Saturday , 11 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » God Leela » कन्हैया की दृष्टि चन्द्रमा पर पड़ी

कन्हैया की दृष्टि चन्द्रमा पर पड़ी

kanahiya-ki-drishti-chanderma-per-pari

kanahiya-ki-drishti-chanderma-per-pari

Kanahiya ki drishti chanderma per pari

एक दिन की बात है। यशोदा मैया गोपिओं के साथ कान्हा की बाल-सुलभ लीलाओं की चर्चा कर रही थीं। खेलते-खेलते अचानक कन्हैया की दृष्टि चन्द्रमा पर पड़ी। उन्होंने पीछे से आकर यशोदा मैया का घूंघट उतार लिया। अपने कोमल करों से उनकी चोटी पकड़ कर खींचने लगे और बार-बार पीठ थपथपाने लगे। श्रीकृष्ण बोले मां! मैं लूंगा। जब मैया के समझ में बात नहीं आयी तो श्रीकृष्ण को गोद में ले लिया और पूछा- लाला तुम्हे क्या चाहिये, साफ-साफ बताओ। तुम्हें दूध, दही, मक्खन, मिसरी जो चाहोगे सब मिलेगा। अब मान भी जाओ, रुठो मत। श्रीकृष्ण ने कहा- घर की वस्तु नहीं चाहिये उन्होंने अंगुली दिखाकर चन्द्रमा की ओर संकेत किया और कहा – वो चाहिये। गोपियां बोली ये कोई माखन थोड़े ही ना है। यह हम कैसे देंगी? यह तो प्यारा-प्यारा हंस है, जो आकाश सरोवर में तैर रहा है। श्रीकृष्ण ने कहा- मैं भी तो खेलने के लिये उस हंस को ही माँग रहा हूँ। मुझे वो ला कर दो। यशोदाजी ने कन्हैया को गोद में उठा लिया और कहा- कान्हा यह ना तो राजहंस है, ना ही चन्द्रमा। यह माखन हीं है, किन्तु तुम्हें देने योग्य नहीं है। देखो न, इसमें काला-काला विष लगा हुआ है। इसलिये इसे कोई नहीं खाता। श्रीकृष्ण ने कहा मैया! मैया! इसमें विष कैसे लग गया। यशोदाजी ने कान्हा को गोद में लेकर कथा सुनाना प्रारम्भ कर दिया।
यशोदा ने कहा- लाला! एक क्षीरसागर है।
श्रीकृष्ण- वह कैसा है, मैया?
यशोदा- बेटा! यह तुम जो दूध देख रहे हो ना, इसी का एक समुद्र हैं।
श्रीकृष्ण- मैया! कितनी गायों ने दूध दिया होगा तब समुद्र बना होगा।
यशोदा- यह गाय का दूध नहीं है।
श्रीकृष्ण- मैया! तू मुझे बहला रही है। भला बिना गाय के भी दूध कहीं होता हैं।
यशोदा- जिस भगवान ने गायों को बनाया, वे बिना गाय के भी दूध बना सकते हैं।
श्रीकृष्ण- अच्छा ठीक है, आगे कहो।
यशोदा- एक बार देवता और दैत्यों में युद्ध हुआ। दैत्य बलवान थे। वे बार-बार देवताओं को हरा देते थे। भगवान ने देवताओं को अमर बनाने के लिये श्रीरसागर को मथा। मन्दराचल की मथानी बनी और बासु की नाग की रस्सी बनायी गयी। एक तरफ देवता लगे और दूसरी तरफ दैत्य।
श्रीकृष्ण- जैसे गोपियाँ दही मथती हैं।
यशोदा- हां बेटा! उसी से कालकूट नामक विष पैदा हुआ।
श्रीकृष्ण- मां! विष तो सांपो में होता है दूध में कैसे निकला।
यशोदा- बेटा! वही विष भगवान शंकर ने पी लिया। उससे जो धरती पर फुहियाँ पड़ी, उसे पीकर सांप विषधर हो गये। यशोदा ने कन्हैया को चन्द्रमा की ओर दिखाकर कहा- यह मक्खन भी उसी से निकला हैं, इसलिये थोड़ा-सा विष इसमें भी लग गया। इसी को कलंक कहा जाता है। इसलिये तुम घर का मक्खन खाओ। इस मक्खन को पाने के लिये भूलकर भी मत सोचना। कथा सुनते-सुनते कन्हैया को नींद आ गयी और चांद- खिलौना की बात जहां-की-तहां रह गयी।


