Friday , 10 February 2017
Latest Happenings
Home » Uncategorized » Kabir Work

Kabir Work

kabirwork

kabirwork

     kabirworkbig

Work     Achivements      Media             Publication    

Work of Kabir Dash

कबीर के दोहे सर्वाधिक प्रसिद्ध व लोकप्रिय हैं। हम कबीर के अधिक से अधिक दोहों को संकलित करने हेतु प्रयासरत हैं।

(1)
चाह मिटी, चिंता मिटी मनवा बेपरवाह।
जिसको कुछ नहीं चाहिए वह शहनशाह॥

 कबीर वाणी

माला फेरत जुग गया फिरा ना मन का फेर
कर का मनका छोड़ दे मन का मन का फेर
मन का मनका फेर ध्रुव ने फेरी माला
धरे चतुरभुज रूप मिला हरि मुरली वाला
कहते दास कबीर माला प्रलाद ने फेरी
धर नरसिंह का रूप बचाया अपना चेरो

 

आया है किस काम को किया कौन सा काम

कबीर की हिंदी ग़ज़ल

क्या कबीर हिंदी के पहले ग़ज़लकार थे? यदि कबीर की निम्न रचना को देखें तो कबीर ने निसंदेह ग़ज़ल कहीं है:

हमन है इश्क मस्ताना, हमन को होशियारी क्या ?
रहें आजाद या जग से, हमन दुनिया से यारी क्या ?

Wish4me In English

Kabeer ke dohe sarvaadhik prasiddh va lokapriy hain. ham kabeer ke adhik se adhik dohon ko sankalit karane hetu prayaasarat hain.

(1)
chaah mitee, chinta mitee manava beparavaah.
jisako kuchh nahin chaahie vah shahanashaah.

kabeer vaanee
maala pherat jug gaya phira na man ka pher
kar ka manaka chhod de man ka man ka pher
man ka manaka pher dhruv ne pheree maala
dhare chaturabhuj roop mila hari muralee vaala
kahate daas kabeer maala pralaad ne pheree
dhar narasinh ka roop bachaaya apana chero

aaya hai kis kaam ko kiya kaun sa kaam

kabeer kee hindee gazal
kya kabeer hindee ke pahale gazalakaar the? yadi kabeer kee nimn rachana ko dekhen to kabeer ne nisandeh gazal kaheen hai:

haman hai ishk mastaana, haman ko hoshiyaaree kya ?
rahen aajaad ya jag se, haman duniya se yaaree kya ?

For more details about Kabir Dash visit the more links….

1 2 3 4 5 6

 

Comments

comments