Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Uncategorized » kabirlife

kabirlife

kabirlife

kabirlife

kabirlargimage1

Life        Work     Achivements      Media             Publication    

Life of Kabirdash 

कबीर पन्थियों की मान्यता है कि कबीर की उत्पत्ति काशी में लहरतारा तालाब में उत्पन्न कमल के मनोहर पुष्प के ऊपर बालक के रूप में हुई। ऐसा भी कहा जाता है कि कबीर जन्म से मुसलमान थे और युवावस्था में स्वामी रामानन्द के प्रभाव से उन्हें हिंदू धर्म का ज्ञान हुआ। एक दिन कबीर पञ्चगंगा घाट की सीढ़ियों पर गिर पड़े थे, रामानन्द ज उसी समय गंगास्नान करने के लिये सीढ़ियाँ उतर रहे थे कि उनका पैर कबीर के शरीर पर पड़ गया। उनके मुख से तत्काल `राम-राम’ शब्द निकल पड़ा। उसी राम को कबीर ने दीक्षा-मन्त्र मान लिया और रामानन्द जी को अपना गुरु स्वीकार कर लिया। कबीर के ही शब्दों में- `हम कासी में प्रकट भये हैं, रामानन्द चेताये’। अन्य जनश्रुतियों से ज्ञात होता है कि कबीर ने हिंदु-मुसलमान का भेद मिटा कर हिंदू-भक्तों तथा मुसलमान फक़ीरों का सत्संग किया और दोनों की अच्छी बातों को आत्मसात कर लिया।

जनश्रुति के अनुसार कबीर के एक पुत्र कमल तथा पुत्री कमाली थी। इतने लोगों की परवरिश करने के लिये उन्हें अपने करघे पर काफी काम करना पड़ता था। साधु संतों का तो घर में जमावड़ा रहता ही था।

कबीर को कबीर पंथ में, बाल- ब्रह्मचारी और विराणी माना जाता है। इस पंथ के अनुसार कामात्य उसका शिष्य था और कमाली तथा लोई उनकी शिष्या। लोई शब्द का प्रयोग कबीर ने एक जगह कंबल के रुप में भी किया है। वस्तुतः कबीर की पत्नी और संतान दोनों थे। एक जगह लोई को पुकार कर कबीर कहते हैं :-

“कहत कबीर सुनहु रे लोई।
हरि बिन राखन हार न कोई।।’

कबीर पढ़े-लिखे नहीं थे-

`मसि कागद छूवो नहीं, कलम गही नहिं हाथ।’

उन्होंने स्वयं ग्रंथ नहीं लिखे, मुँह से भाखे और उनके शिष्यों ने उसे लिख लिया। आप के समस्त विचारों में रामनाम की महिमा प्रतिध्वनित होती है। वे एक ही ईश्वर को मानते थे और कर्मकाण्ड के घोर विरोधी थे। अवतार, मूर्त्ति, रोज़ा, ईद, मसजिद, मंदिर आदि को वे नहीं मानते थे।
कबीर के नाम से मिले ग्रंथों की संख्या भिन्न-भिन्न लेखों के अनुसार भिन्न-भिन्न है। एच.एच. विल्सन के अनुसार कबीर के नाम पर आठ ग्रंथ हैं। विशप जी.एच. वेस्टकॉट ने कबीर के ८४ ग्रंथों की सूची प्रस्तुत की तो रामदास गौड ने `हिंदुत्व’ में ७१ पुस्तकें गिनायी हैं।

कबीर की वाणी का संग्रह `बीजक’ के नाम से प्रसिद्ध है। इसके तीन भाग हैं- रमैनी, सबद और सारवी यह पंजाबी, राजस्थानी, खड़ी बोली, अवधी, पूरबी, व्रजभाषा आदि कई भाषाओं की खिचड़ी है।

कबीर परमात्मा को मित्र, माता, पिता और पति के रूप में देखते हैं। यही तो मनुष्य के सर्वाधिक निकट रहते हैं। वे कभी कहते हैं-

`हरिमोर पिउ, मैं राम की बहुरिया’ तो कभी कहते हैं, `हरि जननी मैं बालक तोरा’

उस समय हिंदु जनता पर मुस्लिम आतंक का कहर छाया हुआ था। कबीर ने अपने पंथ को इस ढंग से सुनियोजित किया जिससे मुस्लिम मत की ओर झुकी हुई जनता सहज ही इनकी अनुयायी हो गयी। उन्होंने अपनी भाषा सरल और सुबोध रखी ताकि वह आम आदमी तक पहुँच सके। इससे दोनों सम्प्रदायों के परस्पर मिलन में सुविधा हुई। इनके पंथ मुसलमान-संस्कृति और गोभक्षण के विरोधी थे।

कबीर को शांतिमय जीवन प्रिय था और वे अहिंसा, सत्य, सदाचार आदि गुणों के प्रशंसक थे। अपनी सरलता, साधु स्वभाव तथा संत प्रवृत्ति के कारण आज विदेशों में भी उनका समादर हो रहा है।