 

ek din kee baat hai. yashoda maiya gopion ke saath kaanha kee baal-sulabh leelaon kee charcha kar rahee theen. khelate-khelate achaanak kanhaiya kee drshti chandrama par padee. unhonne peechhe se aakar yashoda maiya ka ghoonghat utaar liya. apane komal karon se unakee chotee pakad kar kheenchane lage aur baar-baar peeth thapathapaane lage. shreekrshn bole maan! main loonga. jab maiya ke samajh mein baat nahin aayee to shreekrshn ko god mein le liya aur poochha- laala tumhe kya chaahiye, saaph-saaph batao. tumhen doodh, dahee, makkhan, misaree jo chaahoge sab milega. ab maan bhee jao, rutho mat. shreekrshn ne kaha- ghar kee vastu nahin chaahiye unhonne angulee dikhaakar chandrama kee or sanket kiya aur kaha – vo chaahiye. gopiyaan bolee ye koee maakhan thode hee na hai. yah ham kaise dengee? yah to pyaara-pyaara hans hai, jo aakaash sarovar mein tair raha hai. shreekrshn ne kaha- main bhee to khelane ke liye us hans ko hee maang raha hoon. mujhe vo la kar do. yashodaajee ne kanhaiya ko god mein utha liya aur kaha- kaanha yah na to raajahans hai, na hee chandrama. yah maakhan heen hai, kintu tumhen dene yogy nahin hai. dekho na, isamen kaala-kaala vish laga hua hai. isaliye ise koee nahin khaata. shreekrshn ne kaha maiya! maiya! isamen vish kaise lag gaya. yashodaajee ne kaanha ko god mein lekar katha sunaana praarambh kar diya.
yashoda ne kaha- laala! ek ksheerasaagar hai.
shreekrshn- vah kaisa hai, maiya?
beta yashoda-! yah tum jo doodh dekh rahe ho na, isee ka ek samudr hain.
maiya shreekrshn-! kitanee gaayon ne doodh diya hoga tab samudr bana hoga.
yashoda- yah gaay ka doodh nahin hai.
maiya shreekrshn-! too mujhe bahala rahee hai. bhala bina gaay ke bhee doodh kaheen hota hain.
yashoda- jis bhagavaan ne gaayon ko banaaya, ve bina gaay ke bhee doodh bana sakate hain.
shreekrshn- achchha theek hai, aage kaho.
yashoda- ek baar devata aur daityon mein yuddh hua. daity balavaan the. ve baar-baar devataon ko hara dete the. bhagavaan ne devataon ko amar banaane ke liye shreerasaagar ko matha. mandaraachal kee mathaanee banee aur baasu kee naag kee rassee banaayee gayee. ek taraph devata lage aur doosaree taraph daity.
shreekrshn- jaise gopiyaan dahee mathatee hain.
yashoda- haan beta! usee se kaalakoot naamak vish paida hua.
maan shreekrshn-! vish to saampo mein hota hai doodh mein kaise nikala.
beta yashoda-! vahee vish bhagavaan shankar ne pee liya. usase jo dharatee par phuhiyaan padee, use peekar saamp vishadhar ho gaye. yashoda ne kanhaiya ko chandrama kee or dikhaakar kaha- yah makkhan bhee usee se nikala hain, isaliye thoda-sa vish isamen bhee lag gaya. isee ko kalank kaha jaata hai. isaliye tum ghar ka makkhan khao. is makkhan ko paane ke liye bhoolakar bhee mat

Comments

comments