Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » जन्म लिया है तो सिर्फ साँसे मत लीजिये, जीने का शौक भी रखिये (have desire to live)

जन्म लिया है तो सिर्फ साँसे मत लीजिये, जीने का शौक भी रखिये (have desire to live)

if-born-just-do-not-take-breaths-have-desire-to-live

if-born-just-do-not-take-breaths-have-desire-to-live

have desire to live

have desire to live

एक डॉक्टर को जैसे ही एक urgent सर्जरी के बारे में फोन करके बताया गया.

वो जितना जल्दी वहाँ आ सकते थे आ गए. वो तुरंत हि कपडे बदल कर ऑपरेशन थिएटर की और बढे.

डॉक्टर को वहाँ उस लड़के के पिता दिखाई दिए जिसका इलाज होना था.

पिता डॉक्टर को देखते ही भड़क उठे, और चिल्लाने लगे..

“आखिर इतनी देर तक कहाँ थे आप? क्या आपको पता नहीं है की मेरे बच्चे की जिंदगी खतरे में है .

क्या आपकी कोई जिम्मेदारी नहीं बनती.. आप का कोई कर्तव्य है या नहीं ? ”

डॉक्टर ने हलकी सी मुस्कराहट के साथ कहा- “मुझे माफ़ कीजिये, मैं हॉस्पिटल में नहीं था.

मुझे जैसे ही पता लगा, जितनी जल्दी हो सका मैं आ गया.. अब आप शांत हो जाइए, गुस्से से कुछ नहीं होगा”

ये सुनकर पिता का गुस्सा और चढ़ गया. भला अपने बेटे की इस नाजुक हालत में वो शांत कैसे रह सकते थे…

उन्होंने कहा- “ऐसे समय में दूसरों को संयम रखने का कहना बहुत आसान है.

आपको क्या पता की मेरे मन में क्या चल रहा है..

अगर आपका बेटा इस तरह मर रहा होता तो क्या आप इतनी देर करते..

यदि आपका बेटा मर जाए अभी, तो आप शांत रहेगे?

कहिये..” डॉक्टर ने स्थिति को भांपा और कहा- “किसी की मौत और जिंदगी ईश्वर के हाथ में है. हम केवल उसे बचाने का प्रयास कर सकते है.. आप ईश्वर से प्राथना कीजिये.. और मैं अन्दर जाकर ऑपरेशन करता हूँ…”

ये कहकर डॉक्टर अंदर चले गए.. करीब 3 घंटो तक ऑपरेशन चला..

लड़के के पिता भी धीरज के साथ बाहर बैठे रहे..

ऑपरेशन के बाद जैसे ही डाक्टर बाहर निकले.. वे मुस्कुराते हुए, सीधे पिता के पास गए..

और उन्हें कहा- “ईश्वर का बहुत ही आशीर्वाद है. आपका बेटा अब ठीक है..

अब आपको जो भी सवाल पूछना हो पीछे आ रही नर्स से पूछ लीजियेगा..

ये कहकर वो जल्दी में चले गए.. उनके बेटे की जान बच गयी इसके लिए वो बहुत खुश तो हुए..

पर जैसे ही नर्स उनके पास आई.. वे बोले.. “ये कैसे डॉक्टर है..

इन्हें किस बात का गुरुर है.. इनके पास हमारे लिए जरा भी समय नहीं है..”

तब नर्स ने उन्हें बताया.. कि ये वही डॉक्टर है जिसके बेटे के साथ आपके बेटे का एक्सीडेँट हो गया था…..

उस दुर्घटना में इनके बेटे की मृत्यु हो गयी.. और हमने जब उन्हें फोन किया गया..

तो वे उसके क्रियाकर्म कर रहे थे… और सब कुछ जानते हुए भी वो यहाँ आए और आपके बेटे का इलाज किया…

नर्स की बाते सुनकर बाप की आँखो मेँ खामोस आँसू बहने लगे ।

जन्म लिया है तो सिर्फ साँसे मत लीजिये, जीने का शौक भी रखिये..