कबीर का पूरा जीवन काशी में ही गुजरा, लेकिन वह मरने के समय मगहर चले गए थे। वह न चाहकर भी, मगहर गए थे। वृद्धावस्था में यश और कीर्त्ति की मार ने उन्हें बहुत कष्ट दिया। उसी हालत में उन्होंने बनारस छोड़ा और आत्मनिरीक्षण तथा आत्मपरीक्षण करने के लिये देश के विभिन्न भागों की यात्राएँ कीं। कबीर मगहर जाकर दु:खी थे:

“अबकहु राम कवन गति मोरी।
तजीले बनारस मति भई मोरी।।”

कहा जाता है कि कबीर के शत्रुओं ने उनको मगहर जाने के लिए मजबूर किया था। वे चाहते थे कि कबीर की मुक्ति न हो पाए, परंतु कबीर तो काशी मरन से नहीं, राम की भक्ति से मुक्ति पाना चाहते थे:

“जौ काशी तन तजै कबीरा
तो रामै कौन निहोटा।”

अपने यात्रा क्रम में ही वे कालिंजर जिले के पिथौराबाद शहर में पहुँचे। वहाँ रामकृष्ण का छोटा सा मन्दिर था। वहाँ के संत भगवान गोस्वामी जिज्ञासु साधक थे किंतु उनके तर्कों का अभी तक पूरी तरह समाधान नहीं हुआ था। संत कबीर से उनका विचार-विनिमय हुआ। कबीर की एक साखी ने उन के मन पर गहरा असर किया-

`बन ते भागा बिहरे पड़ा, करहा अपनी बान।
करहा बेदन कासों कहे, को करहा को जान।।’

वन से भाग कर बहेलिये के द्वारा खोये हुए गड्ढे में गिरा हुआ हाथी अपनी व्यथा किस से कहे ?

सारांश यह कि धर्म की जिज्ञासा सें प्रेरित हो कर भगवान गोसाई अपना घर छोड़ कर बाहर तो निकल आये और हरिव्यासी सम्प्रदाय के गड्ढे में गिर कर अकेले निर्वासित हो कर ऐसी स्थिति में पड़ चुके हैं।

कबीर आडम्बरों के विरोधी थे। मूर्त्ति पूजा को लक्ष्य करती उनकी एक साखी है –
पाहन पूजे हरि मिलैं, तो मैं पूजौंपहार।
था ते तो चाकी भली, जासे पीसी खाय संसार।।

119 वर्ष की अवस्था में मगहर में कबीर का देहांत हो गया। कबीरदास जी का व्यक्तित्व संत कवियों में अद्वितीय है। हिन्दी साहित्य के १२०० वर्षों के इतिहास में गोस्वामी तुलसीदास जी के अतिरिक्त इतना प्रतिभाशाली व्यक्तित्व किसी कवि का नहीं है।

 

 

 

Wish4me English

Kabir panthiyon kee maanyata hai ki kabeer kee utpatti kaashee mein laharataara taalaab mein utpann kamal ke manohar pushp ke oopar baalak ke roop mein huee. aisa bhee kaha jaata hai ki kabeer janm se musalamaan the aur yuvaavastha mein svaamee raamaanand ke prabhaav se unhen hindoo dharm ka gyaan hua. ek din kabeer panchaganga ghaat kee seedhiyon par gir pade the, raamaanand ja usee samay gangaasnaan karane ke liye seedhiyaan utar rahe the ki unaka pair kabeer ke shareer par pad gaya. unake mukh se tatkaal `raam-raam shabd nikal pada. usee raam ko kabeer ne deeksha-mantr maan liya aur raamaanand jee ko apana guru sveekaar kar liya. kabeer ke hee shabdon mein- `ham kaasee mein prakat bhaye hain, raamaanand chetaaye. any janashrutiyon se gyaat hota hai ki kabeer ne hindu-musalamaan ka bhed mita kar hindoo-bhakton tatha musalamaan phaqeeron ka satsang kiya aur donon kee achchhee baaton ko aatmasaat kar liya.

janashruti ke anusaar kabeer ke ek putr kamal tatha putree kamaalee thee. itane logon kee paravarish karane ke liye unhen apane karaghe par kaaphee kaam karana padata tha. saadhu santon ka to ghar mein jamaavada rahata hee tha.

kabeer ko kabeer panth mein, baal- brahmachaaree aur viraanee maana jaata hai. is panth ke anusaar kaamaaty usaka shishy tha aur kamaalee tatha loee unakee shishya. loee shabd ka prayog kabeer ne ek jagah kambal ke rup mein bhee kiya hai. vastutah kabeer kee patnee aur santaan donon the. ek jagah loee ko pukaar kar kabeer kahate hain :-

