Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » जो दुनिया भर की सभी वस्तुओं को पाकर भी कभी तृप्त नही होता।

जो दुनिया भर की सभी वस्तुओं को पाकर भी कभी तृप्त नही होता।

having-dissatisfaction-despite-of-having-all-things

having-dissatisfaction-despite-of-having-all-things

bakra

bakra

एक राजा के पास एक बकरा था ।

एक दिन राजा ने घोषणा की कि जो कोई भी इस बकरे को जंगल में चराकर तृप्त करेगा मैं उसको अपना आधा राज्य दे दूंगा।

किंतु बकरे का पेट पूरा भरा है या नहीं इसकी परीक्षा मैं स्वयं करूँगा।

घोषणा को सुनकर एक मनुष्य राजा के पास आकर बोला कि बकरा चराना कोई बड़ी बात नहीं है।

वह बकरे को लेकर जंगल में गया और सारे दिन उसे घास चराता रहा,, शाम तक उसने बकरे को खूब घास खिलाई और फिर सोचा की सारे दिन इसने इतनी घास खाई है, अब तो इसका पेट भर गया होगा तो अब इसको राजा के पास ले चलूँ।

बकरे के साथ वह राजा के पास गया,
राजा ने थोड़ी सी हरी घास बकरे के सामने रखी तो बकरा उसे खाने लगा।

इस पर राजा ने उस मनुष्य से कहा की तुमने उसे पेट भर खिलाया ही नहीं वर्ना वह घास क्यों खाने लगता।

बहुत लोगों ने बकरे का पेट भरने का प्रयास किया, किंतु जैसे ही दरबार में उसके सामने घास डाली जाती तो वह फिर से खाने लगता।

एक विद्वान् ब्राह्मण ने सोचा इस घोषणा का कोई तो रहस्य है, तत्व है,
मैं युक्ति से काम लूँगा,, वह बकरे को चराने के लिए ले गया।

किन्तु जैसे ही बकरा घास खाने के लिए जाता तो वह उसे लकड़ी से मारता,
सारे दिन में ऐसा कई बार हुआ,, अंत में बकरे ने सोचा की यदि
मैं घास खाने का प्रयत्न करूँगा तो मार खानी पड़ेगी।
शाम को वह ब्राह्मण बकरे को लेकर राजदरबार में लौटा,,
बकरे को तो उसने बिलकुल घास नहीं खिलाई थी।

फिर भी राजा से कहा मैंने इसको भरपेट खिलाया है।
अत: यह अब बिलकुल घास नहीं खायेगा,
लो कर लीजिये परीक्षा….

राजा ने घास डाली लेकिन उस बकरे ने उसे खाया तो क्या
देखा और सूंघा तक नहीं….

क्योंकि बकरे के मन में यह बात बैठ गयी थी कि अगर
घास खाऊंगा तो मार पड़ेगी….अत: उसने घास नहीं खाई….

मित्रों ” यह बकरा हमारा मन ही है ”

बकरे को घास चराने ले जाने वाला ब्राह्मण ” आत्मा” है।

राजा “परमात्मा” है।

मन को मारो नहीं,,, परंतु मन पर अंकुश अवश्य रखो….
मन सुधरेगा तो जीवन भी सुधरेगा।

अतः मन को विवेक रूपी लकड़ी से रोज पीटो, तभी यह नियंत्रण में रहेगा।

wish4me to English

ek raaja ke paas ek bakara tha .

ek din raaja ne ghoshana kee ki jo koee bhee is bakare ko jangal mein charaakar trpt karega main usako apana aadha raajy de doonga.

kintu bakare ka pet poora bhara hai ya nahin isakee pareeksha main svayan karoonga.

ghoshana ko sunakar ek manushy raaja ke paas aakar bola ki bakara charaana koee badee baat nahin hai.

vah bakare ko lekar jangal mein gaya aur saare din use ghaas charaata raha,, shaam tak usane bakare ko khoob ghaas khilaee aur phir socha kee saare din isane itanee ghaas khaee hai, ab to isaka pet bhar gaya hoga to ab isako raaja ke paas le chaloon.

bakare ke saath vah raaja ke paas gaya,
raaja ne thodee see haree ghaas bakare ke saamane rakhee to bakara use khaane laga.

is par raaja ne us manushy se kaha kee tumane use pet bhar khilaaya hee nahin varna vah ghaas kyon khaane lagata.

bahut logon ne bakare ka pet bharane ka prayaas kiya, kintu jaise hee darabaar mein usake saamane ghaas daalee jaatee to vah phir se khaane lagata.

ek vidvaan braahman ne socha is ghoshana ka koee to rahasy hai, tatv hai,
main yukti se kaam loonga,, vah bakare ko charaane ke lie le gaya.

kintu jaise hee bakara ghaas khaane ke lie jaata to vah use lakadee se maarata,
saare din mein aisa kaee baar hua,, ant mein bakare ne socha kee yadi
main ghaas khaane ka prayatn karoonga to maar khaanee padegee.
shaam ko vah braahman bakare ko lekar raajadarabaar mein lauta,,
bakare ko to usane bilakul ghaas nahin khilaee thee.

phir bhee raaja se kaha mainne isako bharapet khilaaya hai.
at: yah ab bilakul ghaas nahin khaayega,
lo kar leejiye pareeksha….

raaja ne ghaas daalee lekin us bakare ne use khaaya to kya
dekha aur soongha tak nahin….

kyonki bakare ke man mein yah baat baith gayee thee ki agar
ghaas khaoonga to maar padegee….at: usane ghaas nahin khaee….

mitron ” yah bakara hamaara man hee hai ”

bakare ko ghaas charaane le jaane vaala braahman ” aatma” hai.

raaja “paramaatma” hai.

man ko maaro nahin,,, parantu man par ankush avashy rakho….
man sudharega to jeevan bhee sudharega.

atah man ko vivek roopee lakadee se roj peeto, tabhee yah niyantran mein rahega

Comments

comments