Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » कालका जी मंदिर

कालका जी मंदिर

kalka-ji-mandir

kalka-ji-mandir

Kalka Ji Mandir Story

भारत की राजधानी दिल्ली में स्थित कालका जी मंदिर एक प्रसिद्ध मंदिर और देवीपीठ माना जाता है। यह मंदिर एक छोटी-सी पहाड़ी पर स्थित है। माना जाता है कि यह मंदिर करीब 3000 वर्ष पुराना है। कालका जी का मंदिर (Kalkaji Mandir, Delhi) देवी के प्रसिद्ध सिद्ध पीठों में से एक है, और मां काली को समर्पित है। इसे “मनोकामना सिद्ध पीठ” के नाम से भी जाना जाता है। लोगों के बीच मां काली की उत्पत्ति से संबंधित कई कथाएं प्रचलित हैं।

मां कालका जी से संबंधित एक कथा (History of Kalka Ji Mandir)

एक कथा के अनुसार शुंभ-निशुंभ और रक्तबीज राक्षसों के अत्याचार से परेशान होकर सभी देवताओं ने शिव जी की आराधना की। तब शिव जी ने माता पार्वती को असुरों का वध करने को कहा। इसके पश्चात देवी पार्वती दुर्गा का रूप लेकर युद्ध क्षेत्र में पहुंची।

जब मां दुर्गा युद्ध क्षेत्र में पहुंची तो वहां दैत्य चंड-मुंड देवताओं से युद्ध कर रहे थे। तब मां दुर्गा ने देवताओं को बचाते हुए चंड-मुंड का वध कर दिया। यह सुनकर शुंभ-निशुंभ ने देवी का वध करने के लिए अपनी असूरी सेना भेजी परंतु देवी ने उनका भी वध कर दिया।

अपनी सेनाओं की मृत्यु की बात सुनकर दैत्य शुंभ- निशुंभ बहुत क्रोधित हुए तथा अपनी असुरी सेना लेकर युद्ध क्षेत्र की ओर चल पड़े। देवी ने जब शुंभ- निशुंभ को सेना की के साथ अपनी ओर आते हुए देखा तो, उन्होंने एक तीर चलाया तथा उनकी सभी सेनाओं को क्षण भर में नष्ट कर दिया और रक्त बीज का वध करने के लिए आगे बढ़ीं।

रक्तबीज का वध करने के बाद जैसे ही उसके शरीर का रक्त पृथ्वी पर गिरता उससे कई और रक्तबीज उत्पन्न हो जाते थे। इसको देख पार्वती ने अपनी भृकुटी से काली को प्रकट किया, जिन्हें महाकाली कहा गया। महाकाली न अन्य दैत्यों के साथ रक्तबीज का भी वध किया।

रक्तबीज के वध के बाद भी मां काली का क्रोध शांत नहीं हुआ। तब मां काली के गुस्से को शांत करने के लिए स्वयं शिव जी उनके रास्ते में लेट गए और काली मां का पैर उनके सीने पर पड़ गया तथा उनका गुस्सा शांत हो गया।

कालका जी मंदिर (Kalkaji Mandir, Delhi)    
मान्यता है कि जहां आज कालका जी मंदिर स्थापित है वहीं वर्षों पूर्व राक्षसों के अंत के लिए मां काली की उत्पत्ति हुई थी। देवताओं की प्रार्थना पर मां काली ने कहा था कि “जो भी मेरी पूजा श्रद्धाभाव से करेगा मैं उसकी सभी मुरादें पूरी करूंगी।

कालका जी मंदिर विशेषता (Importance of Kalkaji Mandir, Delhi)

हिन्दू ग्रंथों के अनुसार महाभारत काल में युद्ध से पूर्व पांडवों ने मां कालका जी की पूजा की थी तथा उन्हें मां से युद्ध विजय का आशीर्वाद प्राप्त हुआ था। मां कालका की आराधना करने पर सभी रोगों का नाश होता है तथा जीवन में सुख-समृद्धि आती है। नवरात्र के दिनों में इनकी पूजा करना करना अधिक फलदायी होता है।


 

bhaarat kee raajadhaanee dillee mein sthit kaalaka jee mandir ek prasiddh mandir aur deveepeeth maana jaata hai. yah mandir ek chhotee-see pahaadee par sthit hai. maana jaata hai ki yah mandir kareeb 3000 varsh puraana hai. kaalaka jee ka mandir (kaalakaajee mandir, dillee) devee ke prasiddh siddh peethon mein se ek hai, aur maan kaalee ko samarpit hai. ise “manokaamana siddh peeth” ke naam se bhee jaana jaata hai. logon ke beech maan kaalee kee utpatti se sambandhit kaee kathaen prachalit hain.

maan kaalaka jee se sambandhit ek katha (kaalaka jee mandir ka itihaas)

ek katha ke anusaar shumbh-nishumbh aur raktabeej raakshason ke atyaachaar se pareshaan hokar sabhee devataon ne shiv jee kee aaraadhana kee. tab shiv jee ne maata paarvatee ko asuron ka vadh karane ko kaha. isake pashchaat devee paarvatee durga ka roop lekar yuddh kshetr mein pahunchee.

jab maan durga yuddh kshetr mein pahunchee to vahaan daity chand-mund devataon se yuddh kar rahe the. tab maan durga ne devataon ko bachaate hue chand-mund ka vadh kar diya. yah sunakar shumbh-nishumbh ne devee ka vadh karane ke lie apanee asooree sena bhejee parantu devee ne unaka bhee vadh kar diya.

apanee senaon kee mrtyu kee baat sunakar daity shumbh- nishumbh bahut krodhit hue tatha apanee asuree sena lekar yuddh kshetr kee or chal pade. devee ne jab shumbh- nishumbh ko sena kee ke saath apanee or aate hue dekha to, unhonne ek teer chalaaya tatha unakee sabhee senaon ko kshan bhar mein nasht kar diya aur rakt beej ka vadh karane ke lie aage badheen.

raktabeej ka vadh karane ke baad jaise hee usake shareer ka rakt prthvee par girata usase kaee aur raktabeej utpann ho jaate the. isako dekh paarvatee ne apanee bhrkutee se kaalee ko prakat kiya, jinhen mahaakaalee kaha gaya. mahaakaalee na any daityon ke saath raktabeej ka bhee vadh kiya.

raktabeej ke vadh ke baad bhee maan kaalee ka krodh shaant nahin hua. tab maan kaalee ke gusse ko shaant karane ke lie svayan shiv jee unake raaste mein let gae aur kaalee maan ka pair unake seene par pad gaya tatha unaka gussa shaant ho gaya.

kaalaka jee mandir (kaalakaajee mandir, dillee)
maanyata hai ki jahaan aaj kaalaka jee mandir sthaapit hai vaheen varshon poorv raakshason ke ant ke lie maan kaalee kee utpatti huee thee. devataon kee praarthana par maan kaalee ne kaha tha ki “jo bhee meree pooja shraddhaabhaav se karega main usakee sabhee muraaden pooree karoongee.

kaalaka jee mandir visheshata (kaalakaajee mandir, dillee ke mahatv)

hindoo granthon ke anusaar mahaabhaarat kaal mein yuddh se poorv paandavon ne maan kaalaka jee kee pooja kee thee tatha unhen maan se yuddh vijay ka aasheervaad praapt hua tha. maan kaalaka kee aaraadhana karane par sabhee rogon ka naash hota hai tatha jeevan mein sukh-samrddhi aatee hai. navaraatr ke dinon mein inakee pooja karana karana adhik phaladaayee hota hai.

Comments

comments