Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » अपने प्यार को पहचानिए। उसके साथ समय बिताइए (Identify your love. Spend time with them)

अपने प्यार को पहचानिए। उसके साथ समय बिताइए (Identify your love. Spend time with them)

identify-your-love-spend-time-with-them

identify-your-love-spend-time-with-them

Identify your love. Spend time with them

Identify your love. Spend time with them

कल मैं दुकान से जल्दी घर चला आया। आम तौर पर रात में 10 बजे के बाद आता हूं, कल 8 बजे ही चला आया।
सोचा था घर जाकर थोड़ी देर पत्नी से बातें करूंगा, फिर कहूंगा कि कहीं बाहर खाना खाने चलते हैं। बहुत साल पहले, , हम ऐसा करते थे।
घर आया तो पत्नी टीवी देख रही थी। मुझे लगा कि जब तक वो ये वाला सीरियल देख रही है, मैं कम्यूटर पर कुछ मेल चेक कर लूं। मैं मेल चेक करने लगा, कुछ देर बाद पत्नी चाय लेकर आई, तो मैं चाय पीता हुआ दुकान के काम करने लगा।
अब मन में था कि पत्नी के साथ बैठ कर बातें करूंगा, फिर खाना खाने बाहर जाऊंगा, पर कब 8 से 11 बज गए, पता ही नहीं चला।
पत्नी ने वहीं टेबल पर खाना लगा दिया, मैं चुपचाप खाना खाने लगा। खाना खाते हुए मैंने कहा कि खा कर हम लोग नीचे टहलने चलेंगे, गप करेंगे। पत्नी खुश हो गई।
हम खाना खाते रहे, इस बीच मेरी पसंद का सीरियल आने लगा और मैं खाते-खाते सीरियल में डूब गया। सीरियल देखते हुए सोफा पर ही मैं सो गया था।
जब नींद खुली तब आधी रात हो चुकी थी।
बहुत अफसोस हुआ। मन में सोच कर घर आया था कि जल्दी आने का फायदा उठाते हुए आज कुछ समय पत्नी के साथ बिताऊंगा। पर यहां तो शाम क्या आधी रात भी निकल गई।
ऐसा ही होता है, ज़िंदगी में। हम सोचते कुछ हैं, होता कुछ है। हम सोचते हैं कि एक दिन हम जी लेंगे, पर हम कभी नहीं जीते। हम सोचते हैं कि एक दिन ये कर लेंगे, पर नहीं कर पाते।
आधी रात को सोफे से उठा, हाथ मुंह धो कर बिस्तर पर आया तो पत्नी सारा दिन के काम से थकी हुई सो गई थी। मैं चुपचाप बेडरूम में कुर्सी पर बैठ कर कुछ सोच रहा था।
पच्चीस साल पहले इस लड़की से मैं पहली बार मिला था। पीले रंग के शूट में मुझे मिली थी। फिर मैने इससे शादी की थी। मैंने वादा किया था कि सुख में, दुख में ज़िंदगी के हर मोड़ पर मैं तुम्हारे साथ रहूंगा।
पर ये कैसा साथ? मैं सुबह जागता हूं अपने काम में व्यस्त हो जाता हूं। वो सुबह जागती है मेरे लिए चाय बनाती है। चाय पीकर मैं कम्यूटर पर संसार से जुड़ जाता हूं, वो नाश्ते की तैयारी करती है। फिर हम दोनों दुकान के काम में लग जाते हैं, मैं दुकान के लिए तैयार होता हूं, वो साथ में मेरे लंच का इंतज़ाम करती है। फिर हम दोनों भविष्य के काम में लग जाते हैं।
मैं एकबार दुकान चला गया, तो इसी बात में अपनी शान समझता हूं कि मेरे बिना मेरा दुकान का काम नहीं चलता, वो अपना काम करके डिनर की तैयारी करती है।
देर रात मैं घर आता हूं और खाना खाते हुए ही निढाल हो जाता हूं। एक पूरा दिन खर्च हो जाता है, जीने की तैयारी में।
वो पंजाबी शूट वाली लड़की मुझ से कभी शिकायत नहीं करती। क्यों नहीं करती मैं नहीं जानता। पर मुझे खुद से शिकायत है। आदमी जिससे सबसे ज्यादा प्यार करता है, सबसे कम उसी की परवाह करता है। क्यों?
कई दफा लगता है कि हम खुद के लिए अब काम नहीं करते। हम किसी अज्ञात भय से लड़ने के लिए काम करते हैं। हम जीने के पीछे ज़िंदगी बर्बाद करते हैं।
कल से मैं सोच रहा हूं, वो कौन सा दिन होगा जब हम जीना शुरू करेंगे। क्या हम गाड़ी, टीवी, फोन, कम्यूटर, कपड़े खरीदने के लिए जी रहे हैं?
मैं तो सोच ही रहा हूं, आप भी सोचिए
कि ज़िंदगी बहुत छोटी होती है। उसे यूं जाया मत कीजिए। अपने प्यार को पहचानिए। उसके साथ समय बिताइए। जो अपने माँ बाप भाई बहन सागे संबंधी सब को छोड़ आप से रिश्ता जोड़ आपके सुख-दुख में शामिल होने का वादा किया उसके सुख-दुख को पूछिए तो सही।
एक दिन अफसोस करने से बेहतर है, सच को आज ही समझ लेना कि ज़िंदगी मुट्ठी में रेत की तरह होती है। कब मुट्ठी से वो निकल जाएगी, पता भी नहीं चलेगा।
ये कहानी नहीं ये रोज़ आने वाले msg भी नहीं ये किसी अपने की आप बीती हे इसको पढ़कर अपने आप में 1 बार जरूर झांके !
अगर आपके दिल को छुये तो आज से ही आप अपने परिवार के साथ आंनद ले या फिर जो चल रहा हे ….
एक अजनबी

