Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Vrat & Festivals » कामिका एकादशी

कामिका एकादशी

kamika-ekadasi

kamika-ekadasi

kamika akadesh

kamika akadesh

कामिका एकादशी सावन माह के कृ्ष्ण पक्ष की एकादशीको मनाई जाती है.  इस एकादशी के दिन भगवान श्री कृ्ष्ण की पूजा करने से फल मिलता है. वही फल गांअ, काशी और अन्य तीर्थ स्थानों में स्नान करने से मिलने वाले फल के समान होता है. इस एकादशी का व्रत करने के लिये प्रात: स्नान करके भगवान श्री विष्णु को भोग लगाना चाहिए. आचमन के पश्चात धूप, दीप, चन्दन आदि पदार्थों से आरती उतारनी चाहिए.

कामिका एकादशी व्रत महत्व | Importance of Kamika Ekadasi Vrat

कामिका एकादशी व्रत के दिन श्री हरि का पूजन करने से व्यक्ति के पितरों के भी पप दूर होते है. उपवास करने वाला व्यक्ति पाप रूपी संसार से उभर कर, मोक्ष की ओर अग्रसर होता है. इस एकादशी के विषय में यह मान्यता है, कि जो मनुष्य़ श्रावण मास में भगवान श्रीधर की पूजा करता है, उसके द्वारा गंधर्वों और नागों की सभी की पूजा हो जाती है. लालमणी मोती, दूर्वा और मूंगे आदि से पूजा होने के बाद भी भगवानश्री विष्णु उतने संतुष्ट नहीं होते, जितने की तुलसी पत्र से पूजा होने के बाद होते है. जो व्यक्ति तुलसी पत्र से श्री केशव का पूजन करता है. उसके जन्म भर का पाप नष्ट होते है.

एकादशी तिथि का व्रत दशमी तिथि से ही प्रारम्भ समझना चाहिए. एकाद्शी व्रत तभी सफल होत है, जब इस व्रत के नियमों का पालन दशमी तिथि से ही किया जाता है. जिस व्यक्ति को दशमी तिथि का व्रत करना हो, उस व्यक्ति को दशमी तिथि में व्यवहार को सात्विक रखना चाहिए. सत्य बोलना और मधुर बोलना चाहिए. ऎसी कोई बात नहीं करनी चाहिए. कि जो किसी को दू:ख पहुंचाये.

व्रत की अवधि लम्बी होती है. इसलिये उपवासक में दृढ संकल्प का भाव होना चाहिए. एक बार व्रत शुरु करने के बाद मध्य में कदापि नहीं छोडना चाहिए. दशमी तिथि के दिन रात्रि के भोजन में मांस, जौ, शहद जैसी वस्तुओं का प्रयोग नहीं करना चाहिए. और एक बार भोजन करने के बाद रात्रि में दोबारा भोजन नहीं करना चाहिए. दशमी तिथि से ही क्योकि व्रत के नियम लागू होते है, इसलिये भोजन में नमक नहीं होना चाहिए. भोजन करने के बाद व्यक्ति को भूमि पर शयन करना चाहिए. और पूर्ण रुप से ब्रहाचार्य का पालन करना चाहिए.

व्रत के दिन अर्थात एकादशी तिथि के दिन सुबह जल्दी उठना चाहिए. स्नान से पहले नित्यक्रियाओं से मुक्त होना चाहिए. और स्नान करने के लिये मिट्टी, तिल और कुशा का प्रयोग करना चाहिए. यह स्नान अगर किसी तीर्थ स्थान में किया जाता है, तो सबसे अधिक पुन्य देता है. विशेष परिस्थितियों में घर पर ही स्नान किया जा सकता है.

स्नान करने के बाद साफ वस्त्र धारण करने चाहिए. और भगवान श्री विष्णु के समक्ष व्रत का संकल्प लेना चाहिए. इसके बाद भगवान का पूजन करना चाहिए. पूजन करने के लिये सर्वप्रथम कुम्भ स्थापना की जाती है. कुम्भ के ऊपर भगवान श्री विष्णु जी की प्रतिमा रखी जाती है, और उसका पूजन धूप, दीप, पुष्प से किया जाता है.

कामिका एकादशी व्रत कथा | Kamika Ekadashi Vrat Katha in Hindi

प्राचीन काल में किसी गांव में एक ठाकुर जी थे. क्रोधी ठाकुर का एक ब्राह्मण से झगडा हो गया. परिणाम स्वरुप ब्राह्मणों ने भोजन करने से इंकार कर दिया. तब उन्होने एक मुनि से निवेदन किया कि हे भगवान, मेरा पाप कैसे दूर हो सकता है. इस पर मुनि ने उसे कामिका एकाद्शी व्रत करने की प्रेरणा दी. ठाकुर जी ने ठिक वैसा ही किया. रात्रि में भगवान की मूर्ति के पास जब वह  शयन कर रहा था. तभी उसे स्वपन आया. हे ठाकुर तेरा पाप दूर हो गया है.  अब तू ब्राह्माण की तेहरवीं करके ब्रह्महत्या के पाप से मुक्त हो गया है.

