Wednesday , 27 September 2017
Latest Happenings
Home » Alexander the Great » लोहा खा गया घुन!

लोहा खा गया घुन!

iron-eh-go-mite

iron-eh-go-mite

lessons-taught-by-throwing-the-kings-dog-in-the-river

एक बार की बात है दो व्यक्ति थे, जिनका नाम था मामा और फूफा। मामा और फूफा दोनों व्यापार करते थे और दोनों व्यापार में सहभागी थे। मामा ने फूफा से कहा,” फूफा क्यों ना हम कोई ऐसी वस्तु खरीद लें जो जल्दी खराब ना हो और उसकी कीमत भी बढती रहे; फिर हम उसे कुछ वर्षो बाद बेचें जिससे उसके मूलधन से ज्यादा दाम मिले।”

फूफा ने कहा,”ठीक है मामा, तुम्हारी बात तो सही है, पर हम खरीदें क्या?”

उन्होंने आपस में राय-मशवरा किया और लोहा खरीदने का निर्णय लिया। दोनों ने बराबर रूपये मिला कर लोहा खरीदा। फूफा ने मामा से कहा कि लोहा वह कहीं सूरक्षित स्थान पर रख दे।

मामा ने लोहा अपने पास एक पुरानी कोठरी में रख लिया।

कुछ दिन तो लोहा जस का तस रखा रहा पर धीरे-धीरे मामा के मन में लालच आ गया और मामा फूफा को बिना बताये लोहा बेचने लगा।

काफी दिनों बाद  फूफा मामा के पास गया और बोला,”मामा आज लोहे का भाव काफी बढ़ गया है, जल्दी से वह लोहा निकालो, हम इसे बेच-कर आते हैं।”

इस पर मामा बोला, “फूफा लोहा तो अब कबाड़ घर में नहीं है, क्योंकि लोहे को तो घुन खा गये हैं।”

फूफा समझ गया की मामा ने उसके साथ धोखा किया है। और उसे बिना बताये सारा का सारा लोहा बेच दिया है। फूफा को क्रोध तो बहुत आया पर वह बिना कुछ कहे-सुने वहां से चला गया\

इस घटना के कुछ दिनों बाद फूफा मामा के पास आया और बोला,”मामा मैं एक बारात में जा रहा हूँ, बड़ा अच्छा इंतजाम है,  अकेला हूँ चाहो तो अपने लड़के को साथ भेज दो, उसकी भी मौज हो जायेगी और कल सुबह तक हम वापस भी आ जायेंगे।”

मामा बोला,”क्यों नहीं, बेशक तुम मेरे लड़के को अपने साथ लेकर जाओ। और हां इसे बारात में अच्छी तरह खाना-वाना खिला देना।”

फूफा बोला, “यह भी भला कोई कहने की बात है मामा, तुम निश्चिंत रहो।” इस तरह दो दिन बीत गए। मामा का लड़का अभी तक घर वापस नहीं आया। मामा को बहुत चिंता हो गयी की अभी तक उसका लड़का घर वापस क्यों नहीं आया है

वह अपने लड़के के बारे में जानने के लिए फूफा के पास गया और बोला, “फूफा मेरा लड़का कहाँ है? वह अभी तक घर वापस क्यों नहीं आया है?”

फूफा ने कहा, “क्या बताऊँ मामा, रास्ते में एक चील तुम्हारे लड़के को उठा कर ले गयी।”

मामा बोला, “ये कैसे हो सकता है, भला कोई चील 12 साल के लड़के को उठा कर ले जा सकती है? सीधी तरह मेरा लड़का मुझे वापस करों, नहीं तो मैं राजा भीम के पास जाऊंगा।”

फूफा बोला,”ठीक है मामा, चलो राजा जी के पास चले, अब वही न्याय करेंगे।”

मामला वहां के राजा भीम के सामने पेश हुआ।

राजा भीम ने सारी बात सुनी और आश्चर्यचकित होते हुए फूफा से कहा, “देखो फूफा तुम झूठ बोल रहे हो, भला कोई चील 12 वर्ष के लड़के को उठा कर अपने पंजो से आसमान में ले जा सकती है?”

इस पर फूफा ने उत्तर दिया,

इस पर राजा भीम सब समझ गये और उन्होंने मामा को आज्ञा दी की वह फूफा का लोहा वापस कर दे। और फूफा को कहा कि वह लड़के को मामा के पास वापस पहुंचा दे।

Translate Into Hindi To English

It was once a matter of two people, whose name was Mama and Fuhaa. Both Mama and Fuafa used to trade and both were involved in trade. Mama said to Fufa, “Why do not we buy any such thing which will not be bad quickly and its price keeps growing; Then we sell it after a few years so that it gets more than its principal. ”

Fufa said, “Okay uncle, your thing is right, but what do we buy?”

They agreed with each other and decided to buy iron. Both of them bought iron by adding equal money. Fuafa told Mama that he should put the iron somewhere in the safe place.

Mama kept the iron in her old closet.

For a few days the iron was kept in tears, but gradually the greed in the minds of the mama came and the maternal uncle was selling the iron without telling him.

After a long time, Fuwa went to Mama and said, “Mama today has a lot of iron value, quickly get rid of it, we sell it.”

Mama said on this, “Fuwa iron is no longer in the junk house, because iron has been eaten up.”

Foofa understood that Mama had cheated with her. And sold all the iron without telling it to him. Fuafa had a lot of anger but he went away without saying anything –

A few days after this incident, Fuwa came to the maternal uncle and said, “Mama, I am going to a going , there is a good arrangement, I am alone, if you want to send your boy along, he will also be happy and by tomorrow morning we will Come back too. ”

Mama said, “Why not, of course you take my boy with you. And yes, feed it well in the procession. ”

Faufa said, “It is also a thing to say, Mama, you rest.” Two days passed like this. Mama’s boy has not returned home yet. Mama was so worried that her boy has not returned home yet

He went to Fufa to find out about his boy and said, “Where is my boy? Why has not she returned home yet? ”

Fuafa said, “Tell me, uncle, an eagle on the way lifted your boy.”

Mama said, “How can this happen, even if someone can take a 12-year-old boy by picking an eagle? Let my boy return me directly, otherwise I will go to King Bhim. ”

Fuafa said, “Okay mama, let’s go to Raja ji, now he will do the same justice.”

The matter was presented before Raja Bhim there.

Raja Bhim heard all the talk and said with surprise, “Look, you are lying, you can pick up a 12-year-old boy and take him to the sky with his paws?”

Fuafa replied,

King Bhima understand everything on this
Google Translate for Business:Translator ToolkitWebsite Translator

Comments

comments