शमशान ऐसे लोगो की राख से… भरा पड़ा है…”

wish4me to English

Ek ḍaokṭar ko jaise hee ek urgent sarjaree ke baare men fon karake bataayaa gayaa. Vo jitanaa jaldee vahaan aa sakate the aa gae. Vo turnt hi kapaḍae badal kar opareshan thieṭar kee aur baḍhe.

ḍaokṭar ko vahaan us ladke ke pitaa dikhaa_ii die jisakaa ilaaj honaa thaa. Pitaa ḍaokṭar ko dekhate hee bhadk uṭhe, aur chillaane lage..

“aakhir itanee der tak kahaan the aap? Kyaa aapako pataa naheen hai kee mere bachche kee jindagee khatare men hai . Kyaa aapakee koii jimmedaaree naheen banatee.. Aap kaa koii kartavy hai yaa naheen ? ”

ḍaokṭar ne halakee see muskaraahaṭ ke saath kahaa- “mujhe maapha keejiye, main hospiṭal men naheen thaa. Mujhe jaise hee pataa lagaa, jitanee jaldee ho sakaa main aa gayaa.. Ab aap shaant ho jaaie, gusse se kuchh naheen hogaa”

ye sunakar pitaa kaa gussaa aur chaḍhx gayaa. Bhalaa apane beṭe kee is naajuk haalat men vo shaant kaise rah sakate the…

unhonne kahaa- “aise samay men doosaron ko snyam rakhane kaa kahanaa bahut aasaan hai. Aapako kyaa pataa kee mere man men kyaa chal rahaa hai.. Agar aapakaa beṭaa is tarah mar rahaa hotaa to kyaa aap itanee der karate.. Yadi aapakaa beṭaa mar jaa_e abhee, to aap shaant rahege? Kahiye..” ḍaokṭar ne sthiti ko bhaanpaa aur kahaa- “kisee kee maut aur jindagee iishvar ke haath men hai. Ham keval use bachaane kaa prayaas kar sakate hai.. Aap iishvar se praathanaa keejiye.. Aur main andar jaakar ŏpareshan karataa hoon…”

ye kahakar ḍaokṭar andar chale gae.. Kareeb 3 ghnṭo tak opareshan chalaa.. Ladke ke pitaa bhee dheeraj ke saath baahar baiṭhe rahe.. Opareshan ke baad jaise hee ḍaakṭar baahar nikale.. Ve muskuraate hue, seedhe pitaa ke paas gae.. Aur unhen kahaa- “iishvar kaa bahut hee aasheervaad hai. Aapakaa beṭaa ab ṭheek hai.. Ab aapako jo bhee savaal poochhanaa ho peechhe aa rahee nars se poochh leejiyegaa.. Ye kahakar vo jaldee men chale gae.. Unake beṭe kee jaan bach gayee isake lie vo bahut khush to hue.. Par jaise hee nars unake paas aaii.. Ve bole.. “ye kaise ḍaokṭar hai.. Inhen kis baat kaa gurur hai.. Inake paas hamaare lie jaraa bhee samay naheen hai..”

tab nars ne unhen bataayaa.. Ki ye vahee ḍaokṭar hai jisake beṭe ke saath aapake beṭe kaa ekseeḍaenṭ ho gayaa thaa….. Us durghaṭanaa men inake beṭe kee mrityu ho gayee.. Aur hamane jab unhen fon kiyaa gayaa.. To ve usake kriyaakarm kar rahe the… aur sab kuchh jaanate hue bhee vo yahaan aae aur aapake beṭe kaa ilaaj kiyaa… Nars kee baate sunakar baap kee aankho men khaamos aansoo bahane lage . Janm liyaa hai to sirf saanse mat leejiye, jeene kaa shauk bhee rakhiye.. Shamashaan aise logo kee raakh se… Bharaa padaa hai…”

Comments

comments