Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Do you Know? » जानिए क्यों की जाती है मंदिर की परिक्रमा तथा क्या है इसका महत्त्व ?

जानिए क्यों की जाती है मंदिर की परिक्रमा तथा क्या है इसका महत्त्व ?

jaanie-kyon-kee-jaatee-hai-mandir-kee-parikrama-tatha-kya-hai-isaka-mahatt

jaanie-kyon-kee-jaatee-hai-mandir-kee-parikrama-tatha-kya-hai-isaka-mahatt

Mandir

Mandir

ईश्वर की आराधना करने के तरीके अनेक हैं, इसमें पूरे विधि-विधान से पूजा करने से लेकर उपवास रख कर भी ईश्वर को प्रसन्न करने जैसी रीति है। लेकिन इसके अलावा भी एक और अंदाज है भगवान को याद करने तथा उनसे सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त करने का। यह तरीका है परिक्रमा का, जो किसी धार्मिक स्थल के ईर्द-गिर्द की जाती है।
ऋग्वेद के अनुसार प्रदक्षिणा शब्द को दो भागों (प्रा + दक्षिणा) में विभाजित किया गया है। इस शब्द में मौजूद प्रा से तात्पर्य है आगे बढ़ना और दक्षिणा मतलब चार दिशाओं में से एक दक्षिण की दिशा। यानी कि ऋग्वेद के अनुसार परिक्रमा का अर्थ है दक्षिण दिशा की ओर बढ़ते हुए देवी-देवता की उपासना करना। इस परिक्रमा के दौरान प्रभु हमारे दाईं ओर गर्भ गृह में विराजमान होते हैं। मान्यता है कि परिक्रमा हमेशा घड़ी की सुई की दिशा में ही की जाती है तभी हम दक्षिण दिशा की ओर आगे बढ़ते हैं। हिन्दू धर्म की मान्यताओं के आधार पर ईश्वर हमेशा मध्य में उपस्थित होते हैं। यह स्थान प्रभु के केंद्रित रहने का अनुभव प्रदान करता है।
यह परिक्रमा केवल पारंपरिक आधार पर ही नहीं की जाती बल्कि इसे करने के और भी कारण हैं। हिन्दू धार्मिक इतिहास में दी गए एक कथा हमें परिक्रमा करने का कारण भी बताती है। एक बार माता पार्वती ने अपने पुत्रों कार्तिकेय तथा गणेश को सांसारिक ज्ञान प्राप्त करने के लिए पृथ्वी का एक चक्कर लगाकर उनके पास वापस लौटने का आदेश दिया गया। जो भी पुत्र इस परिक्रमा को पूर्ण कर माता के पास सबसे पहले पहुंचता वही इस दौड़ का विजेता होता तथा उनकी नजर में सर्वश्रेष्ठ कहलाता। यह सुन कार्तिकेय अपनी सुंदर सवारी मोर पर सवार हुए तथा पृथ्वी का चक्कर लगाने के लिए निकल पड़े। उन्हें यह भ्रमण समाप्त करने में युग लग गए लेकिन दूसरी ओर गणेश द्वारा माता की आज्ञा को पूरा करने का तरीका काफी अलग था जिसे देख सभी हैरान रह गए। गणेश ने अपने दोनों हाथ जोड़े तथा माता पार्वती के चक्कर लगाना शुरू कर दिया। जब कार्तिकेय पृथ्वी का चक्कर लगाकर वापस लौटे और गणेश को अपने सामने पाया तो वह हैरान हो गए। उन्हें अपनी आंखों पर विश्वास नहीं हो रहा था कि कैसे गणेश उनसे पहले दौड़ का समापन कर सकते हैं। पुराण में दर्ज माता पार्वती, कार्तिकेय तथा गणेश की इस कथा के बाद ही हिन्दू धर्म में परिक्रमा करने की रीति का आरंभ हुआ। तब से लेकर आज तक विभिन्न धार्मिक स्थलों पर परिक्रमा करने का रिवाज है।
हिन्दू मान्यताओं के अनुसार केवल भगवान ही नहीं बल्कि और भी कई वस्तुओं की परिक्रमा की जाती है। ईश्वर के अलावा अग्नि, पेड़ तथा पौधों की परिक्रमा भी की जाती है। सबसे पवित्र माने जाने वाले तुलसी के पौधे की परिक्रमा करना हिन्दू धर्म में काफी प्रसिद्ध है।
भगवान से विभिन्न फल पाने के लिए या फिर अपने मन को शांति देने के लिए हम उनसे प्रार्थना करते हैं। इसी तरह से भगवान की परिक्रमा करते हुए भी हमें अनेक लाभ मिलते हैं। कहते हैं मंदिर या पूजा स्थल पर प्रार्थना करने के बाद उस जगह का वातावरण काफी सकारात्मक ऊर्जा से भर जाता है।