wish4me to English

kal main dukaan se jaldee ghar chala aaya. aam taur par raat mein 10 baje ke baad aata hoon, kal 8 baje hee chala aaya.
socha tha ghar jaakar thodee der patnee se baaten karoonga, phir kahoonga ki kaheen baahar khaana khaane chalate hain. bahut saal pahale, , ham aisa karate the.
ghar aaya to patnee teevee dekh rahee thee. mujhe laga ki jab tak vo ye vaala seeriyal dekh rahee hai, main kamyootar par kuchh mel chek kar loon. main mel chek karane laga, kuchh der baad patnee chaay lekar aaee, to main chaay peeta hua dukaan ke kaam karane laga.
ab man mein tha ki patnee ke saath baith kar baaten karoonga, phir khaana khaane baahar jaoonga, par kab 8 se 11 baj gae, pata hee nahin chala.
patnee ne vaheen tebal par khaana laga diya, main chupachaap khaana khaane laga. khaana khaate hue mainne kaha ki kha kar ham log neeche tahalane chalenge, gap karenge. patnee khush ho gaee.
ham khaana khaate rahe, is beech meree pasand ka seeriyal aane laga aur main khaate-khaate seeriyal mein doob gaya. seeriyal dekhate hue sopha par hee main so gaya tha.
jab neend khulee tab aadhee raat ho chukee thee.
bahut aphasos hua. man mein soch kar ghar aaya tha ki jaldee aane ka phaayada uthaate hue aaj kuchh samay patnee ke saath bitaoonga. par yahaan to shaam kya aadhee raat bhee nikal gaee.
aisa hee hota hai, zindagee mein. ham sochate kuchh hain, hota kuchh hai. ham sochate hain ki ek din ham jee lenge, par ham kabhee nahin jeete. ham sochate hain ki ek din ye kar lenge, par nahin kar paate.
aadhee raat ko sophe se utha, haath munh dho kar bistar par aaya to patnee saara din ke kaam se thakee huee so gaee thee. main chupachaap bedaroom mein kursee par baith kar kuchh soch raha tha.
pachchees saal pahale is ladakee se main pahalee baar mila tha. peele rang ke shoot mein mujhe milee thee. phir maine isase shaadee kee thee. mainne vaada kiya tha ki sukh mein, dukh mein zindagee ke har mod par main tumhaare saath rahoonga.
par ye kaisa saath? main subah jaagata hoon apane kaam mein vyast ho jaata hoon. vo subah jaagatee hai mere lie chaay banaatee hai. chaay peekar main kamyootar par sansaar se jud jaata hoon, vo naashte kee taiyaaree karatee hai. phir ham donon dukaan ke kaam mein lag jaate hain, main dukaan ke lie taiyaar hota hoon, vo saath mein mere lanch ka intazaam karatee hai. phir ham donon bhavishy ke kaam mein lag jaate hain.
main ekabaar dukaan chala gaya, to isee baat mein apanee shaan samajhata hoon ki mere bina mera dukaan ka kaam nahin chalata, vo apana kaam karake dinar kee taiyaaree karatee hai.
der raat main ghar aata hoon aur khaana khaate hue hee nidhaal ho jaata hoon. ek poora din kharch ho jaata hai, jeene kee taiyaaree mein.
vo panjaabee shoot vaalee ladakee mujh se kabhee shikaayat nahin karatee. kyon nahin karatee main nahin jaanata. par mujhe khud se shikaayat hai. aadamee jisase sabase jyaada pyaar karata hai, sabase kam usee kee paravaah karata hai. kyon?
kaee dapha lagata hai ki ham khud ke lie ab kaam nahin karate. ham kisee agyaat bhay se ladane ke lie kaam karate hain. ham jeene ke peechhe zindagee barbaad karate hain.
kal se main soch raha hoon, vo kaun sa din hoga jab ham jeena shuroo karenge. kya ham gaadee, teevee, phon, kamyootar, kapade khareedane ke lie jee rahe hain?
main to soch hee raha hoon, aap bhee sochie
ki zindagee bahut chhotee hotee hai. use yoon jaaya mat keejie. apane pyaar ko pahachaanie. usake saath samay bitaie. jo apane maan baap bhaee bahan saage sambandhee sab ko chhod aap se rishta jod aapake sukh-dukh mein shaamil hone ka vaada kiya usake sukh-dukh ko poochhie to sahee.
ek din aphasos karane se behatar hai, sach ko aaj hee samajh lena ki zindagee mutthee mein ret kee tarah hotee hai. kab mutthee se vo nikal jaegee, pata bhee nahin chalega.
ye kahaanee nahin ye roz aane vaale msg bhee nahin ye kisee apane kee aap beetee he isako padhakar apane aap mein 1 baar jaroor jhaanke !
agar aapake dil ko chhuye to aaj se hee aap apane parivaar ke saath aannad le ya phir jo chal raha he ….
ek ajanabee

Comments

comments