Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Goddess » जहां आदर, सत्कार हो वहीं विराजती हैं लक्ष्मी

जहां आदर, सत्कार हो वहीं विराजती हैं लक्ष्मी

jahaan-aadar-satkaar-ho-vaheen-viraajatee-hain-lakshmee

jahaan-aadar-satkaar-ho-vaheen-viraajatee-hain-lakshmee

lakshme

lakshme

कहा जाता है कि देवी लक्ष्मी की असुरों पर बड़ी कृपा थी। वे उनके वहां निवास करती थीं एक बार देवी लक्ष्मी स्वर्ग में रहने के लिए आई। तब इंद्र को बड़ा आश्चर्य हुआ। इंद्र ने देवी लक्ष्मी से पूछा- भगवती, आखिर ऐसा कौन सा कारण है कि आप असुरो को छोड़ स्वर्ग में रहने के लिए आई हैं। तब देवी लक्ष्मी ने कहा , जिस घर में गुरुजनों का सत्कार होता है, दूसरो के साथ सभ्यता पूर्वक बात की जाती है और परिवार जन परस्पर प्रीति से रहते हैं, मैं वहीं निवास करती हूं। असुर इसी प्रकार रहते थे लेकिन अब इन गुणों को असुरों ने छोड़ दिया है अत: मैंने भी उन्हें छोड़ दिया है।
कहते हैं कि एक बार एक सेठ से देवी लक्ष्मी ने स्वप्न में कहा- सेठ, अब तुम्हारे पुण्य समाप्त हो गए हैं इसलिए मैं थोड़े दिन बाद तुम्हारे घर से चली जाऊंगी, लेकिन मैं तुम्हारी भक्ति से प्रसन्न हूं इसलिए जाने से पहले वरदान देना चाहती हूं। जो इच्छा हो, वह वरदान मागं लो। सेठ ने कहा- कल सवेरे अपने कुटुंब के लोगों से सलाह करके जो मांगना होगा, मांग लूंगा। सुबह सेठ ने सभी से पूछा। किसी ने हीरा-मोती मांगने को कहा, किसी ने स्वर्ण राशि मांगने की सलाह दी, कोई अन्न मांगने के पक्ष में था और कोई वाहन या भवन। सबसे अंत में सेठ की छोटी बहू बोली- पिताजी, जब लक्ष्मी जी को जाना ही है तो ये वस्तुएं मिलने पर भी टिकेंगी कैसे? आप इन्हें मांगेंगे भी तो ये ज्यादा देर तक नहीं टिकेंगी? आप तो मांगिए कि कुटुंब में प्रेम बना रहे। कुटुंब में सब लोगों में परस्पर प्रीति रहेगी, तो विपत्ति के दिन भी सरलता से कट जाएंगे।
सेठ को छोटी बहू की बात पसंद आई। दूसरी रात्री फिर स्वप्न में देवी लक्ष्मी के दर्शन हुए। सेठ ने प्रार्थना की देवी, आप जाना ही चाहती ही चाहती हैं तो प्रसन्नता से जाएं, किंतु यह वरदान दें कि हमारे कुटुंबियों में परस्पर प्रेम बना रहे। देवी लक्ष्मी बोली-सेठ, ऐसा वरदान तुमने मांगा कि मुझे बांध ही लिया। जिस परिवार के सदस्यों में परस्पर प्रीति है, वहां से मैं कैसे जा सकती हूं?
शिक्षा- जिस घर में गुरुजनों का सत्कार होता है, दूसरों का सम्मान होता है और परिवार जन प्यार से रहते हैं, लक्ष्मी वहीं निवास करती हैं।

To English in Wish4me

kaha jaata hai ki devee lakshmee kee asuron par badee krpa thee. ve unake vahaan nivaas karatee theen ek baar devee lakshmee svarg mein rahane ke lie aaee. tab indr ko bada aashchary hua. indr ne devee lakshmee se poochha- bhagavatee, aakhir aisa kaun sa kaaran hai ki aap asuro ko chhod svarg mein rahane ke lie aaee hain. tab devee lakshmee ne kaha , jis ghar mein gurujanon ka satkaar hota hai, doosaro ke saath sabhyata poorvak baat kee jaatee hai aur parivaar jan paraspar preeti se rahate hain, main vaheen nivaas karatee hoon. asur isee prakaar rahate the lekin ab in gunon ko asuron ne chhod diya hai at: mainne bhee unhen chhod diya hai.
kahate hain ki ek baar ek seth se devee lakshmee ne svapn mein kaha- seth, ab tumhaare puny samaapt ho gae hain isalie main thode din baad tumhaare ghar se chalee jaoongee, lekin main tumhaaree bhakti se prasann hoon isalie jaane se pahale varadaan dena chaahatee hoon. jo ichchha ho, vah varadaan maagan lo. seth ne kaha- kal savere apane kutumb ke logon se salaah karake jo maangana hoga, maang loonga. subah seth ne sabhee se poochha. kisee ne heera-motee maangane ko kaha, kisee ne svarn raashi maangane kee salaah dee, koee ann maangane ke paksh mein tha aur koee vaahan ya bhavan. sabase ant mein seth kee chhotee bahoo bolee- pitaajee, jab lakshmee jee ko jaana hee hai to ye vastuen milane par bhee tikengee kaise? aap inhen maangenge bhee to ye jyaada der tak nahin tikengee? aap to maangie ki kutumb mein prem bana rahe. kutumb mein sab logon mein paraspar preeti rahegee, to vipatti ke din bhee saralata se kat jaenge.
seth ko chhotee bahoo kee baat pasand aaee. doosaree raatree phir svapn mein devee lakshmee ke darshan hue. seth ne praarthana kee devee, aap jaana hee  chaahatee hain to prasannata se jaen, kintu yah varadaan den ki hamaare kutumbiyon mein paraspar prem bana rahe. devee lakshmee bolee-seth, aisa varadaan tumane maanga ki mujhe baandh hee liya. jis parivaar ke sadasyon mein paraspar preeti hai, vahaan se main kaise ja sakatee hoon?
shiksha- jis ghar mein gurujanon ka satkaar hota hai, doosaron ka sammaan hota hai aur parivaar jan pyaar se rahate hain, lakshmee vaheen nivaas karatee hain

 

Comments

comments