Thursday , 9 February 2017
Latest Happenings
Home » Gyan Ki Baat » कर्म भोग

कर्म भोग

karm-bhog

karm-bhog

Karm bhog

Karm bhog

एक गाँव मे एक किसान रहता था उसके परिवार
मे उसकी पत्नी और एक लड़का था।कुछ सालो के बाद पत्नी मृत्यु हो गई उस समय लड़के की उम्र दस साल थी किसान ने दुसरी शादी कर ली।

उस दुसरी पत्नी से भी किसान को एक पुत्र प्राप्त हुआ।किसान की दुसरी पत्नी की भी कुछ समय बाद मृत्यु हो गई।

किसान का बड़ा बेटा जो पहली पत्नी से प्राप्त हुआ था जब शादी के योग्य हुआ तब किसान ने बड़े बेटे की शादी कर दी।फिर किसान की भी कुछ समय बाद मृत्यु हो गई।

किसान का छोटा बेटा जो दुसरी पत्नी से प्राप्त हुआ था और पहली पत्नी से प्राप्त बड़ा बेटा दोनो साथ साथ रहते थे।
कुछ टाईम बाद किसान के छोटे लड़के की तबयीत खराब रहने लगी।

बड़े भाई ने कुछ आस पास के वैदो से ईलाज करवाया पर कोई राहत ना मिली।छोटे भाई की दिनभर तबीयत बिगड़ी जा रही थी और बहुत खर्च भी हो रहा था।

एक दिन बड़े भाई ने अपनी पत्नी से सलाह की यदि ये छोटा भाई मर जाऐ तो हमे इसके ईलाज के लिऐ पैसा खर्च ना करना पड़ेगा।

तब उसकी पत्नी ने कहाँ की क्यो न किसी वैद से बात करके इसे जहर दे दिया जाऐ किसी को पता भी ना चलेगा कोई रिस्तेदारी मे भी कोई शक ना करेगा कि बिमार था बिमारी से मृत्यु हो गई।

बड़े भाई ने ऐसे ही किया एक वैद से बात की आप अपनी फिस बताऔ ऐसा करना मेरे छोटे भाई को जहर देना है !

वैद ने बात मान ली और लड़के को जहर दे दिया और लड़के की मृत्यु हो गई।उसके भाई भाभी ने खुशी मनाई की रास्ते का काँटा निकल गया अब सारी सम्पति अपनी हो गई।

उसका अतिँम संस्कार कर दिया।कुछ महीनो पश्चात उस किसान के बड़े लड़के की पत्नी को लड़का हुआ !

उन पति पत्नी ने खुब खुशी मनाई,बड़े ही लाड प्यार से लड़के की परवरिश की गिने दिनो मे लड़का जवान हो गया।उन्होने अपने लड़के की शादी कर दी!

शादी के कुछ समय बाद अचानक लड़का बीमार रहने लगा।माँ बाप ने उसके ईलाज के लिऐ बहुत वैदो से ईलाज करवाया।जिसने जितना पैसा माँगा दिया सब दिया की लड़का ठीक हो जाऐ।

अपने लड़के के ईलाज मे अपनी आधी सम्पति तक बेच दी पर लड़का बिमारी के कारण मरने की कागार पर आ गया। शरीर इतना ज्यादा कमजोर हो गया की अस्थि पिजंर शेष रह गया था।

एक दिन लड़के को चारपाई पर लेटा रखा था और उसका पिता साथ मे बैठा अपने पुत्र की ये दयनीय हालत देख कर दुःखी होकर उसकी और देख रहा था!

तभी लड़का अपने पिता से बोला की भाई अपना सब हिसाब हो गया बस अब कफन और लकड़ी का हिसाब बाकी है उसकी तैयारी कर लो।

ये सुनकर उसके पिता ने सोचा की लड़के का दिमाग भी काम ना कर रहा बीमारी के कारण और बोला बेटा मै तेरा बाप हुँ भाई नही।

तब लड़का बोला मै आपका वही भाई हुँ जो आप ने जहर खिलाकर मरवाया था जिस सम्पति के लिऐ आप ने मरवाया था मुझे अब वो मेरे ईलाज के लिऐ आधी बिक चुकी है आपकी की शेष है हमारा हिसाब हो गया !

तब उसका पिता फुट-फुट कर रोते हुवे बोला की मेरा तो कुल नाश हो गया जो किया मेरे आगे आ गया पर तेरी पत्नी का क्या दोष है जो इस बेचारी को जिन्दा जलाया जाऐगा(उस समय सतीप्रथा थी जिसमे पति के मरने के बाद पत्नी को पति की चिता के साथ जला दिया जाता था)।

तब वो लड़का बोला की वो वैद कहा जिसने मुझे जहर खिलाया था तब उसके पिता ने कहा की आप की मृत्यु के तीन साल बाद वो मर गया था।

तब लड़के ने कहा की ये वही दुष्ट वैद आज मेरी पत्नी रुप मे है मेरे मरने पर इसे जिन्दा जलाया जाऐगा।

बन्दी छोड़ परमेश्वर कहते है कि
तुमने उस दरगाह का ,
महल ना देखा धर्मराय लेगा ,
तील तील का लेखा।।
एक लेवा एक देवा दुतम ,
कोई किसी का पिता ना पुतम ।
ऋण सबंध जुड़ा है ठाडा ,
अंत समय सब बारह बाटा ।।

[To English Wish4me]

Ek gaanv me ek kisaan rahataa thaa usake parivaar
me usakee patnee aur ek ladakaa thaa. Kuchh saalo ke baad patnee mrityu ho gaii us samay ladake kee umr das saal thee kisaan ne dusaree shaadee kar lee.

