Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Bhajan/Aarti / Mantra/ Chalisa Lyrics » जानकी जानकी मैं ना दूँ जानकी

जानकी जानकी मैं ना दूँ जानकी

janki-janki-main-na-du-janki

janki-janki-main-na-du-janki

Janki Janki Main Na Du Janki Story

रावण मंदोदरी से कहता है:-

जानकी जानकी मैं ना दूँ जानकी,
मैंने बाज़ी लगाई है जान की।

मुझको परवा नहीं अपनी जान की,
मैं चुरा लाया मैं राम की जानकी।
तेरा बीटा जला, मेरी लंका जली,
अब ना वापिस करूँगा मैं जानकी॥

मेरे महलो की रानी बने जानकी,
तेरे पास बिठाऊंगा मैं जानकी।
मेरे मन में बसी उस दिन जानकी,
जब सवमवर में देखि थी जानकी॥

पार होगा वोही जिसे पकड़ेंगे राम,
जिस को छोड़ेंगे पल भर में डूब जाएगा।
मुझको चिंता नहीं अपनी जान की,
मुझको चिंता लगी है उसकी जान की।
मैंने खायी कसम अपनी जान की,
मरते दम तक ना दूंगा मैं जानकी॥


raavan mandodaree se kahata hai:-

jaanakee jaanakee main na doon jaanakee,
mainne baazee lagaee hai jaan kee.

mujhako parava nahin apanee jaan kee,
main chura laaya main raam kee jaanakee.
tera beeta jala, meree lanka jalee,
ab na vaapis karoonga main jaanakee.

mere mahalo kee raanee bane jaanakee,
tere paas bithaoonga main jaanakee.
mere man mein basee us din jaanakee,
jab savamavar mein dekhi thee jaanakee.

paar hoga vohee jise pakadenge raam,
jis ko chhodenge pal bhar mein doob jaega.
mujhako chinta nahin apanee jaan kee,
mujhako chinta lagee hai usakee jaan kee.
mainne khaayee kasam apanee jaan kee,
marate dam tak na doonga main jaanakee.

Comments

comments