Sunday , 12 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » मनुष्य जीवन (Human life)

मनुष्य जीवन (Human life)

human-life

human-life

Human Life

Human Life

मनुष्य जीवन का लक्ष्य  क्या है  ?मनुष्य का वर्तमान जीवन बड़ा अनमोल है क्योंकि अब संगमयुग में ही वह सर्वोत्तम पुरुषार्थ करके जन्म-जन्मान्तर के लिए सर्वोत्तम प्रारब्ध बना सकता है और अतुल हीरो-तुल्य कमाई कर सकता है I वह इसी जन्म में सृष्टि का मालिक अथवा जगतजीत बनने का पुरुषार्थ कर सकता है I परन्तु आज मनुष्य को जीवन का लक्ष्य मालूम न होने के कारण वह सर्वोत्तम पुरुषार्थ करने की बजाय इसे विषय-विकारो में गँवा रहा है I अथवा अल्पकाल की प्राप्ति में लगा रहा है I आज वह लौकिक शिक्षा द्वारा वकील, डाक्टर,इंजिनीयर बनने का पुरुषार्थ कर रहा है और कोई तो राजनीति में भाग लेकर देश का नेता, मंत्री अथवा प्रधानमंत्री बनने के प्रयत्न में लगा हुआ है अन्य कोई इन सभी का सन्यास करके, “सन्यासी” बनकर रहना चाहता है I परन्तु सभी जानते है की म्रत्यु-लोक  में तो राजा-रानी, नेता वकील, इंजीनियर, डाक्टर, सन्यासी इत्यादि कोई भी पूर्ण सुखी नहीं है I सभी को तन का रोग, मन की अशांति, धन की कमी, जानता की चिंता या प्रकृति के द्वारा कोई पीड़ा, कुछ न कुछ तो दुःख लगा ही हुआ है I अत: इनकी प्राप्ति से मनुष्य जीवन के लक्ष्य की प्राप्ति नहीं होती क्योंकि मनुष्य तो सम्पूर्ण – पवित्रता, सदा सुख और स्थाई शांति चाहता है Iचित्र में अंकित किया गया है कि मनुष्य जीवन का लक्ष्य जीवन-मुक्ति की प्राप्ति अठेया वैकुण्ठ में सम्पूर्ण सुख-शांति-संपन्न श्री नारायण या श्री लक्ष्मी पद की प्राप्ति ही है I क्योंकि वैकुण्ठ के देवता तो अमर मने गए है, उनकी अकाल म्रत्यु नही होती; उनकी काया सदा निरोगी रहती है I और उनके खजाने में किसी भी प्रकार की कमी नहीं होती इसीलिए तो मनुष्य स्वर्ग अथवा वैकुण्ठ को याद करते है और जब उनका कोई प्रिय सम्बन्धी शरीर छोड़ता है तो वह कहते है कि -” वह स्वर्ग सिधार गया है ” Iइस पद की प्राप्ति स्वयं परमात्मा ही ईश्वरीय विद्या द्वारा कराते हैइस लक्ष्य की प्राप्ति कोई मनुष्य अर्थात कोई साधू-सन्यासी, गुरु या जगतगुरु नहीं करा सकता बल्कि यह दो ताजो वाला देव-पद अथवा राजा-रानी पद तो ज्ञान के सागर परमपिता परमात्मा शिव ही से प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा ईश्वरीय ज्ञान तथा सहज राजयोग के अभ्यास से प्राप्त होता है Iअत: जबकि परमपिता परमात्मा शिव ने इस सर्वोत्तम ईश्वरीय विद्या की शिक्षा देने के लिए प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व-विद्यालय की स्थापना की है I तो सभी नर-नारियो को चाहिए की अपने घर-गृहस्थ में रहते हुए, अपना कार्य धंधा करते हुए, प्रतिदिन एक-दो- घंटे निकलकर अपने भावी जन्म-जन्मान्तर के कल्याण के लिए इस सर्वोत्तम तथा सहज शिक्षा को प्राप्त करे I

