Friday , 23 February 2018
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Leela » जाने, किस भगवान को है कौन सा पुष्प प्रिय…

जाने, किस भगवान को है कौन सा पुष्प प्रिय…

jaane-kis-bhagavaan-ko-hai-kaun-saa-pu%E1%B9%A3p-priy

jaane-kis-bhagavaan-ko-hai-kaun-saa-pu%E1%B9%A3p-priy

Jaane, kis bhagavaan ko hai kaun saa puṣp priy.

श्रीगणेश
गणेशजी को तुलसी छोड़कर हर तरह के फूल पसंद हैं। खास बात यह है कि गणपति को दूब अधिक प्रिय है। गणेशजी पर तुलसी कभी न चढ़ाएं। भगवान गणेश लाल रंग के फूलों को पसंद करते हैं। इसके अलावा गेंदे का फूल भी उन्हें प्रिय है, इसलिए भक्त इसकी माला बनाकर गणेशजी को चढ़ाते हैं।

भगवान शिव
भगवान शंकर को सभी सुगंधित फूल पंसद हैं। चमेली, श्वेत कमल, शमी, धतूरा, शमी, गूलर, पलाश, बेलपत्र, केसर उन्हें खास प्रिय हैं।

विष्णु
भगवान विष्णु को तुलसी बहुत पसंद है। काली तुलसी और गौरी तुलसी, उन्हें दोनों ही पंसद हैं। कमल, बेला, चमेली, गूमा, खैर, शमी, चंपा, मालती, कुंद आदि फूल विष्णु को प्रिय हैं।

हनुमान
हनुमानजी को लाल फूल चढ़ाना ज्यादा अच्छा रहता है। वैसे उन्हें कोई भी सुगंधित फूल चढ़ाया जा सकता है।

सूर्य
भगवान सूर्य को आक का फूल सबसे ज्यादा प्रिय है। शास्त्रों में कहा गया है कि अगर सूर्य को एक आक का फूल अर्पण कर दिया जाए, तो सोने की 10 अशर्फियां चढ़ाने का फल मिल जाता है। उड़हुल, कनेर, शमी, नीलकमल, लाल कमल, बेला, मालती, अगस्त्य आदि चढ़ाने का विधान है। सूर्य पर धतूरा, अपराजिता, अमड़ा, तगर आदि नहीं चढ़ाना चाहिए।

भगवती(देवी)
सामान्यत: सभी लाल फूल और सुगंधित सभी सफेद फूल भगवती को विशेष प्रिय हैं। बेला, चमेली, केसर, श्वेत कमल, पलाश, चंपा, कनेर, अपराजित आदि फूलों से भी देवी की पूजा की जाती है। मां लक्ष्मी, दुर्गा तथा अन्य देवी जैसे कि सरस्वती एवं पार्वती जी के पूजन के लिए लाल रंग के पुष्प देना शुभ माना जाता है। शक्ति का स्रोत देवियों के अलावा शिव के पुत्र गणेश को भी खास प्रकार के फूल चढ़ाने की मान्यता प्रचलित है। आक और मदार के फूल केवल दुर्गाजी को ही चढ़ाना चाहिए, अन्य किसी देवी को नहीं। दुर्गाजी पर दूब कभी न चढ़ाएं। लक्ष्मीजी को कमल के फूल का चढ़ाने का विशेष महत्व है।


 

shreeganesh
ganeshajee ko tulasee chhodakar har tarah ke phool pasand hain. khaas baat yah hai ki ganapati ko doob adhik priy hai. ganeshajee par tulasee kabhee na chadhaen. bhagavaan ganesh laal rang ke phoolon ko pasand karate hain. isake alaava gende ka phool bhee unhen priy hai, isalie bhakt isakee maala banaakar ganeshajee ko chadhaate hain.

bhagavaan shiv
bhagavaan shankar ko sabhee sugandhit phool pansad hain. chamelee, shvet kamal, shamee, dhatoora, shamee, goolar, palaash, belapatr, kesar unhen khaas priy hain.

vishnu
bhagavaan vishnu ko tulasee bahut pasand hai. kaalee tulasee aur gauree tulasee, unhen donon hee pansad hain. kamal, bela, chamelee, gooma, khair, shamee, champa, maalatee, kund aadi phool vishnu ko priy hain.

hanumaan
hanumaanajee ko laal phool chadhaana jyaada achchha rahata hai. vaise unhen koee bhee sugandhit phool chadhaaya ja sakata hai.

soory
bhagavaan soory ko aak ka phool sabase jyaada priy hai. shaastron mein kaha gaya hai ki agar soory ko ek aak ka phool arpan kar diya jae, to sone kee 10 asharphiyaan chadhaane ka phal mil jaata hai. udahul, kaner, shamee, neelakamal, laal kamal, bela, maalatee, agasty aadi chadhaane ka vidhaan hai. soory par dhatoora, aparaajita, amada, tagar aadi nahin chadhaana chaahie.

bhagavatee (devee)
saamaanyat: sabhee laal phool aur sugandhit sabhee saphed phool bhagavatee ko vishesh priy hain. bela, chamelee, kesar, shvet kamal, palaash, champa, kaner, aparaajit aadi phoolon se bhee devee kee pooja kee jaatee hai. maan lakshmee, durga tatha any devee jaise ki sarasvatee evan paarvatee jee ke poojan ke lie laal rang ke pushp dena shubh maana jaata hai. shakti ka srot deviyon ke alaava shiv ke putr ganesh ko bhee khaas prakaar ke phool chadhaane kee maanyata prachalit hai. aak aur

Comments

comments