Wednesday , 26 April 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » Intelligent beggar.

Intelligent beggar.

intelligent-beggar

intelligent-beggar

intelligent beggar

Intelligent Beggar

बुद्धिमान भिखारी. ।

एक राजा के महल के द्वार पर एक वृद्ध भिखारी आया।द्वारपाल से उसने कहा, ‘भीतर जाकर राजा से कहो कि तुम्हारा भाई मिलने आया है।’द्वारपाल ने समझा कि शायद कोई दूर के रिश्ते में राजा का भाई हो।सचना मिलने पर राजा ने भिखारी को भीतर बुलाकर अपने पास बैठा लिया।वृद्ध ने राजा से पूछा, ‘कहिए बड़े भाई! आपके क्या हालचाल हैं?’राजा ने मुस्कराकर कहा, ‘मैं तो आनंद में हूं। आप कैसे हैं?’भिखारी बोला, ‘मैं जरा संकट में हूं। जिस महल में रहता हूं, वह पुराना और जर्जर हो गया है। कभी भी टूटकर गिर सकता है। मेरे बत्तीस नौकर थे, वे भी एक एक कर चले गए। पांचों रानियां भी वृद्ध हो गईं।यह सुनकर राजा ने भिखारी को सौ रुपए देने का आदेश दिया।भिखारी ने सौ रुपए कम बताए,तो राजा ने कहा, ‘इस बार राज्य में सूखा पड़ा है।’तब भिखारी बोला, ‘मेरे साथ सात समंदर पार चलिए। वहां सोने की खदानें हैं। मेरे पैर पड़ते ही समुद्र सूख जाएगा। मेरे पैरों की शक्ति तो आप देख ही चुके हैं।’अब राजा ने भिखारी को एक हजार रुपए देने का आदेश दिया।भिखारी के जाने के बाद राजा बोला, ‘भिखारी बुद्धिमान था।भाग्य के दो पहलू होते हैंराजा व रंक। इस नाते उसने मुझे भाई कहा। जर्जर महल से आशय, उसके वृद्ध शरीर से था, बत्तीस नौकर दांत और पांच रानियां पंचेंद्रीय हैं।समुद्र के बहाने उसने मुझे उलाहना दिया कि राजमहल में उसके पैर रखते ही मेरा खजाना सूख गया, इसलिए मैं उसे सौ रुपए दे रहा हूं।उसकी बुद्धिमानी देखकर, मैंने उसे हजार रुपए दिए और कल मैं उसे अपना सलाहकार नियुक्त करूंगा।’कई बार अति सामान्य लगने वाले लोग भीतर से बहुत गहरे होते हैं, इसलिए व्यक्ति की परख उसके बाह्य रहन-सहन से नहीं, बल्कि आचरण से करनी चाहिए ।

Hindi to english

Intelligent beggar.

An elderly beggar came to the door of a king’s palace. He said to the guard, ‘Go in and tell the king that your brother has come to meet you.’ The guard thought that maybe there is a brother of a king in a far-distant relationship. He called the beggar in and sat next to him. The elder asked the king, ‘Please, brother! What are your doing? “King I had smiled and said,” I enjoy. How are you? “Said the beggar,” I just am in trouble. Which I lived in the palace, he was old and shabby. Can ever break down and fall. I was thirty-two servants, they moved one by one. The five queens also became old. After listening to this, the king ordered the beggar to give a hundred rupees. When the devotee gave a hundred rupees less, the king said, ‘This time the state has been drought.’ Then the beggar said, ‘Seven with me Cross the sea There are gold mines. When my feet fall, the sea will dry up. You have already seen the power of my feet. ‘Now the King ordered the beggar to give one thousand rupees. After the visit of the beggar, the King said,’ The beggar was wise. There are two sides of the fort, the king and the ranks. In this regard he said to me brother. The Jargar palace meant that it was from its old body, thirty-five servants and five queens are pancreatic. On the pretext of the sea, he has advised me that my treasure has dried up keeping his feet in the palace, so I am giving him a hundred rupees. His intelligence Seeing, I gave him a thousand rupees and yesterday I will appoint him as my advisor. Sometimes people who look very normal are very deep inside, so the person’s assay Sector should not, but behave bear external lifestyle.

Comments

comments