Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ganga » Religion Information » Hindu » करवा चौथ व्रत कथा  (Karavaa chauth vrat kathaa)

करवा चौथ व्रत कथा  (Karavaa chauth vrat kathaa)

karavaa-chauth-vrat-kathaa

karavaa-chauth-vrat-kathaa

Karavaa chauth vrat kathaa

Karavaa chauth vrat kathaa

करवा चौथ के दिन व्रत कथा पढ़ना अनिवार्य माना गया है। करवा चौथ की कई कथाएं है लेकिन सबका मूल एक ही है। करवा चौथ की एक प्रचलित कथा निम्न है:

करवा चौथ व्रत कथा (Karwa Chauth Vrat Katha in Hindi)

महिलाओं के अखंड सौभाग्य का प्रतीक करवा चौथ व्रत की कथा कुछ इस प्रकार है- एक साहूकार के सात लड़के और एक लड़की थी। एक बार कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को सेठानी सहित उसकी सातों बहुएं और उसकी बेटी ने भी करवा चौथ का व्रत रखा। रात्रि के समय जब साहूकार के सभी लड़के भोजन करने बैठे तो उन्होंने अपनी बहन से भी भोजन कर लेने को कहा। इस पर बहन ने कहा- भाई, अभी चांद नहीं निकला है। चांद के निकलने पर उसे अर्घ्य देकर ही मैं आज भोजन करूंगी।

साहूकार के बेटे अपनी बहन से बहुत प्रेम करते थे, उन्हें अपनी बहन का भूख से व्याकुल चेहरा देख बेहद दुख हुआ। साहूकार के बेटे नगर के बाहर चले गए और वहां एक पेड़ पर चढ़ कर अग्नि जला दी। घर वापस आकर उन्होंने अपनी बहन से कहा- देखो बहन, चांद निकल आया है। अब तुम उन्हें अर्घ्य देकर भोजन ग्रहण करो। साहूकार की बेटी ने अपनी भाभियों से कहा- देखो, चांद निकल आया है, तुम लोग भी अर्घ्य देकर भोजन कर लो। ननद की बात सुनकर भाभियों ने कहा- बहन अभी चांद नहीं निकला है, तुम्हारे भाई धोखे से अग्नि जलाकर उसके प्रकाश को चांद के रूप में तुम्हें दिखा रहे हैं।

साहूकार की बेटी अपनी भाभियों की बात को अनसुनी करते हुए भाइयों द्वारा दिखाए गए चांद को अर्घ्य देकर भोजन कर लिया। इस प्रकार करवा चौथ का व्रत भंग करने के कारण विघ्नहर्ता भगवान श्री गणेश साहूकार की लड़की पर अप्रसन्न हो गए। गणेश जी की अप्रसन्नता के कारण उस लड़की का पति बीमार पड़ गया और घर में बचा हुआ सारा धन उसकी बीमारी में लग गया।

साहूकार की बेटी को जब अपने किए हुए दोषों का पता लगा तो उसे बहुत पश्चाताप हुआ। उसने गणेश जी से क्षमा प्रार्थना की और फिर से विधि-विधान पूर्वक चतुर्थी का व्रत शुरू कर दिया। उसने उपस्थित सभी लोगों का श्रद्धानुसार आदर किया और तदुपरांत उनसे आशीर्वाद ग्रहण किया।

इस प्रकार उस लड़की के श्रद्धा-भक्ति को देखकर एकदंत भगवान गणेश जी उसपर प्रसन्न हो गए और उसके पति को जीवनदान प्रदान किया। उसे सभी प्रकार के रोगों से मुक्त करके धन, संपत्ति और वैभव से युक्त कर दिया।

कहते हैं इस प्रकार यदि कोई मनुष्य छल-कपट, अहंकार, लोभ, लालच को त्याग कर श्रद्धा और भक्तिभाव पूर्वक चतुर्थी का व्रत को पूर्ण करता है, तो वह जीवन में सभी प्रकार के दुखों और क्लेशों से मुक्त होता है और सुखमय जीवन व्यतीत करता है।

करवा चौथ व्रत विधि (Karva Chauth Vrat Vidhi in Hindi)

कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को करवा चौथ का व्रत किया जाता है। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए निर्जला व्रत रखती हैं। करवा चौथ के व्रत का पूर्ण विर्ण वामन पुराण में किया गया है।

करवा चौथ पूजा विधि (Karwa chauth Puja vidhi )

नारद पुराण के अनुसार इस दिन भगवान गणेश की पूजा करनी चाहिए। करवा चौथ की पूजा करने के लिए बालू या सफेद मिट्टी की एक वेदी बनाकर भगवान शिव- देवी पार्वती, स्वामी कार्तिकेय, चंद्रमा एवं गणेशजी को स्थापित कर उनकी विधिपूर्वक पूजा करनी चाहिए।

पूजा के बाद करवा चौथ की कथा सुननी चाहिए तथा चंद्रमा को अर्घ्य देकर छलनी से अपने पति को देखना चाहिए। पति के हाथों से ही पानी पीकर व्रत खोलना चाहिए। इस प्रकार व्रत को सोलह या बारह वर्षों तक करके उद्यापन कर देना चाहिए।

चन्द्रोदय समय (Karwa Chauth Puja Timings in Hindi)

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार करवा चौथ के दिन शाम के समय चन्द्रमा को अर्घ्य देकर ही व्रत खोला जाता है। इस दिन बिना चन्द्रमा को अर्घ्य दिए व्रत तोड़ना अशुभ माना जाता है।

