Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Leela » कच्छपावतार

कच्छपावतार

kachpatvar

kachpatvar

Kachpatvar

पुराने समय की बात है। देवताओं और राक्षसों में आपसी मतभेद के कारण शत्रुता बढ़ गयी। आये दिन दोनों पक्षों में युद्ध होता रहता था । एक दिन राक्षसो के आक्रमण से सभी देवता भयभीत हो गए और ब्रह्मा जी के पास गए। ब्रह्मा जी के परामर्श के बाद वे जगद्गुरु की शरण में जाकर प्रार्थना करने लगे। देवताओं की प्रार्थना से प्रसन्न होकर भगवान ने कहा- देवताओं आप सभी दानवराज बलि से प्रेमपूर्वक मिलों और समुद्र मंथन की तैयारी आरंभ कर दो। समुद्र मंथन के अंत में अमृत निकलेगा जिसे पीकर आप लोग अमर हो जाओगे। यह कहकर भगवान अन्तर्धान हो गए।
इसके बाद देवताओं ने बलि की सहमति से वासुकी नाग को रस्सी और मन्दराचल को मथानी बनाकर समुद्र मंथन शुरु किया। परंतु जैसे ही समुद्र मंथन शुरु हुआ कि मन्दराचल ही समुद्र में डूबने लगा। सभी लोग परेशान हो गए। अंत में निराश होकर सभी ने भगवान का सहारा लिया। भगवान तो सब जानते ही थे। उन्होंने हंसकर कहा- सब कार्यों के प्रारम्भ में गणेश जी की पूजा करनी चाहिए। बिना उनकी पूजा के कार्य सिद्ध नहीं होता। यह सुनकर सभी लोग गणेश जी की पूजा करने लगे। उधर गणेश जी की पूजा हो रही थी, इधर लीलाधारी भगवान ने कच्छप रूप धारण कर मन्दराचल को अपनी पीठ पर उठा लिया। तत्पश्चात समुद्र मंथन आरंभ हुआ।
भक्तों के परम हितैषी कच्छप भगवान को हम नमस्कार करते है।


 

puraane samay kee baat hai. devataon aur raakshason mein aapasee matabhed ke kaaran shatruta badh gayee. aaye din donon pakshon mein yuddh hota rahata tha. ek din raakshaso ke aakraman se sabhee devata bhayabheet ho gae aur brahma jee ke paas gae. brahma jee ke paraamarsh ke baad ve jagadguru kee sharan mein jaakar praarthana karane lage. devataon kee praarthana se prasann hokar bhagavaan ne kaha- devataon aap sabhee daanavaraaj bali se premapoorvak milon aur samudr manthan kee taiyaaree aarambh kar do. samudr manthan ke ant mein amrt nikalega jise peekar aap log amar ho jaoge. yah kahakar bhagavaan antardhaan ho gae.
isake baad devataon ne bali kee sahamati se vaasukee naag ko rassee aur mandaraachal ko mathaanee banaakar samudr manthan shuru kiya. parantu jaise hee samudr manthan shuru hua ki mandaraachal hee samudr mein doobane laga. sabhee log pareshaan ho gae. ant mein niraash hokar sabhee ne bhagavaan ka sahaara liya. bhagavaan to sab jaanate hee the. unhonne hansakar kaha- sab kaaryon ke praarambh mein ganesh jee kee pooja karanee chaahie. bina unakee pooja ke kaary siddh nahin hota. yah sunakar sabhee log ganesh jee kee pooja karane lage. udhar ganesh jee kee pooja ho rahee thee, idhar leelaadhaaree bhagavaan ne kachchhap roop dhaaran kar mandaraachal ko apanee peeth par utha liya. tatpashchaat samudr manthan aarambh hua.

Comments

comments