इस विद्या की प्राप्ति के लिए कुछ भी खर्च करने की आवश्यकता नही है, इसीलिए इसे तो निर्धन व्यक्ति भी प्राप्त कर अपना सौभाग्य  बना सकते है I इस विद्या को तो कन्याओ, मतों, वृद्ध-पुरुषो, छोटे बच्चो और अन्य सभी को प्राप्त करने का अधिकार है क्योंकि आत्मा की दृष्टी से तो सभी परमपिता परमात्मा की संतान है I
अभी नहीं तो कभी नहींवर्तमान जन्म सभी का अंतिम जन्म है I इसलिय अब यह पुरुषार्थ न किया तो फिर यह कभी न हो सकेगा क्योंकि स्वयं ज्ञान सागर परमात्मा द्वारा दिया हुआ यह मूल गीता – ज्ञान कल्प में एक ही बार इस कल्याणकारी संगम युग में ही प्राप्त हो सकता है |

wish4me to English

manushy jeevan ka lakshy kya hai ?manushy ka vartamaan jeevan bada anamol hai kyonki ab sangamayug mein hee vah sarvottam purushaarth karake janm-janmaantar ke lie sarvottam praarabdh bana sakata hai aur atul heero-tuly kamaee kar sakata hai i vah isee janm mein srshti ka maalik athava jagatajeet banane ka purushaarth kar sakata hai i parantu aaj manushy ko jeevan ka lakshy maaloom na hone ke kaaran vah sarvottam purushaarth karane kee bajaay ise vishay-vikaaro mein ganva raha hai i athava alpakaal kee praapti mein laga raha hai i aaj vah laukik shiksha dvaara vakeel, daaktar,injineeyar banane ka purushaarth kar raha hai aur koee to raajaneeti mein bhaag lekar desh ka neta, mantree athava pradhaanamantree banane ke prayatn mein laga hua hai any koee in sabhee ka sanyaas karake, “sanyaasee” banakar rahana chaahata hai i parantu sabhee jaanate hai kee mratyu-lok mein to raaja-raanee, neta vakeel, injeeniyar, daaktar, sanyaasee ityaadi koee bhee poorn sukhee nahin hai i sabhee ko tan ka rog, man kee ashaanti, dhan kee kamee, jaanata kee chinta ya prakrti ke dvaara koee peeda, kuchh na kuchh to duhkh laga hee hua hai i at: inakee praapti se manushy jeevan ke lakshy kee praapti nahin hotee kyonki manushy to sampoorn – pavitrata, sada sukh aur sthaee shaanti chaahata hai ichitr mein ankit kiya gaya hai ki manushy jeevan ka lakshy jeevan-mukti kee praapti atheya vaikunth mein sampoorn sukh-shaanti-sampann shree naaraayan ya shree lakshmee pad kee praapti hee hai i kyonki vaikunth ke devata to amar mane gae hai, unakee akaal mratyu nahee hotee; unakee kaaya sada nirogee rahatee hai i aur unake khajaane mein kisee bhee prakaar kee kamee nahin hotee iseelie to manushy svarg athava vaikunth ko yaad karate hai aur jab unaka koee priy sambandhee shareer chhodata hai to vah kahate hai ki -” vah svarg sidhaar gaya hai ” iis pad kee praapti svayan paramaatma hee eeshvareey vidya dvaara karaate haiis lakshy kee praapti koee manushy arthaat koee saadhoo-sanyaasee, guru ya jagataguru nahin kara sakata balki yah do taajo vaala dev-pad athava raaja-raanee pad to gyaan ke saagar paramapita paramaatma shiv hee se prajaapita brahma dvaara eeshvareey gyaan tatha sahaj raajayog ke abhyaas se praapt hota hai iat: jabaki paramapita paramaatma shiv ne is sarvottam eeshvareey vidya kee shiksha dene ke lie prajaapita brahmaakumaaree eeshvareey vishv-vidyaalay kee sthaapana kee hai i to sabhee nar-naariyo ko chaahie kee apane ghar-grhasth mein rahate hue, apana kaary dhandha karate hue, pratidin ek-do- ghante nikalakar apane bhaavee janm-janmaantar ke kalyaan ke lie is sarvottam tatha sahaj shiksha ko praapt kare i

is vidya kee praapti ke lie kuchh bhee kharch karane kee aavashyakata nahee hai, iseelie ise to nirdhan vyakti bhee praapt kar apana saubhaagy bana sakate hai i is vidya ko to kanyao, maton, vrddh-purusho, chhote bachcho aur any sabhee ko praapt karane ka adhikaar hai kyonki aatma kee drshtee se to sabhee paramapita paramaatma kee santaan hai i
abhee nahin to kabhee naheenvartamaan janm sabhee ka antim janm hai i isaliy ab yah purushaarth na kiya to phir yah kabhee na ho sakega kyonki svayan gyaan saagar paramaatma dvaara diya hua yah mool geeta – gyaan kalp mein ek hee baar is kalyaanakaaree sangam yug mein hee praapt ho sakata hai

Comments

comments