Wish4me to English

Karavaa chauth ke din vrat kathaa paḍhxnaa anivaary maanaa gayaa hai. Karavaa chauth kee kaii kathaaen hai lekin sabakaa mool ek hee hai. Karavaa chauth kee ek prachalit kathaa nimn haiah

karavaa chauth vrat kathaa (karwa chauth rat katha in hindi)

mahilaa_on ke akhnḍa saubhaagy kaa prateek karavaa chauth vrat kee kathaa kuchh is prakaar hai- ek saahookaar ke saat ladake aur ek ladakee thee. Ek baar kaartik maas kee kriṣṇa pakṣ kee chaturthee tithi ko seṭhaanee sahit usakee saaton bahuen aur usakee beṭee ne bhee karavaa chauth kaa vrat rakhaa. Raatri ke samay jab saahookaar ke sabhee ladake bhojan karane baiṭhe to unhonne apanee bahan se bhee bhojan kar lene ko kahaa. Is par bahan ne kahaa- bhaaii, abhee chaand naheen nikalaa hai. Chaand ke nikalane par use arghy dekar hee main aaj bhojan karoongee. Saahookaar ke beṭe apanee bahan se bahut prem karate the, unhen apanee bahan kaa bhookh se vyaakul cheharaa dekh behad dukh huaa. Saahookaar ke beṭe nagar ke baahar chale gae aur vahaan ek ped par chaḍh kar agni jalaa dee. Ghar vaapas aakar unhonne apanee bahan se kahaa- dekho bahan, chaand nikal aayaa hai. Ab tum unhen arghy dekar bhojan grahaṇa karo. Saahookaar kee beṭee ne apanee bhaabhiyon se kahaa- dekho, chaand nikal aayaa hai, tum log bhee arghy dekar bhojan kar lo. Nanad kee baat sunakar bhaabhiyon ne kahaa- bahan abhee chaand naheen nikalaa hai, tumhaare bhaaii dhokhe se agni jalaakar usake prakaash ko chaand ke roop men tumhen dikhaa rahe hain. Saahookaar kee beṭee apanee bhaabhiyon kee baat ko anasunee karate hue bhaaiyon dvaaraa dikhaae gae chaand ko arghy dekar bhojan kar liyaa. Is prakaar karavaa chauth kaa vrat bhng karane ke kaaraṇa vighnahartaa bhagavaan shree gaṇaesh saahookaar kee ladakee par aprasann ho gae. Gaṇaesh jee kee aprasannataa ke kaaraṇa us ladakee kaa pati beemaar pad gayaa aur ghar men bachaa huaa saaraa dhan usakee beemaaree men lag gayaa. Saahookaar kee beṭee ko jab apane kie hue doṣon kaa pataa lagaa to use bahut pashchaataap huaa. Usane gaṇaesh jee se kṣamaa praarthanaa kee aur fir se vidhi-vidhaan poorvak chaturthee kaa vrat shuroo kar diyaa. Usane upasthit sabhee logon kaa shraddhaanusaar aadar kiyaa aur taduparaant unase aasheervaad grahaṇa kiyaa. Is prakaar us ladakee ke shraddhaa-bhakti ko dekhakar ekadnt bhagavaan gaṇaesh jee usapar prasann ho gae aur usake pati ko jeevanadaan pradaan kiyaa. Use sabhee prakaar ke rogon se mukt karake dhan, snpatti aur vaibhav se yukt kar diyaa. Kahate hain is prakaar yadi koii manuṣy chhal-kapaṭ, ahnkaar, lobh, laalach ko tyaag kar shraddhaa aur bhaktibhaav poorvak chaturthee kaa vrat ko poorṇa karataa hai, to vah jeevan men sabhee prakaar ke dukhon aur kleshon se mukt hotaa hai aur sukhamay jeevan vyateet karataa hai.

Karavaa chauth vrat vidhi (karva chauth rat idhi in hindi)

kaartik maah ke kriṣṇa pakṣ kee chaturthee tithi ko karavaa chauth kaa vrat kiyaa jaataa hai. Is din vivaahit mahilaaen apane pati kee lnbee aayu ke lie nirjalaa vrat rakhatee hain. Karavaa chauth ke vrat kaa poorṇa virṇa vaaman puraaṇa men kiyaa gayaa hai.

Karavaa chauth poojaa vidhi (karwa chauth puja vidhi )

naarad puraaṇa ke anusaar is din bhagavaan gaṇaesh kee poojaa karanee chaahie. Karavaa chauth kee poojaa karane ke lie baaloo yaa safed miṭṭee kee ek vedee banaakar bhagavaan shiv- devee paarvatee, svaamee kaartikey, chndramaa evn gaṇaeshajee ko sthaapit kar unakee vidhipoorvak poojaa karanee chaahie. Poojaa ke baad karavaa chauth kee kathaa sunanee chaahie tathaa chndramaa ko arghy dekar chhalanee se apane pati ko dekhanaa chaahie. Pati ke haathon se hee paanee peekar vrat kholanaa chaahie. Is prakaar vrat ko solah yaa baarah varṣon tak karake udyaapan kar denaa chaahie. Chandroday samay (karwa chauth puja timings in hindi)

pauraaṇaik maanyataaon ke anusaar karavaa chauth ke din shaam ke samay chandramaa ko arghy dekar hee vrat kholaa jaataa hai. Is din binaa chandramaa ko arghy die vrat todanaa ashubh maanaa jaataa hai.

Comments

comments