Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Story for Children] » जिराफ़

जिराफ़

jiraapha

jiraapha

Jiraapha

Jiraapha

क्लास 6th के बच्चे बड़े उत्साहित थे , इस बार उन्हें पिकनिक पे पास के वाइल्डलाइफ नेशनल पार्क ले जाया जा रहा था . तय दिन सभी बच्चे ढेर सारे खाने -पीने के सामान और खेलने -कूदने की चीजें लेकर तैयार थे . बस सुबह चार बजे निकली और 2-3 घंटों में नेशनल पार्क पहुँच गयी .

वहां उन्हें एक बड़ी सी कैंटर में बैठा दिया गया और एक गाइड उन्हें जंगल के भीतर ले जाने लगा . मास्टर जी भी बच्चों के साथ थे और बीच -बीच में उन्हें जंगल और वन्य – जीवों के बारे में बता रहे थे . बच्चों को बहुत मजा आ रहा था ; वे ढेर सारे हिरनों , बंदरों और जंगली पक्षियों को देखकर रोमांचित हो रहे थे .

वे धीरे-धीरे आगे बढ़ रहे थे कि तभी गाइड ने सभी को शांत होने का इशारा करते हुए कहा , “ शशशश…. आप लोग बिलकुल चुप हो जाइए … और उस तरफ देखिये …. यह एक दुर्लभ दृश्य है , एक मादा जिराफ़ अपने बच्चे को जन्म दे रही है ….”

फिर क्या था ; गाड़ी वहीँ रोक दी गयी , और सभी बड़ी उत्सुकता से वह दृश्य देखने लगे .

मादा जिराफ़ बहुत लम्बी थी और जन्म लेते हुए बच्चा करीब दस फुट की ऊंचाई से जमीन पर गिरा और गिरते ही अपने पाँव अंदर की तरफ मोड़ लिए , मानो वो अभी भी अपनी माँ की कोख में हो …

इसके बाद माँ ने सर झुकाया और बच्चे को देखने लगी . सभी लोग बड़ी उत्सुकता से ये सब होते देख रहे थे की अचानक ही कुछ अप्रत्याशित सा घटा , माँ ने बच्चे को जोर से एक लात मारी , और बचा अपनी जगह से पलट गया .
कैंटर में बैठे बच्चे मास्टर जी से कहने लगे , “ सर, आप उस जिराफ़ को रोकिये नहीं तो वो बच्चे को मार डालेगी ….”

पर मास्टर जी ने उन्हें शांत रहने को कहा और पुनः उस तरफ देखने लगे .

बच्चा अभी भी जमीन पर पड़ा हुआ था कि तभी एक बार फिर माँ ने उसे जोर से लात मारी …. इस बार बच्चा उठ खड़ा हुआ और डगमगा कर चलने लगा…. धीरे -धीरे माँ और बच्चा झाड़ियों में ओझल हो गए .

उनके जाते ही बच्चों ने पुछा , “ सर , वो जिराफ़ अपने ही बच्चे को लात क्यों मार रही थी …अगर बच्चे को कुछ हो जाता तो ?”

मास्टर जी बोले , “ बच्चों , जंगल में शेर -चीतों जैसे बहुत से खूंखार जानवर होते हैं ; यहाँ किसी बच्चे का जीवन इसी बात पर निर्भर करता है की वो कितनी जल्दी अपने पैरों पर चलना सीख लेता है . अगर उसकी माँ उसे इसी तरह पड़े रहने देती और लात नहीं मारती तो शायद वो अभी भी वहीँ पड़ा रहता और कोई जंगली जानवर उसे अपना शिकार बना लेता .