Us dusaree patnee se bhee kisaan ko ek putr praapt huaa. Kisaan kee dusaree patnee kee bhee kuchh samay baad mrityu ho gaii.

Kisaan kaa badaa beṭaa jo pahalee patnee se praapt huaa thaa jab shaadee ke yogy huaa tab kisaan ne bade beṭe kee shaadee kar dee. Fir kisaan kee bhee kuchh samay baad mrityu ho gaii.

Kisaan kaa chhoṭaa beṭaa jo dusaree patnee se praapt huaa thaa aur pahalee patnee se praapt badaa beṭaa dono saath saath rahate the. Kuchh ṭaaiim baad kisaan ke chhoṭe ladake kee tabayeet kharaab rahane lagee. Bade bhaaii ne kuchh aas paas ke vaido se iilaaj karavaayaa par koii raahat naa milee. Chhoṭe bhaaii kee dinabhar tabeeyat bigadee jaa rahee thee aur bahut kharch bhee ho rahaa thaa. Ek din bade bhaaii ne apanee patnee se salaah kee yadi ye chhoṭaa bhaaii mar jaaai to hame isake iilaaj ke liai paisaa kharch naa karanaa padegaa. Tab usakee patnee ne kahaan kee kyo n kisee vaid se baat karake ise jahar de diyaa jaaai kisee ko pataa bhee naa chalegaa koii ristedaaree me bhee koii shak naa karegaa ki bimaar thaa bimaaree se mrityu ho gaii. Bade bhaaii ne aise hee kiyaa ek vaid se baat kee aap apanee fis bataa_au aisaa karanaa mere chhoṭe bhaa_ii ko jahar denaa hai ! Vaid ne baat maan lee aur ladake ko jahar de diyaa aur ladake kee mrityu ho gaii. Usake bhaaii bhaabhee ne khushee manaaii kee raaste kaa kaanṭaa nikal gayaa ab saaree sampati apanee ho gaii. Usakaa atinm snskaar kar diyaa. Kuchh maheeno pashchaat us kisaan ke bade ladake kee patnee ko ladakaa huaa ! Un pati patnee ne khub khushee manaaii,bade hee laaḍa pyaar se ladake kee paravarish kee gine dino me ladakaa javaan ho gayaa. Unhone apane ladake kee shaadee kar dee! Shaadee ke kuchh samay baad achaanak ladakaa beemaar rahane lagaa. Maan baap ne usake iilaaj ke liai bahut vaido se iilaaj karavaayaa. Jisane jitanaa paisaa maangaa diyaa sab diyaa kee ladakaa ṭheek ho jaaai. Apane ladake ke iilaaj me apanee aadhee sampati tak bech dee par ladakaa bimaaree ke kaaraṇa marane kee kaagaar par aa gayaa. Shareer itanaa jyaadaa kamajor ho gayaa kee asthi pijnr sheṣ rah gayaa thaa. Ek din ladake ko chaarapaaii par leṭaa rakhaa thaa aur usakaa pitaa saath me baiṭhaa apane putr kee ye dayaneey haalat dekh kar duahkhee hokar usakee aur dekh rahaa thaa! Tabhee ladakaa apane pitaa se bolaa kee bhaaii apanaa sab hisaab ho gayaa bas ab kafan aur lakadee kaa hisaab baakee hai usakee taiyaaree kar lo. Ye sunakar usake pitaa ne sochaa kee ladake kaa dimaag bhee kaam naa kar rahaa beemaaree ke kaaraṇa aur bolaa beṭaa mai teraa baap hun bhaaii nahee. Tab ladakaa bolaa mai aapakaa vahee bhaaii hun jo aap ne jahar khilaakar maravaayaa thaa jis sampati ke liai aap ne maravaayaa thaa mujhe ab vo mere iilaaj ke liai aadhee bik chukee hai aapakee kee sheṣ hai hamaaraa hisaab ho gayaa ! Tab usakaa pitaa fuṭ-fuṭ kar rote huve bolaa kee meraa to kul naash ho gayaa jo kiyaa mere aage aa gayaa par teree patnee kaa kyaa doṣ hai jo is bechaaree ko jindaa jalaayaa jaaaigaa(us samay sateeprathaa thee jisame pati ke marane ke baad patnee ko pati kee chitaa ke saath jalaa diyaa jaataa thaa). Tab vo ladakaa bolaa kee vo vaid kahaa jisane mujhe jahar khilaayaa thaa tab usake pitaa ne kahaa kee aap kee mrityu ke teen saal baad vo mar gayaa thaa. Tab ladake ne kahaa kee ye vahee duṣṭ vaid aaj meree patnee rup me hai mere marane par ise jindaa jalaayaa jaaaigaa.

Bandee chhod parameshvar kahate hai ki
tumane us daragaah kaa ,
mahal naa dekhaa dharmaraay legaa ,
teel teel kaa lekhaa.. Ek levaa ek devaa dutam ,
koii kisee kaa pitaa naa putam . Rriṇa sabndh judaa hai ṭhaaḍaa ,
ant samay sab baarah baaṭaa ..

Comments

comments