ke phool abhee bhee pahale kee bhaanti taaje hain. isase gyaat hota hai ki shankaraachaary kee vijay huee hai.
vidushee devee bhaaratee ka phaisala sunakar sabhee dang rah gaye, sabane unakee kaaphee prashansa kee.
seekh- krodh manushy kee vah avastha hai jo jeet ke najadeek pahunchakar haar ka naya raasta khol deta hai. krodh na sirph haar ka daravaaja kholata hai balki rishton mein daraar ka kaaran bhee banata hai. isaliye kabhee bhee krodh ko khud par haavee na hone den kyonki kodhr se bhram paida hota hai, bhram se buddhi vyagr hotee hai, jab buddhi vyagr hotee hai tab tark nasht ho jaata hai, jab tark nasht hota hai, tab vyakti ka patan ho jaata hai

Comments

comments