Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » कैलाश मानसरोवर

कैलाश मानसरोवर

kailash-mansarover

kailash-mansarover

kailash-mansarover

kailash-mansarover

कैलाश मानसरोवर को शिव-पार्वती का घर माना जाता है। सदियों से देवता, दानव, योगी, मुनि और सिद्ध महात्मा यहां तपस्या करते आए हैं। प्राचीन ग्रंथों के अनुसार हिमालय जैसा कोई दूसरा पर्वत नहीं है क्योंकि यहां भगवान शिव का निवास है और मानसरोवर भी यहीं स्थित है। हर वर्ष मई-जून महीने में भारत सरकार के सौजन्य से सैकड़ों तीर्थयात्री कैलाश मानसरोवर की यात्रा करते हैं।

क़ैलाश मानसरोवर की यात्रा (Kailash Mansarovar Yatra Route Details in Hindi)

क़ैलाश मानसरोवर की यात्रा के लिए तीर्थयात्रियों को भारत की सीमा लांघकर चीन में प्रवेश करना पड़ता है क्योंकि यात्रा का यह भाग चीन में है। कैलाश पर्वत की ऊंचाई समुद्र तल से लगभग 20 हजार फीट है। यह यात्रा अत्यंत कठिन मानी जाती है। कहते हैं जिसको भोले बाबा का बुलावा होता है वही इस यात्रा को कर सकता है। सामान्य तौर पर यह यात्रा 28 दिन में पूरी होती है। कैलाश पर्वत कुल 48 किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है। कैलाश पर्वत की परिक्रमा वहां की सबसे निचली चोटी दारचेन से शुरू होकर सबसे ऊंची चोटी डेशफू गोम्पा पर पूरी होती है। यहां से कैलाश पर्वत को देखने पर ऐसा लगता है, मानों भगवान शिव स्वयं बर्फ से बने शिवलिंग के रूप में विराजमान हैं। इस चोटी को हिमरत्न भी कहा जाता है।

कैलाश मानसरोवर (Kailash Mansarovar)
कैलाश पर्वत पर एक गौरीकुंड है। यह कुंड हमेशा बर्फ से ढका रहता है, मगर तीर्थयात्री बर्फ हटाकर इस कुंड के पवित्र जल में स्नान करते हैं। यह पवित्र झील समुद्र तल से लगभग 4 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित है और लगभग 320 वर्ग किलोमीटर में फैली हुई है। यहीं से एशिया की चार प्रमुख नदियां- ब्रह्मपुत्र, करनाली, सिंधु और सतलज निकलती हैं।

कैलाश मानसरोवर का महत्व (Importance of Kailash Mansarovar)

मान्यता के अनुसार, जो व्यक्ति मानसरोवर (झील) की धरती को छू लेता है, वह ब्रह्मा के बनाये स्वर्ग में पहुंच जाता है और जो व्यक्ति झील का पानी पी लेता है, उसे भगवान शिव के बनाये स्वर्ग में जाने का अधिकार मिल जाता है। जनश्रुति यह भी है कि ब्रह्मा ने अपने मन-मस्तिष्क से मानसरोवर बनाया है। दरअसल, मानसरोवर संस्कृत के मानस (मस्तिष्क) और सरोवर (झील) शब्द से बना है। मान्यता है कि ब्रह्ममुहुर्त (प्रात:काल 3-5 बजे) में देवता गण यहां स्नान करते हैं। ग्रंथों के अनुसार, सती का हाथ इसी स्थान पर गिरा था, जिससे यह झील तैयार हुई। इसलिए इसे 51 शक्तिपीठों में से भी एक माना गया है। गर्मी के दिनों में जब मानसरोवर की बर्फ पिघलती है, तो एक प्रकार की आवाज भी सुनाई देती है। श्रद्धालु मानते हैं कि यह मृदंग की आवाज है। एक किंवदंती यह भी है कि नीलकमल केवल मानसरोवर में ही खिलता और दिखता है।

wish4me to English

kailaash maanasarovar ko shiv-paarvatee ka ghar maana jaata hai. sadiyon se devata, daanav, yogee, muni aur siddh mahaatma yahaan tapasya karate aae hain. praacheen granthon ke anusaar himaalay jaisa koee doosara parvat nahin hai kyonki yahaan bhagavaan shiv ka nivaas hai aur maanasarovar bhee yaheen sthit hai. har varsh maee-joon maheene mein bhaarat sarakaar ke saujany se saikadon teerthayaatree kailaash maanasarovar kee yaatra karate hain.

qailaash maanasarovar kee yaatra (kailash mansarovar yatr routai daitails in hindi)

qailaash maanasarovar kee yaatra ke lie teerthayaatriyon ko bhaarat kee seema laanghakar cheen mein pravesh karana padata hai kyonki yaatra ka yah bhaag cheen mein hai. kailaash parvat kee oonchaee samudr tal se lagabhag 20 hajaar pheet hai. yah yaatra atyant kathin maanee jaatee hai. kahate hain jisako bhole baaba ka bulaava hota hai vahee is yaatra ko kar sakata hai. saamaany taur par yah yaatra 28 din mein pooree hotee hai. kailaash parvat kul 48 kilomeetar kshetr mein phaila hua hai. kailaash parvat kee parikrama vahaan kee sabase nichalee chotee daarachen se shuroo hokar sabase oonchee chotee deshaphoo gompa par pooree hotee hai. yahaan se kailaash parvat ko dekhane par aisa lagata hai, maanon bhagavaan shiv svayan barph se bane shivaling ke roop mein viraajamaan hain. is chotee ko himaratn bhee kaha jaata hai.

kailaash maanasarovar (kailash mansarovar)
kailaash parvat par ek gaureekund hai. yah kund hamesha barph se dhaka rahata hai, magar teerthayaatree barph hataakar is kund ke pavitr jal mein snaan karate hain. yah pavitr jheel samudr tal se lagabhag 4 hajaar pheet kee oonchaee par sthit hai aur lagabhag 320 varg kilomeetar mein phailee huee hai. yaheen se eshiya kee chaar pramukh nadiyaan- brahmaputr, karanaalee, sindhu aur satalaj nikalatee hain.

kailaash maanasarovar ka mahatv (importanchai of kailash mansarovar)

maanyata ke anusaar, jo vyakti maanasarovar (jheel) kee dharatee ko chhoo leta hai, vah brahma ke banaaye svarg mein pahunch jaata hai aur jo vyakti jheel ka paanee pee leta hai, use bhagavaan shiv ke banaaye svarg mein jaane ka adhikaar mil jaata hai. janashruti yah bhee hai ki brahma ne apane man-mastishk se maanasarovar banaaya hai. darasal, maanasarovar sanskrt ke maanas (mastishk) aur sarovar (jheel) shabd se bana hai. maanyata hai ki brahmamuhurt (praat:kaal 3-5 baje) mein devata gan yahaan snaan karate hain. granthon ke anusaar, satee ka haath isee sthaan par gira tha, jisase yah jheel taiyaar huee. isalie ise 51 shaktipeethon mein se bhee ek maana gaya hai. garmee ke dinon mein jab maanasarovar kee barph pighalatee hai, to ek prakaar kee aavaaj bhee sunaee detee hai. shraddhaalu maanate hain ki yah mrdang kee aavaaj hai. ek kinvadantee yah bhee hai ki neelakamal keval maanasarovar mein hee khilata aur dikhata hai.

Comments

comments