Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » मैं सबसे तेज दौड़ना चाहती हूँ ! (I want to run the fastest!)

मैं सबसे तेज दौड़ना चाहती हूँ ! (I want to run the fastest!)

i-want-to-run-the-fastest

i-want-to-run-the-fastest

I want to run the fastest!

I want to run the fastest!

विल्मा रुडोल्फ का जन्म टेनिसी के एक गरीब परिवार में हुआ था. चार साल की उम्र में उन्हें लाल बुखार के
साथ डबल निमोनिया हो गया , जिस वजह से वह पोलियो से ग्रसित हो गयीं. उन्हें पैरों में ब्रेस पहनने पड़ते थे और डॉक्टरों के अनुसार अब वो कभी भी चल नहीं सकती थीं.लेकिन उनकी माँ हमेशा उनको प्रोत्साहित करती रहतीं और कहती कि भगवान् की दी हुई योग्यता ,दृढ़ता और विश्वास से वो कुछ भी कर सकती हैं.

विल्मा बोलीं , ” मैं इस दुनिया कि सबसे तेज दौड़ने वाली महिला बनना चाहती हूँ .”

 डॉक्टरों की सलाह के विरूद्ध 9 साल की उम्र में उन्होंने ने अपने ब्रेस उतार फेंकें और अपना पहला कदम आगे बढाया जिसे डोक्टरों ने ही नामुमकिन बताया था . 13 साल की उम्र में उन्होंने पहली बार रेस में हिस्सा लिया और बहुत बड़े अन्तर से आखिरी स्थान पर आयीं. और उसके बाद वे अपनी दूसरी, तीसरी, और चौथी रेस में दौड़ीं और आखिरी आती रहीं , पर उन्होंने हार नहीं मानी वो दौड़ती रहीं और फिर एक दिन ऐसा आया कि वो रेस में फर्स्ट आ गयीं.  15  साल की उम्र में उन्होंने टेनिसी स्टेट यूनिवर्सिटी में दाखिल ले लिया , जहाँ उनकी मुलाकात एक कोच से हुई जिनका नाम एड टेम्पल था .

उन्होंने ने कोच से कहा , ” मैं इस दुनिया की सबसे तेज धाविका बनना चाहती हूँ.”

टेम्पल ने कहा ,” तुम्हारे अन्दर जिस तरह का जज़्बा हैं तुम्हे कोई रोक नहीं सकता , और उसके आलावा मैं भी तुम्हारी मदद करुगा.”

 देखते-देखते वो दिन आ गया जब विल्मा ओलंपिक्स में पहुँच गयीं  जहाँ अच्छे से अच्छे एथलीटों के साथ उनका मुकाबला होना था ,जिसमे कभी न हारने वाली युटा हीन भी शामिल थीं. पहले 100 मीटर रेस हुई , विल्मा ने युटा को हराकर गोल्ड मैडल जीता, फिर 200  मीटर  का मुकाबला हुआ, इसमें भी विल्माने युटा को पीछे छोड़ दिया और अपना दूसरा गोल्ड मैडल जीत गयीं . तीसरा इवेंट 400  मीटर रिले रेस थी , जिसमे अक्सर सबसे तेज दौड़ने  वाला व्यक्ति अंत में दौड़ता है . विल्मा और युटा भी अपनी-अपनी टीम्स में आखिरी में दौड़ रही थीं. रेस शुरू हुई , पहली तीन एथलीट्स ने आसानी से बेटन बदल लीं , पर जब विल्मा की बारी आई तो थोड़ी गड़बड़ हो गयी और बेटन गिरते-गिरते बची ,इस बीच युटा आगे निकल गयी , विल्मा ने बिना देरी किये अपनी स्पीड बढ़ाई  और मशीन की तरह दौड़ते हुए आगे निकल गयीं और युटा को हराते हुए अपना तीसरा गोल्ड मैडल जीत गयीं. यह इतिहास बन गया : कभी पोलियो से ग्रस्त रही महिला आज दुनिया की सबसे तेज धाविका बन चुकी थी.
wish4me to English
vilma rudolph ka janm tenisee ke ek gareeb parivaar mein hua tha. chaar saal kee umr mein unhen laal bukhaar ke
saath dabal nimoniya ho gaya , jis vajah se vah poliyo se grasit ho gayeen. unhen pairon mein bres pahanane padate the aur doktaron ke anusaar ab vo kabhee bhee chal nahin sakatee theen.lekin unakee maan hamesha unako protsaahit karatee rahateen aur kahatee ki bhagavaan kee dee huee yogyata ,drdhata aur vishvaas se vo kuchh bhee kar sakatee hain.

vilma boleen , ” main is duniya ki sabase tej daudane vaalee mahila banana chaahatee hoon .”

doktaron kee salaah ke virooddh 9 saal kee umr mein unhonne ne apane bres utaar phenken aur apana pahala kadam aage badhaaya jise doktaron ne hee naamumakin bataaya tha . 13 saal kee umr mein unhonne pahalee baar res mein hissa liya aur bahut bade antar se aakhiree sthaan par aayeen. aur usake baad ve apanee doosaree, teesaree, aur chauthee res mein daudeen aur aakhiree aatee raheen , par unhonne haar nahin maanee vo daudatee raheen aur phir ek din aisa aaya ki vo res mein pharst aa gayeen. 15 saal kee umr mein unhonne tenisee stet yoonivarsitee mein daakhil le liya , jahaan unakee mulaakaat ek koch se huee jinaka naam ed tempal tha .

unhonne ne koch se kaha , ” main is duniya kee sabase tej dhaavika banana chaahatee hoon.”

tempal ne kaha ,” tumhaare andar jis tarah ka jazba hain tumhe koee rok nahin sakata , aur usake aalaava main bhee tumhaaree madad karuga.”

dekhate-dekhate vo din aa gaya jab vilma olampiks mein pahunch gayeen jahaan achchhe se achchhe ethaleeton ke saath unaka mukaabala hona tha ,jisame kabhee na haarane vaalee yuta heen bhee shaamil theen. pahale 100 meetar res huee , vilma ne yuta ko haraakar gold maidal jeeta, phir 200 meetar ka mukaabala hua, isamen bhee vilmaane yuta ko peechhe chhod diya aur apana doosara gold maidal jeet gayeen . teesara ivent 400 meetar rile res thee , jisame aksar sabase tej daudane vaala vyakti ant mein daudata hai . vilma aur yuta bhee apanee-apanee teems mein aakhiree mein daud rahee theen. res shuroo huee , pahalee teen ethaleets ne aasaanee se betan badal leen , par jab vilma kee baaree aaee to thodee gadabad ho gayee aur betan girate-girate bachee ,is beech yuta aage nikal gayee , vilma ne bina deree kiye apanee speed badhaee aur masheen kee tarah daudate hue aage nikal gayeen aur yuta ko haraate hue apana teesara gold maidal jeet gayeen. yah itihaas ban gaya : kabhee poliyo se grast rahee mahila aaj duniya kee sabase tej dhaavika ban chukee thee

Comments

comments