बच्चों , ठीक इसी तरह से आपके माता – पिता भी कई बार आपको डांटते – डपटते हैं , उस वक़्त तो ये सब बहुत बुरा लगता है , पर जब आप बाद में पीछे मुड़कर देखते हैं तो कहीं न कहीं ये एहसास होता है की मम्मी -पापा की डांट की वजह से ही आप लाइफ में कुछ बन पाये हैं . इसलिए कभी भी अपने बड़ों की सख्ती को दिल से ना लें ,बल्कि उसके पीछे जो आपका भला करने की उनकी मंशा है उसके बारे में सोचें .”

wish4me to English

Klaas 6th ke bachche bade utsaahit the , is baar unhen pikanik pe paas ke vaa_ilḍaalaa_if neshanal paark le jaayaa jaa rahaa thaa . Tay din sabhee bachche ḍher saare khaane -peene ke saamaan aur khelane -koodane kee cheejen lekar taiyaar the . Bas subah chaar baje nikalee aur 2-3 ghnṭon men neshanal paark pahunch gayee . Vahaan unhen ek badee see kainṭar men baiṭhaa diyaa gayaa aur ek gaa_iḍa unhen jngal ke bheetar le jaane lagaa . Maasṭar jee bhee bachchon ke saath the aur beech -beech men unhen jngal aur vany – jeevon ke baare men bataa rahe the . Bachchon ko bahut majaa aa rahaa thaa ; ve ḍher saare hiranon , bndaron aur jngalee pakṣiyon ko dekhakar romaanchit ho rahe the . Ve dheere-dheere aage baḍh rahe the ki tabhee gaa_iḍa ne sabhee ko shaant hone kaa ishaaraa karate hue kahaa , “ shashashash…. Aap log bilakul chup ho jaa_ie … aur us taraf dekhiye …. Yah ek durlabh drishy hai , ek maadaa jiraapha apane bachche ko janm de rahee hai ….”

fir kyaa thaa ; gaadee vaheen rok dee gayee , aur sabhee badee utsukataa se vah drishy dekhane lage . Maadaa jiraapha bahut lambee thee aur janm lete hue bachchaa kareeb das fuṭ kee oonchaa_ii se jameen par giraa aur girate hee apane paanv andar kee taraf mod lie , maano vo abhee bhee apanee maan kee kokh men ho …

isake baad maan ne sar jhukaayaa aur bachche ko dekhane lagee . Sabhee log badee utsukataa se ye sab hote dekh rahe the kee achaanak hee kuchh apratyaashit saa ghaṭaa , maan ne bachche ko jor se ek laat maaree , aur bachaa apanee jagah se palaṭ gayaa . Kainṭar men baiṭhe bachche maasṭar jee se kahane lage , “ sar, aap us jiraapha ko rokiye naheen to vo bachche ko maar ḍaalegee ….”

par maasṭar jee ne unhen shaant rahane ko kahaa aur punah us taraf dekhane lage . Bachchaa abhee bhee jameen par padaa huaa thaa ki tabhee ek baar fir maan ne use jor se laat maaree …. Is baar bachchaa uṭh khadaa huaa aur ḍaagamagaa kar chalane lagaa…. Dheere -dheere maan aur bachchaa jhaadiyon men ojhal ho ga_e . Unake jaate hee bachchon ne puchhaa , “ sar , vo jiraapha apane hee bachche ko laat kyon maar rahee thee …agar bachche ko kuchh ho jaataa to ?”

maasṭar jee bole , “ bachchon , jngal men sher -cheeton jaise bahut se khoonkhaar jaanavar hote hain ; yahaan kisee bachche kaa jeevan isee baat par nirbhar karataa hai kee vo kitanee jaldee apane pairon par chalanaa seekh letaa hai . Agar usakee maan use isee tarah pade rahane detee aur laat naheen maaratee to shaayad vo abhee bhee vaheen padaa rahataa aur koii jngalee jaanavar use apanaa shikaar banaa letaa . Bachchon , ṭheek isee tarah se aapake maataa – pitaa bhee ka_ii baar aapako ḍaanṭate – ḍaapaṭate hain , us vaqt to ye sab bahut buraa lagataa hai , par jab aap baad men peechhe mudakar dekhate hain to kaheen n kaheen ye ehasaas hotaa hai kee mammee -paapaa kee ḍaanṭ kee vajah se hee aap laa_if men kuchh ban paaye hain . Isalie kabhee bhee apane badon kee sakhtee ko dil se naa len ,balki usake peechhe jo aapakaa bhalaa karane kee unakee mnshaa hai usake baare men sochen .”

Comments

comments