Tuesday , 7 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religious Places » कन्याकुमारी मन्दिर

कन्याकुमारी मन्दिर

kanyakumari-temple

kanyakumari-temple

Kanyakumari-Temple

Kanyakumari-Temple

कन्याकुमारी मन्दिर तमिलनाडु के कन्याकुमारी शहर में समुद्र तट पर स्थित हिन्दुओं का एक पवित्र तीर्थस्थल है। इसे कुमारी अम्मन मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। यहां मां भगवती की पूजा एक कुंवारी कन्या के रूप में की जाती है तथा इन्हें पार्वती का अवतार माना जाता है। इस मंदिर से जुड़ी कई पौराणिक कथाएं लोगों के बीच काफी प्रसिद्ध है।

कन्याकुमारी मन्दिर से जुड़ी एक प्रसिद्ध कथा

कथा के अनुसार बानासुर नामक के राक्षस को शिव जी का वरदान प्राप्त था की उसका वध केवल एक कुंवारी कन्या ही कर सकती है। प्राचीन काल के राजा भरत के माता पार्वती ने कन्या के रूप में जन्म लिया।

जब वह कन्या बड़ी हुई तो, वह शिव जी के अलाव किसी अन्य व्यक्ति से विवाह नहीं करना चाहती थी। राजा भरत ने अपनी पुत्री को रहने के लिए अपने राज्य के दक्षिण में स्थान दिया। एक दिन बानसुर घूमता हुआ, उस कन्या के पास पहुंच गया।

कन्या की सुंदरता पर मुग्ध होकर बानासुर ने उसके समक्ष विवाह का प्रस्ताव रखा। तब उस कन्या ने राक्षस से युद्ध की शर्त रखी और कहा की यदि वह युद्ध में विजयी हो गया तो वह उससे विवाह कर लेगी।

इसके पश्चात कन्या और राक्षस के बीच घमासान युद्ध हुआ तथा बानासुर मारा गया। उसके बाद कन्या ने कुंवारी ही रहने का फैसला ले लिया। माना जाता है कि कन्या और शिव से विवाह के लिए जितना भी अनाज एकत्र किया था, वह बाद में पत्थर बन गया। इस पत्थर को हम आज भी कन्याकुमारी में देख और खरीद सकते हैं।

कन्याकुमारी मन्दिर की मान्यता 

कन्याकुमारी मंदिर से थोड़ी दूरी पर गायत्री घाट, सावित्री घाट, स्याणु घाट और तीर्थघाट स्थित हैं। माना जाता है कि तीर्थघाट पर स्नान करने के बाद ही श्रद्धालु मंदिर के अंदर दर्शन के लिए जाते हैं।

कन्याकुमारी मन्दिर की विशेषता 

माना जाता है कि कन्याकुमारी मंदिर के समीप स्थित तीर्थघाट में स्नान करने से व्यक्ति के सारे पाप धुल जाते हैं तथा उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है। देवी के दर्शन मात्र से श्रद्धालुओं के सारे कष्ट मिट जाते है तथा उनका जीवन धन्य हो जाता है।

wish4me to English

kanyaakumaaree mandir tamilanaadu ke kanyaakumaaree shahar mein samudr tat par sthit hinduon ka ek pavitr teerthasthal hai. ise kumaaree amman mandir ke naam se bhee jaana jaata hai. yahaan maan bhagavatee kee pooja ek kunvaaree kanya ke roop mein kee jaatee hai tatha inhen paarvatee ka avataar maana jaata hai. is mandir se judee kaee pauraanik kathaen logon ke beech kaaphee prasiddh hai.

kanyaakumaaree mandir se judee ek prasiddh katha

katha ke anusaar baanaasur naamak ke raakshas ko shiv jee ka varadaan praapt tha kee usaka vadh keval ek kunvaaree kanya hee kar sakatee hai. praacheen kaal ke raaja bharat ke maata paarvatee ne kanya ke roop mein janm liya.

jab vah kanya badee huee to, vah shiv jee ke alaav kisee any vyakti se vivaah nahin karana chaahatee thee. raaja bharat ne apanee putree ko rahane ke lie apane raajy ke dakshin mein sthaan diya. ek din baanasur ghoomata hua, us kanya ke paas pahunch gaya.

kanya kee sundarata par mugdh hokar baanaasur ne usake samaksh vivaah ka prastaav rakha. tab us kanya ne raakshas se yuddh kee shart rakhee aur kaha kee yadi vah yuddh mein vijayee ho gaya to vah usase vivaah kar legee.

isake pashchaat kanya aur raakshas ke beech ghamaasaan yuddh hua tatha baanaasur maara gaya. usake baad kanya ne kunvaaree hee rahane ka phaisala le liya. maana jaata hai ki kanya aur shiv se vivaah ke lie jitana bhee anaaj ekatr kiya tha, vah baad mein patthar ban gaya. is patthar ko ham aaj bhee kanyaakumaaree mein dekh aur khareed sakate hain.

kanyaakumaaree mandir kee maanyata

kanyaakumaaree mandir se thodee dooree par gaayatree ghaat, saavitree ghaat, syaanu ghaat aur teerthaghaat sthit hain. maana jaata hai ki teerthaghaat par snaan karane ke baad hee shraddhaalu mandir ke andar darshan ke lie jaate hain.

kanyaakumaaree mandir kee visheshata

maana jaata hai ki kanyaakumaaree mandir ke sameep sthit teerthaghaat mein snaan karane se vyakti ke saare paap dhul jaate hain tatha use moksh kee praapti hotee hai. devee ke darshan maatr se shraddhaaluon ke saare kasht mit jaate hai tatha unaka jeevan dhany ho jaata hai.

Comments

comments