Wednesday , 8 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Bhajan/Aarti / Mantra/ Chalisa Lyrics » कान्हा रे

कान्हा रे

kanha-re

kanha-re

Kanha re bhajan

कान्हा रे
तू तो मुझको जाने
तू तो सब कुछ जाने
मैं तो नाचूंगी
मैं तो गाऊँगी
तेरी मुरली की धुन सुन नाचूंगी
तेरी मुरली की धुन सुन गाऊँगी
मैं तो नाचूंगी

तन और मन के भक्ति योग से
मैं बनी संवरिया
तन और मन के कर्म योग से
मैं बनी बंसुरिया
कान्हा रे
तू चाहे तो बजा ले
कान्हा रे
तू चाहे तो नचा ले

जब से श्यामा श्याम बसे है
मन मंदिर में मधु के
तब से तन बन गयी मुरलिया
श्याम श्याम ही बोले
कान्हा रे
अपने सुर में मिला ले
कान्हा रे
अपनी मुरलिया बना ले

अब तो तन बन गयी मुरलिया
श्याम श्याम ही बोले
सात सुरों के संगम से श्याम
जैसा चाहे बजाले
कान्हा रे
सुर में मोहे डुबा ले
कान्हा रे
मधु मुरलिया बना ले

मैं तो नाचूंगी
मैं तो गाऊँगी
तेरी मुरली की धुन सुन नाचूंगी
तेरी मुरली की धुन सुन गाऊँगी
मैं तो नाचूंगी


 

kaanha re
too to mujhako jaane
too to sab kuchh jaane
main to naachoongee
main to gaoongee
teree muralee kee dhun sun naachoongee
teree muralee kee dhun sun gaoongee
main to naachoongee

tan aur man ke bhakti yog se
main banee sanvariya
tan aur man ke karm yog se
main banee bansuriya
kaanha re
too chaahe to baja le
kaanha re
too chaahe to nacha le

jab se shyaama shyaam base hai
man mandir mein madhu ke
tab se tan ban gayee muraliya
shyaam shyaam hee bole
kaanha re
apane sur mein mila le
kaanha re
apanee muraliya bana le

ab to tan ban gayee muraliya
shyaam shyaam hee bole
saat suron ke sangam se shyaam
jaisa chaahe bajaale
kaanha re
sur mein mohe duba le
kaanha re
madhu muraliya bana le

main to naachoongee
main to gaoongee
teree muralee kee dhun sun naachoongee

wish4me

Comments

comments