Sunday , 12 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Story Katha » कैसे करें अक्षय तृतीया पर पूजा ताकि मिले पूरा फल

कैसे करें अक्षय तृतीया पर पूजा ताकि मिले पूरा फल

kaise-karen-akshay-trteeya-par-pooja-taaki-mile-poora-phal

kaise-karen-akshay-trteeya-par-pooja-taaki-mile-poora-phal

71

अक्षय तृतीया को आखातीज के नाम से भी जाना जाता है। आखातीज का व्रत वैशाख माह में सुदी तीज को किया जाता है।

इस दिन श्री लक्ष्मी जी सहित भगवान नारायण की पूजा की जाती है। पहले भगवान नारायण और लक्ष्मी जी की प्रतिमा को गंगाजल से स्नान कराना चाहिए। उन्हें पुष्प और पुष्प-माल्यार्पण करना चाहिए। भगवान की धूप, दीप से आरती उतारकर चंदन लगाना चाहिए। मिश्री और भीगे हुए चनों का भोग लगाना चाहिए। भगवान को तुलसी-दल और नैवेद्य अर्पित कर ब्राह्मणों को भोजन कराकर श्रद्धानुसार दक्षिणा देकर विदा करना चाहिए। इस दिन सभी को भगवत्-भजन करते हुए सद्चिंतन करना चाहिए। अक्षय तृतीया के दिन किया गया कोई भी कार्य बेकार नहीं जाता इसलिए इसे अक्षय तृतीया कहा जाता है। अक्षय तृतीया का व्रत भगवान लक्ष्मीनारायण को प्रसन्नता प्रदान करता है। वृंदावन में केवल आज ही के दिन बिहारी जी के पांव के दर्शन होते हैं। किसी भी शुभ कार्य को करने के लिए यह दिन बहुत ही शुभ माना जाता है। इस दिन प्रात: काल में मूंग और चावल की खिचड़ी बिना नमक डाले बनाए जाने को बड़ा ही शुभ माना जाता है। इस दिन पापड़ नहीं सेंका जाता और न ही पक्की रसोई बनाई जाती है। इस दिन नया घड़ा, पंखा, चावल, चीनी, घी, नमक, दाल, इमली, रुपया इत्यादि ब्राह्मण को श्रद्धापूर्वक दान दिया जाता है।

अक्षय तृतीया या आखातीज व्रत की कथा

अत्यंत प्राचीन काल की बात है। महोदय नामक एक वैश्य कुशावती नगरी में निवास करता था। सौभाग्यवश महोदय वैश्य को एक पंडित द्वाता अक्षय तृतीया के व्रत का विवरण प्राप्त हुआ। उसने भक्ति-भाव से विधि व नियमपूर्वक व्रत रखा। व्रत के प्रभाव से वह वैश्य कुशावती नगरी का महाप्रतापी और शक्तिशाली राजा बन गया। उसका कोष हमेशा स्वर्ण-मुदाओं, हीरे-जवाहरातों से भरा रहता था। राजा स्वभाव से दानी भी था। वह उदार मन होकर बिना सोचे समझे दोनों हाथों से दान देता था। एक बार राजा के वैभव और सुख-शांतिपूर्ण जीवन से आकर्षित होकर कुछ जिज्ञासु लोगों ने राजा से उसकी समृद्धि और प्रसिद्धि का कारण पूछा। राजा ने स्पष्ट रूप से अपने अक्षय तृतीया व्रत की कथा को सुनाया और इस व्रत की कृपा के बारे में भी बताया। राजा से यह सुनकर उन जिज्ञासु पुरुषों और राजा की प्रजा ने नियम और विधान सहित अक्षय तृतीया व्रत रखना प्रारंभ कर दिया। अक्षय तृतीया व्रत के पुण्य प्रताप से सभी नगर-निवासी धन-धान्य से पूर्ण होकर वैभवशालौ और सुखी हो गए। हे अक्षय तीज माता! जैसे आपने उस वैश्य को वैभव-सुख और राज्य प्रसान किया वैसे ही अपने सब भक्तों एवं श्रद्धालुओं को धन-धान्य और सुख देना। सब पर अपनी कृपादृष्टि बनाए रखना। हमारी आप से यही विनती है।

wish4me in English

akshay trteeya ko aakhaateej ke naam se bhee jaana jaata hai. aakhaateej ka vrat vaishaakh maah mein sudee teej ko kiya jaata hai.

