Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » ज़िन्दगी चलती जाती है !

ज़िन्दगी चलती जाती है !

jindagi-chalti-jati-hai

jindagi-chalti-jati-hai

Jeendagi chalti jati hai

Jeendagi chalti jati hai

जब जूलियो 10 साल का था तो उसका बस एक ही सपना था , अपने फेवरेट क्लब रियल मेड्रिड की ओर से फुटबाल खेलना ! वह दिन भर खेलता, प्रैक्टिस करता और धीरे-धीरे वह एक बहुत अच्छा गोलकीपर बन गया. 20 का होते-होते उसके बचपन का सपना हकीकत बनने के करीब पहुँच गया; उसे रियल मेड्रिड की तरफ से फुटबाल खेलने के लिए साइन कर लिया गया. खेल के धुरंधर जूलियो से बहुत प्रभावित थे और ये मान कर चल रहे थे कि बहुत जल्द वह स्पेन का नंबर 1 गोलकीपर बन जायेगा.

1963 की एक शाम , जूलियो और उसके दोस्त कार से कहीं घूमने निकले. पर दुर्भाग्यवश उस कार का एक भयानक एक्सीडेंट हो गया , और रियल मेड्रिड और स्पेन का नंबर 1 गोलकीपर बनने वाला जूलियो हॉस्पिटल में पड़ा हुआ था , उसके कमर के नीचे का हिस्सा पैरलाइज हो चुका था. डॉक्टर्स इस बात को लेकर भी आस्वस्थ नहीं थे कि जूलियो फिर कभी चल पायेगा, फ़ुटबाल खेलना तो दूर की बात थी.

वापस ठीक होना बहुत लम्बा और दर्दनाक अनुभव था. जूलियो बिलकुल निराश हो चुका था , वह बार-बार उस घटना को याद करता और क्रोध और मायूसी से भर जाता. अपना दर्द कम करने के लिए वह रात में गाने और कविताएँ लिखने लगा. धीरे-धीरे उसने गिटार पर भी अपना हाथ आजमाना शुरू किया और उसे बजाते हुए अपने लिखे गाने भी गाने लगा.

18 महीने तक बिस्तर पर रहने के बाद , जूलियो अपनी ज़िन्दगी को फिर से सामान्य बनाने लगा. एक्सीडेंट के पांच साल बाद उसने एक सिंगिंग कम्पटीशन में भाग लिया और ” लाइफ गोज ओन द सेम ” गाना गा कर फर्स्ट प्राइज जीता.

वह फिर कभी फ़ुटबाल नहीं खेल पाया पर अपने हाथों में गिटार और होंठों पे गाने लिए जूलियो इग्लेसियस संगीत की दुनिया में Top Ten सिंगर्स में शुमार हुआ ,और अब तक उनके 30 करोड़ से अधिक एल्बम बिक चुके हैं.

Wish4me to English

Jab jooliyo 10 saal kaa thaa to usakaa bas ek hee sapanaa thaa , apane fevareṭ klab riyal meḍariḍa kee or se fuṭabaal khelanaa ! Vah din bhar khelataa, praikṭis karataa aur dheere-dheere vah ek bahut achchhaa golakeepar ban gayaa. 20 kaa hote-hote usake bachapan kaa sapanaa hakeekat banane ke kareeb pahunch gayaa; use riyal meḍariḍa kee taraf se fuṭabaal khelane ke lie saa_in kar liyaa gayaa. Khel ke dhurndhar jooliyo se bahut prabhaavit the aur ye maan kar chal rahe the ki bahut jald vah spen kaa nnbar 1 golakeepar ban jaayegaa. 1963 kee ek shaam , jooliyo aur usake dost kaar se kaheen ghoomane nikale. Par durbhaagyavash us kaar kaa ek bhayaanak ekseeḍaenṭ ho gayaa , aur riyal meḍariḍa aur spen kaa nnbar 1 golakeepar banane vaalaa jooliyo hŏspiṭal men padaa huaa thaa , usake kamar ke neeche kaa hissaa pairalaaij ho chukaa thaa. ḍaŏkṭars is baat ko lekar bhee aasvasth naheen the ki jooliyo fir kabhee chal paayegaa, phauṭabaal khelanaa to door kee baat thee. Vaapas ṭheek honaa bahut lambaa aur dardanaak anubhav thaa. Jooliyo bilakul niraash ho chukaa thaa , vah baar-baar us ghaṭanaa ko yaad karataa aur krodh aur maayoosee se bhar jaataa. Apanaa dard kam karane ke lie vah raat men gaane aur kavitaaen likhane lagaa. Dheere-dheere usane giṭaar par bhee apanaa haath aajamaanaa shuroo kiyaa aur use bajaate hue apane likhe gaane bhee gaane lagaa. 18 maheene tak bistar par rahane ke baad , jooliyo apanee zaindagee ko fir se saamaany banaane lagaa. Ekseeḍaenṭ ke paanch saal baad usane ek singing kampaṭeeshan men bhaag liyaa aur ” laaif goj on d sem ” gaanaa gaa kar farsṭ praa_ij jeetaa. Vah fir kabhee phauṭabaal naheen khel paayaa par apane haathon men giṭaar aur honṭhon pe gaane lie jooliyo iglesiyas sngeet kee duniyaa men top ten singars men shumaar huaa ,aur ab tak unake 30 karod se adhik elbam bik chuke hain.

Comments

comments