Monday , 13 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » काबिलियत की पहचान

काबिलियत की पहचान

kaabiliyat-kee-pahachaan

kaabiliyat-kee-pahachaan

kabilyat-ki-pahchan

kabilyat-ki-pahchan

किसी  जंगल  में  एक  बहुत  बड़ा  तालाब  था . तालाब  के   पास  एक बागीचा  था , जिसमे  अनेक  प्रकार  के पेड़  पौधे  लगे थे . दूर- दूर  से  लोग  वहाँ  आते  और बागीचे  की  तारीफ  करते .

गुलाब के पेड़ पे लगा पत्ता हर रोज लोगों को आते-जाते और फूलों की तारीफ करते देखता, उसे लगता की हो सकता है एक दिन कोई  उसकी भी तारीफ करे. पर जब काफी दिन बीत जाने के बाद भी किसी ने उसकी तारीफ नहीं की तो वो काफी हीन महसूस करने लगा . उसके अन्दर तरह-तरह के विचार आने लगे—” सभी लोग गुलाब और अन्य फूलों की तारीफ करते नहीं थकते  पर मुझे कोई देखता तक नहीं , शायद  मेरा जीवन किसी काम का नहीं …कहाँ ये खूबसूरत फूल और कहाँ मैं… ” और ऐसे विचार सोच कर वो पत्ता काफी उदास रहने लगा.

दिन यूँही बीत रहे थे कि एक दिन जंगल में बड़ी जोर-जोर से हवा चलने लगी और देखते-देखते उसने आंधी का रूप ले लिया.  बागीचे के पेड़-पौधे तहस-नहस होने लगे , देखते-देखते सभी फूल ज़मीन पर गिर कर निढाल हो गए , पत्ता भी अपनी शाखा से अलग हो गया और उड़ते-उड़ते तालाब में जा गिरा.

पत्ते ने देखा कि  उससे कुछ ही दूर पर कहीं से एक चींटी हवा के झोंको की वजह से तालाब में आ गिरी थी और अपनी जान बचाने के लिए संघर्ष कर रही थी.

चींटी  प्रयास करते-करते  काफी  थक  चुकी  थी और  उसे अपनी मृत्यु तय लग रही थी कि  तभी पत्ते ने उसे आवाज़ दी, ” घबराओ नहीं,  आओ , मैं  तुम्हारी  मदद  कर  देता  हूँ .”, और ऐसा कहते हुए अपनी उपर बैठा लिया. आंधी रुकते-रुकते पत्ता तालाब के एक छोर पर पहुँच गया; चींटी किनारे पर पहुँच कर बहुत खुश हो गयी और  बोली, ”  आपने आज मेरी जान बचा कर बहुत बड़ा उपकार किया है , सचमुच आप महान हैं, आपका बहुत-बहुत धन्यवाद ! “

यह सुनकर पत्ता भावुक हो गया और बोला,” धन्यवाद तो मुझे  करना चाहिए, क्योंकि तुम्हारी वजह से आज पहली बार मेरा सामना मेरी काबिलियत से हुआ , जिससे मैं आज तक अनजान था.  आज पहली बार मैंने अपने  जीवन  के  मकसद और  अपनी  ताकत  को पहचान  पाया हूँ … .’

मित्रों , ईश्वर  ने हम सभी को अनोखी शक्तियां दी हैं ; कई बार हम खुद अपनी काबिलियत से अनजान होते हैं और समय आने पर हमें इसका पता चलता है, हमें इस बात को समझना चाहिए कि   किसी  एक  काम  में  असफल  होने  का  मतलब  हमेशा   के  लिए  अयोग्य  होना  नही  है . खुद  की  काबिलियत  को  पहचान कर  आप  वह  काम   कर  सकते  हैं , जो  आज  तक  किसी  ने  नही  किया  है !

Wish4me to English

Kisee jngal men ek bahut badaa taalaab thaa . Taalaab ke paas ek baageechaa thaa , jisame anek prakaar ke ped paudhe lage the . Door- door se log vahaan aate aur baageeche kee taareef karate . Gulaab ke ped pe lagaa pattaa har roj logon ko aate-jaate aur foolon kee taareef karate dekhataa, use lagataa kee ho sakataa hai ek din koii usakee bhee taareef kare. Par jab kaafee din beet jaane ke baad bhee kisee ne usakee taareef naheen kee to vo kaafee heen mahasoos karane lagaa . Usake andar tarah-tarah ke vichaar aane lage—” sabhee log gulaab aur any foolon kee taareef karate naheen thakate par mujhe koii dekhataa tak naheen , shaayad meraa jeevan kisee kaam kaa naheen …kahaan ye khoobasoorat fool aur kahaan main… ” aur aise vichaar soch kar vo pattaa kaafee udaas rahane lagaa. Din yoonhee beet rahe the ki ek din jngal men badee jor-jor se havaa chalane lagee aur dekhate-dekhate usane aandhee kaa roop le liyaa. Baageeche ke ped-paudhe tahas-nahas hone lage , dekhate-dekhate sabhee fool zameen par gir kar niḍhaal ho gae , pattaa bhee apanee shaakhaa se alag ho gayaa aur udate-udate taalaab men jaa giraa. Patte ne dekhaa ki usase kuchh hee door par kaheen se ek cheenṭee havaa ke jhonko kee vajah se taalaab men aa giree thee aur apanee jaan bachaane ke lie sngharṣ kar rahee thee. Cheenṭee prayaas karate-karate kaafee thak chukee thee aur use apanee mrityu tay lag rahee thee ki tabhee patte ne use aavaaz dee, ” ghabaraa_o naheen, aao , main tumhaaree madad kar detaa hoon .”, aur aisaa kahate hue apanee upar baiṭhaa liyaa. Aandhee rukate-rukate pattaa taalaab ke ek chhor par pahunch gayaa; cheenṭee kinaare par pahunch kar bahut khush ho gayee aur bolee, ” aapane aaj meree jaan bachaa kar bahut badaa upakaar kiyaa hai , sachamuch aap mahaan hain, aapakaa bahut-bahut dhanyavaad ! “

yah sunakar pattaa bhaavuk ho gayaa aur bolaa,” dhanyavaad to mujhe karanaa chaahie, kyonki tumhaaree vajah se aaj pahalee baar meraa saamanaa meree kaabiliyat se huaa , jisase main aaj tak anajaan thaa. Aaj pahalee baar mainne apane jeevan ke makasad aur apanee taakat ko pahachaan paayaa hoon … .’

mitron , iishvar ne ham sabhee ko anokhee shaktiyaan dee hain ; ka_ii baar ham khud apanee kaabiliyat se anajaan hote hain aur samay aane par hamen isakaa pataa chalataa hai, hamen is baat ko samajhanaa chaahie ki kisee ek kaam men asafal hone kaa matalab hameshaa ke lie ayogy honaa nahee hai . Khud kee kaabiliyat ko pahachaan kar aap vah kaam kar sakate hain , jo aaj tak kisee ne nahee kiyaa hai !

Comments

comments