In Enlgish

kaamika ekaadashee saavan maah ke krshn paksh kee ekaadasheeko manaee jaatee hai. is ekaadashee ke din bhagavaan shree krshn kee pooja karane se phal milata hai. vahee phal gaan, kaashee aur any teerth sthaanon mein snaan karane se milane vaale phal ke samaan hota hai. is ekaadashee ka vrat karane ke liye praat: snaan karake bhagavaan shree vishnu ko bhog lagaana chaahie. aachaman ke pashchaat dhoop, deep, chandan aadi padaarthon se aaratee utaaranee chaahie.

kaamika ekaadashee vrat mahatv | importanchai of kamik aikadasi vrat

kaamika ekaadashee vrat ke din shree hari ka poojan karane se vyakti ke pitaron ke bhee pap door hote hai. upavaas karane vaala vyakti paap roopee sansaar se ubhar kar, moksh kee or agrasar hota hai. is ekaadashee ke vishay mein yah maanyata hai, ki jo manushy shraavan maas mein bhagavaan shreedhar kee pooja karata hai, usake dvaara gandharvon aur naagon kee sabhee kee pooja ho jaatee hai. laalamanee motee, doorva aur moonge aadi se pooja hone ke baad bhee bhagavaanashree vishnu utane santusht nahin hote, jitane kee tulasee patr se pooja hone ke baad hote hai. jo vyakti tulasee patr se shree keshav ka poojan karata hai. usake janm bhar ka paap nasht hote hai.

ekaadashee tithi ka vrat dashamee tithi se hee praarambh samajhana chaahie. ekaadshee vrat tabhee saphal hot hai, jab is vrat ke niyamon ka paalan dashamee tithi se hee kiya jaata hai. jis vyakti ko dashamee tithi ka vrat karana ho, us vyakti ko dashamee tithi mein vyavahaar ko saatvik rakhana chaahie. saty bolana aur madhur bolana chaahie. aisee koee baat nahin karanee chaahie. ki jo kisee ko doo:kh pahunchaaye.

vrat kee avadhi lambee hotee hai. isaliye upavaasak mein drdh sankalp ka bhaav hona chaahie. ek baar vrat shuru karane ke baad madhy mein kadaapi nahin chhodana chaahie. dashamee tithi ke din raatri ke bhojan mein maans, jau, shahad jaisee vastuon ka prayog nahin karana chaahie. aur ek baar bhojan karane ke baad raatri mein dobaara bhojan nahin karana chaahie. dashamee tithi se hee kyoki vrat ke niyam laagoo hote hai, isaliye bhojan mein namak nahin hona chaahie. bhojan karane ke baad vyakti ko bhoomi par shayan karana chaahie. aur poorn rup se brahaachaary ka paalan karana chaahie.

vrat ke din arthaat ekaadashee tithi ke din subah jaldee uthana chaahie. snaan se pahale nityakriyaon se mukt hona chaahie. aur snaan karane ke liye mittee, til aur kusha ka prayog karana chaahie. yah snaan agar kisee teerth sthaan mein kiya jaata hai, to sabase adhik puny deta hai. vishesh paristhitiyon mein ghar par hee snaan kiya ja sakata hai.

snaan karane ke baad saaph vastr dhaaran karane chaahie. aur bhagavaan shree vishnu ke samaksh vrat ka sankalp lena chaahie. isake baad bhagavaan ka poojan karana chaahie. poojan karane ke liye sarvapratham kumbh sthaapana kee jaatee hai. kumbh ke oopar bhagavaan shree vishnu jee kee pratima rakhee jaatee hai, aur usaka poojan dhoop, deep, pushp se kiya jaata hai.

kaamika ekaadashee vrat katha | kamik aikadashi vrat kath in hindi

praacheen kaal mein kisee gaanv mein ek thaakur jee the. krodhee thaakur ka ek braahman se jhagada ho gaya. parinaam svarup braahmanon ne bhojan karane se inkaar kar diya. tab unhone ek muni se nivedan kiya ki he bhagavaan, mera paap kaise door ho sakata hai. is par muni ne use kaamika ekaadshee vrat karane kee prerana dee. thaakur jee ne thik vaisa hee kiya. raatri mein bhagavaan kee moorti ke paas jab vah shayan kar raha tha. tabhee use svapan aaya. he thaakur tera paap door ho gaya hai. ab too braahmaan kee teharaveen karake brahmahatya ke paap se mukt ho gaya hai.

Comments

comments