“kahat kabeer sunahu re loee.
hari bin raakhan haar na koee..

kabeer padhe-likhe nahin the-

`masi kaagad chhoovo nahin, kalam gahee nahin haath.

unhonne svayan granth nahin likhe, munh se bhaakhe aur unake shishyon ne use likh liya. aap ke samast vichaaron mein raamanaam kee mahima pratidhvanit hotee hai. ve ek hee eeshvar ko maanate the aur karmakaand ke ghor virodhee the. avataar, moortti, roza, eed, masajid, mandir aadi ko ve nahin maanate the.

kabeer ke naam se mile granthon kee sankhya bhinn-bhinn lekhon ke anusaar bhinn-bhinn hai. ech.ech. vilsan ke anusaar kabeer ke naam par aath granth hain. vishap jee.ech. vestakot ne kabeer ke 84 granthon kee soochee prastut kee to raamadaas gaud ne `hindutv mein 71 pustaken ginaayee hain.

kabeer kee vaanee ka sangrah `beejak ke naam se prasiddh hai. isake teen bhaag hain- ramainee, sabad aur saaravee yah panjaabee, raajasthaanee, khadee bolee, avadhee, poorabee, vrajabhaasha aadi kaee bhaashaon kee khichadee hai.

kabeer paramaatma ko mitr, maata, pita aur pati ke roop mein dekhate hain. yahee to manushy ke sarvaadhik nikat rahate hain. ve kabhee kahate hain-

`harimor piu, main raam kee bahuriya to kabhee kahate hain, `hari jananee main baalak tora

us samay hindu janata par muslim aatank ka kahar chhaaya hua tha. kabeer ne apane panth ko is dhang se suniyojit kiya jisase muslim mat kee or jhukee huee janata sahaj hee inakee anuyaayee ho gayee. unhonne apanee bhaasha saral aur subodh rakhee taaki vah aam aadamee tak pahunch sake. isase donon sampradaayon ke paraspar milan mein suvidha huee. inake panth musalamaan-sanskrti aur gobhakshan ke virodhee the.

kabeer ko shaantimay jeevan priy tha aur ve ahinsa, saty, sadaachaar aadi gunon ke prashansak the. apanee saralata, saadhu svabhaav tatha sant pravrtti ke kaaran aaj videshon mein bhee unaka samaadar ho raha hai.

kabeer ka poora jeevan kaashee mein hee gujara, lekin vah marane ke samay magahar chale gae the. vah na chaahakar bhee, magahar gae the. vrddhaavastha mein yash aur keertti kee maar ne unhen bahut kasht diya. usee haalat mein unhonne banaaras chhoda aur aatmanireekshan tatha aatmapareekshan karane ke liye desh ke vibhinn bhaagon kee yaatraen keen. kabeer magahar jaakar du:khee the:

“abakahu raam kavan gati moree.
tajeele banaaras mati bhee moree..

kaha jaata hai ki kabeer ke shatruon ne unako magahar jaane ke lie majaboor kiya tha. ve chaahate the ki kabeer kee mukti na ho pae, parantu kabeer to kaashee maran se nahin, raam kee bhakti se mukti paana chaahate the:

“jau kaashee tan tajai kabeera
to raamai kaun nihota.

apane yaatra kram mein hee ve kaalinjar jile ke pithauraabaad shahar mein pahunche. vahaan raamakrshn ka chhota sa mandir tha. vahaan ke sant bhagavaan gosvaamee jigyaasu saadhak the kintu unake tarkon ka abhee tak pooree tarah samaadhaan nahin hua tha. sant kabeer se unaka vichaar-vinimay hua. kabeer kee ek saakhee ne un ke man par gahara asar kiya-

`ban te bhaaga bihare pada, karaha apanee baan.
karaha bedan kaason kahe, ko karaha ko jaan..

van se bhaag kar baheliye ke dvaara khoye hue gaddhe mein gira hua haathee apanee vyatha kis se kahe ?

saaraansh yah ki dharm kee jigyaasa sen prerit ho kar bhagavaan gosaee apana ghar chhod kar baahar to nikal aaye aur harivyaasee sampradaay ke gaddhe mein gir kar akele nirvaasit ho kar aisee sthiti mein pad chuke hain.

kabeer aadambaron ke virodhee the. moortti pooja ko lakshy karatee unakee ek saakhee hai –

paahan pooje hari milain, to main poojaumpahaar.
tha te to chaakee bhalee, jaase peesee khaay sansaar..

119 varsh kee avastha mein magahar mein kabeer ka dehaant ho gaya. kabeeradaas jee ka vyaktitv sant kaviyon mein adviteey hai. hindee saahity ke 1200 varshon ke itihaas mein gosvaamee tulaseedaas jee ke atirikt itana pratibhaashaalee vyaktitv kisee kavi ka nahin hai.

For more details about Kabir dash visit the more links….

1 2 3 4 5 6

 

Comments

comments