Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » जगन्नाथ मंदिर

जगन्नाथ मंदिर

jagannaath-mandir

jagannaath-mandir

jagannaath mandir

jagannaath mandir

जगन्नाथ मंदिर उड़ीसा के पुरी शहर में स्थित हिंदुओं का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। भगवान जगन्नाथ को श्रीकृष्ण का अवतार माना जाता है। यह मंदिर हिंदुओं के चार प्रमुख धामों में से एक है। इस मंदिर में भगवान जगन्नाथ के साथ-साथ उनके भाई बलभद्र तथा बहन सुभद्रा की भी मूर्ति स्थापित है। जगन्नाथ की उत्पत्ति से संबंधित कई कथाएं लोकप्रिय हैं।

जगन्नाथ से जुड़ी एक प्रसिद्ध कथा (Story of Jagannath Temple in Hindi)

एक पौराणिक कथा के अनुसार एक दिन भगवान जगन्नाथ की मूर्ति राजा इंद्रद्युम्न को सपने में दिखाई दी। सपने में जगन्नाथ की मूर्ति देखने के बाद राजा से रहा ना गया तथा वह कड़ी तपस्या में लीन हो गया। तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु प्रकट हुए।

भगवान विष्णु ने राजा से कहा कि वह पुरी के तट पर जाए और वहां रखे एक लकड़ी के लट्ठे से उनकी मूर्ति का निर्माण करवाए। राजा उसी समय पुरी गए तथा जैसा भगवान विष्णु ने कहा था वैसा ही किया।

इसके बाद भगवान विष्णु ने मूर्तिकार का रूप धारण किया और राजा से एक शर्त रखी।  उन्होंने कहा कि जब तक वह मूर्ति का निर्माण कार्य पूरा नही कर लेते, तब तक वह स्वयं को एक कमरे में बंद रखेंगें। इसके साथ ही, यह भी कहा कि इस बीच इस कमरे में कोई प्रवेश न करे।

कुछ दिनों बाद कमरे से कोई आवाज नही आई, तो राजा इंद्रद्युम्न ने कमरे के अंदर खिड़की से देख लिया। इसके बाद मूर्तिकार अदृश्य हो गया। कहा जाता है कि यह मूर्तिकार कोई और नहीं विश्वकर्मा जी थे। अधूरी मूर्तियों को देखकर राजा को बहुत दुखा हुआ। राजा को उदास देख उनसे भगवान ने स्वप्न में कहा कि मुझे इसी रूप में स्थापित करें। तब से इस मंदिर में भगवान जगन्नाथ की अधूरी मूर्ति ही विराजमान है।

जगन्नाथ से जुड़ी विशेषता (Facts of Jagannath Temple in Hindi)
पुरी में हर साल भगवान जगन्नाथ तथा उनके भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा की विशाल रथ यात्रा धूम-धाम से निकाली जाती है। माना जाता है कि भगवान के दर पर सबकी मनोकामनाएं पूर्ण होती है। यहां हर समय भक्तजनों की भीड़ लगी रहती है। मान्यता है कि इनकी आराधना करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है।

जगन्नाथ मंदिर की एक अहम विशेषता है यहां स्थित रसोई जिसमें प्रतिदिन लाखों श्रद्धालुओं के लिए प्रसाद बनता है। यह रसोई दुनिया की सबसे बड़ी रसोई मानी जाती है।

wish4me to English

jagannaath mandir udeesa ke puree shahar mein sthit hinduon ka ek pramukh dhaarmik sthal hai. bhagavaan jagannaath ko shreekrshn ka avataar maana jaata hai. yah mandir hinduon ke chaar pramukh dhaamon mein se ek hai. is mandir mein bhagavaan jagannaath ke saath-saath unake bhaee balabhadr tatha bahan subhadra kee bhee moorti sthaapit hai. jagannaath kee utpatti se sambandhit kaee kathaen lokapriy hain.

jagannaath se judee ek prasiddh katha (story of jagannath taimplai in hindi)

ek pauraanik katha ke anusaar ek din bhagavaan jagannaath kee moorti raaja indradyumn ko sapane mein dikhaee dee. sapane mein jagannaath kee moorti dekhane ke baad raaja se raha na gaya tatha vah kadee tapasya mein leen ho gaya. tapasya se prasann hokar bhagavaan vishnu prakat hue.

bhagavaan vishnu ne raaja se kaha ki vah puree ke tat par jae aur vahaan rakhe ek lakadee ke latthe se unakee moorti ka nirmaan karavae. raaja usee samay puree gae tatha jaisa bhagavaan vishnu ne kaha tha vaisa hee kiya.

isake baad bhagavaan vishnu ne moortikaar ka roop dhaaran kiya aur raaja se ek shart rakhee. unhonne kaha ki jab tak vah moorti ka nirmaan kaary poora nahee kar lete, tab tak vah svayan ko ek kamare mein band rakhengen. isake saath hee, yah bhee kaha ki is beech is kamare mein koee pravesh na kare.

kuchh dinon baad kamare se koee aavaaj nahee aaee, to raaja indradyumn ne kamare ke andar khidakee se dekh liya. isake baad moortikaar adrshy ho gaya. kaha jaata hai ki yah moortikaar koee aur nahin vishvakarma jee the. adhooree moortiyon ko dekhakar raaja ko bahut dukha hua. raaja ko udaas dekh unase bhagavaan ne svapn mein kaha ki mujhe isee roop mein sthaapit karen. tab se is mandir mein bhagavaan jagannaath kee adhooree moorti hee viraajamaan hai.

jagannaath se judee visheshata (fachts of jagannath taimplai in hindi)
puree mein har saal bhagavaan jagannaath tatha unake bhaee balabhadr aur bahan subhadra kee vishaal rath yaatra dhoom-dhaam se nikaalee jaatee hai. maana jaata hai ki bhagavaan ke dar par sabakee manokaamanaen poorn hotee hai. yahaan har samay bhaktajanon kee bheed lagee rahatee hai. maanyata hai ki inakee aaraadhana karane se moksh kee praapti hotee hai.

jagannaath mandir kee ek aham visheshata hai yahaan sthit rasoee jisamen pratidin laakhon shraddhaaluon ke lie prasaad banata hai. yah rasoee duniya kee sabase badee rasoee maanee jaatee hai.

Comments

comments