Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » जीत हमेशा सत्य की होती है

जीत हमेशा सत्य की होती है

jeet-hamesha-saty-kee-hotee-hai

jeet-hamesha-saty-kee-hotee-hai

jeet hamesha saty kee hotee hai

jeet hamesha saty kee hotee hai

एक दिन ब्राह्मण ने मार्ग पर चलते हुए एक हीरा मिला, जिसकी कीमत एक लाख रुपए थी। वह साधारण रूप से ही हीरे को लिए हुए जा रहा था। कि आगे की ओर से एक जौहरी जगह-जगह भूमि को देखता हुआ आ रहा था। वह व्याकुल था। ब्राह्मण ने उसे देखकर पूछा, ‘‘जौहरी भाई, तुम व्याकुल क्यों है ? देख, एक हीरा हमने पाया है। तेरा हो तो तू ले ले।’’ यह कहकर उसने हीरा जौहरी को दे दिया। अब जौहरी कहने लगा, ‘‘मेरे तो दो हीरे थे। एक तो तूने दे दिया। अब दूसरा भी दे दे, तब मैं तुझे छोड़ूँगा।’’ दोनों में काफी देर तक कहा सुनी हुई। आखिर जौहरी ने ब्राह्मण को पुलिस के हवाले कर अपना मुकदमा अदालत में दे दिया।
वहाँ हाकिम ने उस ब्राह्मण से पूछा, ‘‘कहो भाई, क्या मामला है ?’’ ब्राह्मण ने कहा, ‘‘मैं मार्ग से जा रहा था कि मुझे एक हीरा पड़ा, मिला। तभी सामने से यह जौहरी कुछ ढूँढ़ता हुआ व्याकुल सा चला आ रहा था। मैंने इससे पूछा, क्या है ? तब इसने कहा कि मेरा एक हीरा खो गया है। मैंने वह हीरा इसे देकर कहा कि देखो, यह एक हीरा मैंने पाया है। यदि तुम्हारा हो तो ले लो। तब इसने हीरा ले लिया।
और अब यह कहता है कि मेरे तो दो हीरे थे।’’ अब हाकिम ने जौहरी से पूछा। तब जौहरी बोला, ‘‘मेरे तो दो हीरे थे, जो मार्ग में गिर पड़े थे। उनमें से एक तो इसने दे दिया, पर एक नहीं देता है।’’ हाकिम ने समझाया, ‘‘यह ब्राह्मण यदि अपने ईमान का पक्का न होता, तो इतना दीन होते हुए एक भी क्यों देता ?’’ किंतु जौहरी संतुष्ट नहीं हुआ, अतः हाकिम ने यह फैसला किया, ‘यह हीरा ब्राह्मण को दे दिया जाए। यह जौहरी का नहीं, क्यों इसके दो हीरे एक साथ गिरे थे, सो इसके हीरे कहीं और होंगे-’’ अब तो जौहरी घबरा उठा। वह बोला, ‘‘सरकार तो मुझे एक ही हीरा दिला दिया जाए।’’ तब हाकिम ने कहा, ‘‘अब वह तुमको नहीं मिल सकता, क्योंकि मेरा फैसला तो हो चुका।’’

To  English  in Wish4me

ek din braahman ne maarg par chalate hue ek heera mila, jisakee keemat ek laakh rupe thee. vah saadhaaran roop se hee heere ko lie hue ja raha tha. ki aage kee or se ek jauharee jagah-jagah bhoomi ko dekhata hua aa raha tha. vah vyaakul tha. braahman ne use dekhakar poochha, ‘‘jauharee bhaee, tum maarg kyon hai ? dekh, ek heera hamane paaya hai. tera ho to too le le.’’ yah kahakar usane heera jauharee ko de diya. ab jauharee kahane laga, ‘‘mere to do heere the. ek to toone de diya. ab doosara bhee de de, tab main tujhe chhodoonga.’’ donon mein kaaphee der tak kaha sunee huee. aakhir jauharee ne braahman ko pulis ke havaale kar apana mukadama adaalat mein de diya.
vahaan haakim ne us braahman se poochha, ‘‘kaho bhaee, kya maamala hai ?’’ braahman ne kaha, ‘‘main maarg se ja raha tha ki mujhe ek heera pada, mila. tabhee saamane se yah jauharee kuchh dhoondhata hua vyaakul sa chala aa raha tha. mainne isase poochha, kya hai ? tab isane kaha ki mera ek heera kho gaya hai. mainne vah heera ise dekar kaha ki dekho, yah ek heera mainne paaya hai. yadi tumhaara ho to le lo. tab isane heera le liya.
aur ab yah kahata hai ki mere to do heere the.’’ ab haakim ne jauharee se poochha. tab jauharee bola, ‘‘mere to do heere the, jo maarg mein gir pade the. unamen se ek to isane de diya, par ek nahin deta hai.’’ haakim ne samajhaaya, ‘‘yah braahman yadi apane eemaan ka pakka na hota, to itana deen hote hue ek bhee kyon deta ?’’ kintu jauharee santusht nahin hua, atah haakim ne yah phaisala kiya, ‘yah heera braahman ko de diya jae. yah jauharee ka nahin, kyon isake do heere ek saath gire the, so isake heere kaheen aur honge-’’ ab to jauharee ghabara utha. vah bola, ‘‘sarakaar to mujhe ek hee heera dila diya jae.’’ tab haakim ne kaha, ‘‘ab vah tumako nahin mil sakata, kyonki mera phaisala to ho chuka.’’

Comments

comments