is din shree lakshmee jee sahit bhagavaan naaraayan kee pooja kee jaatee hai. pahale bhagavaan naaraayan aur lakshmee jee kee pratima ko gangaajal se snaan karaana chaahie. unhen pushp aur pushp-maalyaarpan karana chaahie. bhagavaan kee dhoop, deep se aaratee utaarakar chandan lagaana chaahie. mishree aur bheege hue chanon ka bhog lagaana chaahie. bhagavaan ko tulasee-dal aur naivedy arpit kar braahmanon ko bhojan karaakar shraddhaanusaar dakshina dekar vida karana chaahie. is din sabhee ko bhagavat-bhajan karate hue sadchintan karana chaahie. akshay trteeya ke din kiya gaya koee bhee kaary bekaar nahin jaata isalie ise akshay trteeya kaha jaata hai. akshay trteeya ka vrat bhagavaan lakshmeenaaraayan ko prasannata pradaan karata hai. vrndaavan mein keval aaj hee ke din bihaaree jee ke paanv ke darshan hote hain. kisee bhee shubh kaary ko karane ke lie yah din bahut hee shubh maana jaata hai. is din praat: kaal mein moong aur chaaval kee khichadee bina namak daale banae jaane ko bada hee shubh maana jaata hai. is din paapad nahin senka jaata aur na hee pakkee rasoee banaee jaatee hai. is din naya ghada, pankha, chaaval, cheenee, ghee, namak, daal, imalee, rupaya ityaadi braahman ko shraddhaapoorvak daan diya jaata hai.

akshay trteeya ya aakhaateej vrat kee katha

atyant praacheen kaal kee baat hai. mahoday naamak ek vaishy kushaavatee nagaree mein nivaas karata tha. saubhaagyavash mahoday vaishy ko ek pandit dvaata akshay trteeya ke vrat ka vivaran praapt hua. usane bhakti-bhaav se vidhi va niyamapoorvak vrat rakha. vrat ke prabhaav se vah vaishy kushaavatee nagaree ka mahaaprataapee aur shaktishaalee raaja ban gaya. usaka kosh hamesha svarn-mudaon, heere-javaaharaaton se bhara rahata tha. raaja svabhaav se daanee bhee tha. vah udaar man hokar bina soche samajhe donon haathon se daan deta tha. ek baar raaja ke vaibhav aur sukh-shaantipoorn jeevan se aakarshit hokar kuchh jigyaasu logon ne raaja se usakee samrddhi aur prasiddhi ka kaaran poochha. raaja ne spasht roop se apane akshay trteeya vrat kee katha ko sunaaya aur is vrat kee krpa ke baare mein bhee bataaya. raaja se yah sunakar un jigyaasu purushon aur raaja kee praja ne niyam aur vidhaan sahit akshay trteeya vrat rakhana praarambh kar diya. akshay trteeya vrat ke puny prataap se sabhee nagar-nivaasee dhan-dhaany se poorn hokar vaibhavashaalau aur sukhee ho gae. he akshay teej maata! jaise aapane us vaishy ko vaibhav-sukh aur raajy prasaan kiya vaise hee apane sab bhakton evan shraddhaaluon ko dhan-dhaany aur sukh dena. sab par apanee krpaadrshti banae rakhana. hamaaree aap se yahee vinatee hai.

Comments

comments