To English Wish4me
eeshvar kee aaraadhana karane ke tareeke anek hain, isamen poore vidhi-vidhaan se pooja karane se lekar upavaas rakh kar bhee eeshvar ko prasann karane jaisee reeti hai. lekin isake alaava bhee ek aur andaaj hai bhagavaan ko yaad karane tatha unase sakaaraatmak oorja praapt karane ka. yah tareeka hai parikrama ka, jo kisee dhaarmik sthal ke eerd-gird kee jaatee hai.
rgved ke anusaar pradakshina shabd ko do bhaagon (pra + dakshina) mein vibhaajit kiya gaya hai. is shabd mein maujood pra se taatpary hai aage badhana aur dakshina matalab chaar dishaon mein se ek dakshin kee disha. yaanee ki rgved ke anusaar parikrama ka arth hai dakshin disha kee or badhate hue devee-devata kee upaasana karana. is parikrama ke dauraan prabhu hamaare daeen or garbh grh mein viraajamaan hote hain. maanyata hai ki parikrama hamesha ghadee kee suee kee disha mein hee kee jaatee hai tabhee ham dakshin disha kee or aage badhate hain. hindoo dharm kee maanyataon ke aadhaar par eeshvar hamesha madhy mein upasthit hote hain. yah sthaan prabhu ke kendrit rahane ka anubhav pradaan karata hai.
yah parikrama keval paaramparik aadhaar par hee nahin kee jaatee balki ise karane ke aur bhee kaaran hain. hindoo dhaarmik itihaas mein dee gae ek katha hamen parikrama karane ka kaaran bhee bataatee hai. ek baar maata paarvatee ne apane putron kaartikey tatha ganesh ko saansaarik gyaan praapt karane ke lie prthvee ka ek chakkar lagaakar unake paas vaapas lautane ka aadesh diya gaya. jo bhee putr is parikrama ko poorn kar maata ke paas sabase pahale pahunchata vahee is daud ka vijeta hota tatha unakee najar mein sarvashreshth kahalaata. yah sun kaartikey apanee sundar savaaree mor par savaar hue tatha prthvee ka chakkar lagaane ke lie nikal pade. unhen yah bhraman samaapt karane mein yug lag gae lekin doosaree or ganesh dvaara maata kee aagya ko poora karane ka tareeka kaaphee alag tha jise dekh sabhee hairaan rah gae. ganesh ne apane donon haath jode tatha maata paarvatee ke chakkar lagaana shuroo kar diya. jab kaartikey prthvee ka chakkar lagaakar vaapas laute aur ganesh ko apane saamane paaya to vah hairaan ho gae. unhen apanee aankhon par vishvaas nahin ho raha tha ki kaise ganesh unase pahale daud ka samaapan kar sakate hain. puraan mein darj maata paarvatee, kaartikey tatha ganesh kee is katha ke baad hee hindoo dharm mein parikrama karane kee reeti ka aarambh hua. tab se lekar aaj tak vibhinn dhaarmik sthalon par parikrama karane ka rivaaj hai.
hindoo maanyataon ke anusaar keval bhagavaan hee nahin balki aur bhee kaee vastuon kee parikrama kee jaatee hai. eeshvar ke alaava agni, ped tatha paudhon kee parikrama bhee kee jaatee hai. sabase pavitr maane jaane vaale tulasee ke paudhe kee parikrama karana hindoo dharm mein kaaphee prasiddh hai.
bhagavaan se vibhinn phal paane ke lie ya phir apane man ko shaanti dene ke lie ham unase praarthana karate hain. isee tarah se bhagavaan kee parikrama karate hue bhee hamen anek laabh milate hain. kahate hain mandir ya pooja sthal par praarthana karane ke baad us jagah ka vaataavaran kaaphee sakaaraatmak oorja se bhar jaata hai.

 

Comments

comments